Showing posts with label State. Show all posts

अचानक दुल्हन के कमरे में घुस गई बिहार पुलिस, वजह जानकर हैरान रह गए लोग: देखें वीडियो


दुल्हन और उसके परिवार वाले उस वक्त दंग रहे गए जब कमरे में कुछ पुलिसकर्मीं घुसे और तलाशी लेने लगे, यह मामला बिहार का है, दरअसल बिहार में  शराबबंदी है. लेकिन चोरी-चुपके राज्य में शराब की बिक्री होती है, इसी की आड़ में जहरीली शराब की भी बिक्री होती है, आये दिन बिहार में जहरीली शराब पीने वालों की मृत्यु होती रहती है.

बिहार में अब शराब पीने और बेचने वालों के खिलाफ सघन अभियान चलाया जा रहा है. घर-घर शराब तलाशी जा रही है, इसी कड़ी में बिहार पुलिस पुलिस ने शराब की तलाश में दुल्हन के कमरे में घुस गई.

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो पोस्ट किया है. इसमें पुलिस बिना महिला सिपाही के दुल्हन के कमरे में जाकर तलाशी अभियान चला रही है और उसके कपड़ों तक की तलाशी लेती दिख रही है.

यह वीडियो एक होटल या घर का है, जहां किसी लड़की की शादी है. ऐसे में पुलिस अचानक शराबबंदी के तहत रेड मारती है और सभी कमरों की तलाशी लेती दिख रही है. इस बीच एक पुलिस अधिकारी दुल्हन के कमरे की जांच करता भी दिख रहा है. वीडियो में कोई महिला पुलिस दिखाई नहीं दे रही है. हालांकि, दुल्हन के रिश्तेदार वीडियो में दिखाई दे रहे हैं. 

वीडियो शेयर करते हुए राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट में लिखा, बिहार पुलिस शराबबंदी के नाम पर बिना महिला पुलिसकर्मियों के दुल्हन के कमरों और कपड़ों की तलाशी ले रही है। यह निजता के अधिकार का उल्लंघन है। बिहार में शराब कैसे व क्यों पहुँच रही है,कौन पहुँचा रहा है? उसकी जाँच और खोजबीन नहीं लेकिन उल्टा सनकी सरकार महिलाओं को ही परेशान कर रही है? अब लोग शादी करें या तानाशाह की सनक मिटाए। बिहार पुलिस, शराब माफिया और सरकार के गठजोड़ से ये खुद शराब मँगवाते, बेचते और बिकवाते है। उस पर कारवाई ना करने की बजाय आम नागरिकों को परेशान करना, उनकी निजता का उल्लंघन कर उनके निजी जीवन में अतिक्रमण करना कौन सा क़ानून है? CM जवाब दें।

भारत में ही हैं, महाराष्ट्र पुलिस से लग रहा डर, सुप्रीम कोर्ट में बोले परमबीर सिंह के वकील


सुप्रीम कोर्ट में आज मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की याचिका पर सुनवाई हुई, सुप्रीम कोर्ट में परमबीर के वकील पुनीत बाली ने स्पष्ट किया कि 'परमबीर सिंह भारत में ही हैं, लेकिन मुंबई पुलिस से डर लग रहा है, इसलिए सामने नहीं आ रहे हैं, उल्लेखनीय है कि परमबीर के देश छोड़कर भाग जाने की आशंका जताई गई है.

सुप्रीम कोर्ट ने फ़िलहाल परमबीर सिंह की गिरफ़्तारी पर रोक लगा दी है, कोर्ट ने परमबीर के खिलाफ सभी मुकदमों को रद्द करने या सीबीआई को ट्रांसफर करने की मांग पर नोटिस जारी किया. साथ ही, उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है. कोर्ट में मामले की अगली सुनवाई 6 दिसंबर को होगी. तब तक कोर्ट ने परमबीर से जांच में सहयोग करने के लिए कहा है.

18 नवंबर को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने परमबीर सिंह की याचिका पर सुनवाई से मना कर दिया था, जज साहब ने उनके वकील से पूछा था, "सबसे पहले हमें यह बताइए कि वह कहां हैं? देश में हैं या बाहर फरार हो गए हैं? इस जानकारी के बिना मामले पर सुनवाई नहीं हो सकती। आज सुनवाई शुरू होते ही पूर्व पुलिस कमिश्नर के लिए पेश वरिष्ठ वकील पुनीत बाली ने जजों को बताया, "मेरी उनसे खुद बात हुई है. वह भारत में ही हैं. लेकिन महाराष्ट्र में कदम रखते ही उन्हें खतरा है. इसलिए सामने नहीं आ रहे हैं. 

परमबीर सिंह आखिरी बार इस साल मई में अपने कार्यालय में आए थे जिसके बाद वे छुट्टी पर चले गए थे। राज्य पुलिस ने पिछले महीने बॉम्बे हाईकोर्ट को बताया था कि उनके ठिकाने का पता नहीं है।

हरियाणा सरकार के डीपीआरओ के फैक्ट चेक में झूठी निकली यह खबर


हरियाणा 21 नवंबर: सोशल मीडिया पर कई दिनों से एक अफवाह चल रही है कि हरियाणा सरकार ने रोडवेज बसों की रंग को बदल कर लाल कर दिया है, हरियाणा सरकार के डीपीआरओ विभाग ने एक फैक्ट चेक किया जिसमें खबर पूरी तरह झूठ पाई गई.

डीपीआरओ ने कहा है कि हरियाणा सरकार ने रोडवेज की बसों का रंग लाल नहीं किया है और जो अफवाह फैलाई जा रही है उसमें दिख रही बस की फोटो डीलक्स बस की है जिसका रंग पहले से ही लाल है.

एक खबरों को देखते हुए डीपीआरओ विभाग ने एक फैक्ट चेक ट्विटर हैंडल जारी किया है जिस पर फेक खबरों और फोटो को भेजने के लिए कहा गया है ताकि फैक्ट चेक करके उसकी सच्चाई जनता को बताई जा सके.