Showing posts with label Haryana. Show all posts

बडौली गांव की आशा वर्कर और उसका बेटा रंगे हाथों Rs 45000 के साथ लिंग जांच के आरोप में गिरफ्तार

 illegal-sex-determination-in-faridabad-asha-worker-arrested

फरीदाबाद, 15 दिसंबर। जिला फरीदाबाद और झज्जर की संयुक्त पीएनडीटी टीम ने बडी कार्यवाई करते हुए फरीदाबाद में अवैध लिंग जांच के गिरोह का पर्दाफाश किया है। 

सिविल सर्जन डॉ विनय गुप्ता ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग को काफी समय से सूचना मिल रही थी कि बरौली गांव में अवैध रूप से लिंग जांच का रैकेट चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि डा. हरीश आर्य के नेतृत्व में डाक्टर अजय और झज्जर टीम ने जाल बिछाकर इस काम की दलाल बडौली गांव की आशा वर्कर निर्मला और बेटे सुमित को रंगे हाथों 45000 रु के साथ लिंग जांच के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। 

उन्होंने बताया कि इस काम कासरगना दलाल अशोक भडाना फरार है। सिविल सर्जन डॉ विनय गुप्ता ने बताया कि यह गिरोह मोटी रकम ऐंठ कर अवैध लिंग जांच करवाता था। 

गिरोह के खिलाफ सेक्टर-7 थाने में PNDT Act की धारा 4, 5(2) व IPC 420, 120B में मुकदमा दर्ज हो गया है। भ्रूण हत्या पर लगाम कसने व प्रदेश का लिंगानुपात सुधार हेतु स्वास्थ्य विभाग निरंतर लगा हुआ है।

अगर किसी ने हरियाणा में अमित शाह की रैली को रोकने की कोशिश की तो झेलेगा खट्टर का कहर

haryana-cm-manohar-lal-khattar-warn-who-want-stop-amit-shah-rally

जींद 13 फरवरी: इसी महीनें 15 फ़रवरी को जींद में अमित शाह की रैली होने वाली है लेकिन कुछ राजनीति कपार्टियों ने अमित शाह की रैली को रोकने का ऐलान किया है, पहले जाटों ने रैली रोकने का ऐलान किया था लेकिन जाट नेताओं से मुलाक़ात के बाद खट्टर ने उन्हें मना लिया. अब इनेलो ने अमित शाह की रैली को रोकने का ऐलान किया है.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि वे 15 फरवरी, 2018 को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा संबोधित की जाने वाली रैली के प्रबंधों का जायजा लेने के लिए आज जींद के दौरे पर जा रहे हैं। आज यहां एक समारोह के दौरान पत्रकारों से बात करते हुए मनोहर लाल ने कहा कि रैली बिना किसी व्यवधान के आयोजित की जाएगी।

एक प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में एक राजनीतिक दल द्वारा दूसरे राजनीतिक दल की रैली का विरोध किया जाना अनुचित है। उन्होंने इसे एक घटिया और शर्मनाक कार्य बताया। उन्होंने यह भी कहा कि अगर किसी ने अनुचित हरकत की तो उसके खिलाफ कठोर एक्शन लिया जाएगा.

हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष का जन्मदिन मनाने जा रहे थे कांग्रेसी नेता हाजी खां, 2 को मार दिया

congress-leader-haji-sahab-khan-hit-and-run-case-2-people-dead

नई दिल्ली: हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष डाक्टर अशोक तंवर का आज जन्मदिन है और दूर दूर से उनके समर्थक आज उन्हें जन्मदिन की बधाई देने पहुँच रहे हैं। तंवर के ही कार्यक्रम में जा रहे कांग्रेसी नेता हाजी साहब खां पटवारी की गाड़ी से एक बड़ा हादसा हो गया जिसमें दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। 

बताया जा रहा है कि कांग्रेसी नेता हाजी साहब की गाड़ी तेज रफ़्तार में जा रही थी। हाजी साहब खां कांग्रेस कमेटी में सचिव के पद पर बताये जा रहे हैं जिनकी तेज गाड़ी ने एक बाइक सवार को टक्कर मार दी और बाइक पर सवार दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। मृतकों की पहचान हो गई है।

मृतक विमला और जयपाल बताये जा रहे हैं जो जुंगी गांव के हैं और बैंक से पैसे निकलवाने जा रहे थे। हाजी खां पुन्हाना के कांग्रेसी नेता हैं और हादसा ढाना बाईपास के पास बताया जा रहा है। दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि दुर्घटना के बाद कांग्रेसी नेता हाजी साहब वहां से भाग गए। काफी देर बाद एम्बुलेंस और पुलिस मौके पर पहुँची।

जीत गया पुलिस-प्रशासन, हार गयी युवा-एकता, युवाओं ने मजबूर होकर छोड़ा बॉबी कटारिया का आन्दोलन

bobby-kataria-yuva-ekta-endolan-end-youth-leave-protest-against-police

नई दिल्ली: बॉबी कटारिया को पुलिस ने इसलिए गिरफ्तार किया था ताकि भविष्य में कोई युवक पुलिस वालों की लाइव वीडियो ना बने सके, ऐसा काम करने वाले युवक डर जाएं और बॉबी कटारिया का अंजाम याद रखें.

बॉबी कटारिया के जेल जाने और उसके ऊपर कई FIR दर्ज होने के बाद भी युवा एकता आन्दोलन के लोग नहीं डरे और उसकी मदद के लिए आगे आये. पूरे देश में बॉबी कटारिया पर हुए जुल्म की आवाज पहुंचाई गयी.

शुरुआत में अजय चौधरी बॉबी कटारिया के आन्दोलन की अगुवाई करने के लिए आगे आये, उसके बाद बीरेंद्र सिंह ने मोर्चा सम्भाला और उसके बाद लुधियाना के हरमीत सिंह टिंकू ने मोर्चा सम्भाला.

इन युवाओं ने अपनी जान को खतरे में डालकर बॉबी के लिए काम करना शुरू किया, गुरुग्राम पुलिस के खिलाफ आवाज उठाने वालों पर पुलिस हमेशा नजर रख रही है, हाल ही में एक RTI एक्टिविस्ट के दोस्त को उठा लिया गया और उसे तीन दिन तक टॉर्चर किया गया. RTI एक्टिविस्ट आकाश मौर्या ने RTI एक्ट के तहत गुरुग्राम पुलिस से बॉबी कटारिया की जानकारी मांगी थी लेकिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने आ पहुंची, उन्हें पकड़ने की भूल में उनके दोस्त को ही उठा लिया.

कहने का मतलब ये है कि तीनों युवाओं ने अपनी अपनी जान को जोखिम में डालकर बॉबी कटारिया की मदद के लिए आन्दोलन खड़ा किया लेकिन अब तीनों ने आन्दोलन छोड़ दिया है. बॉबी कटारिया का परिवार ही नहीं चाहता कि कोई उसके समार्थन में बोले, इसलिए एक एक करके सभी आन्दोलन से दूर होते गए और अजय चौधरी और हरमीत सिंह भी मजबूर होकर अपने घर चले गए.

अजय चौधरी ने तो यहाँ तक कह दिया है कि हम लोग बेवकूफ थे जो आन्दोलन के लिए आगे आये और उसकी मदद की. अब हमारा बॉबी कटारिया और उसके परिवार से कोई मतलब नही है. हरमीत सिंह टिंकू भी अपने घर लुधियाना जा चुके हैं. 

इस तरह से युवाओं की एकता हार गयी जबकि गुरुग्राम का पुलिस प्रशासन जीत गया, अब शायद गुरुग्राम पुलिस की असलियत बाहर ना आने पाए क्योंकि बॉबी कटारिया के परिवार की वजह से कोई युवा आन्दोलन का नेतृत्व नहीं करेगा और पुलिस वालों के खिलाफ कोई आवाज नहीं उठा सकेगा, हो सकता है कि बॉबी कटारिया के रिहा होने के बाद वह भी डरकर चुप बैठ जाए क्योंकि अब आन्दोलन ही नहीं है तो बॉबी कटारिया अकेला क्या कर लेगा, कल को पुलिस के खिलाफ कुछ बोलेगा तो पुलिस उसे फिर से पकड़कर तीन चार दिन तोड़ेगी. उसकी मदद के लिए अब कोई युवा आएगा ही नहीं क्योंकि उसका परिवार ही यह सब नहीं चाहता और उसकी मदद करने वालों को बेइज्जती मिलती है.

जाट नेता यशपाल मलिक के सामने सीएम खट्टर ने जोड़े हाथ, प्यार से नहीं माने तो चलाएंगे डंडा

haryana-cm-manohar-lal-khattar-meet-yashpal-malik-before-amil-shah-byke-rally

नई दिल्ली: पिछले पांच वर्षों में हरियाणा के जाटों ने दो बार हरियाणा को जलाया है जबकि दो तीन बार जलाने की कोशिश फेल हुई है, एक बार खट्टर सरकार ने जाटों के सामने झुककर उनके साथ समझौता किया है जबकि एक बार पूर्व कांग्रेस सरकार उनके आगे झुकी है, कल हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने जाट नेता यशपाल मलिक के सामने हाथ जोड़े और उन्हें प्यार से मनाने की कोशिश की.

आपको बता दें कि 15 फ़रवरी को जींद में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की बाइक रैली है जिसके खिलाफ जाटों ने प्रदर्शन करने का फैसला किया है. जाट किसी भी कीमत पर यह रैली रोकने के लिए तैयार हैं और उनके आन्दोलन की अगुवाई आरक्षण संघर्ष समिति के नेता यशपाल मलिक कर रहे हैं.

इसी बात को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कल दिल्ली के हरियाणा भवन में यशपाल मालिक को बुलाकर उन्हें प्यार से समझाने की कोशिश की है, अगर वह प्यार से नहीं माने तो बाबा राम रहीम मामले में लोग खट्टर की ताकत देख चुके हैं.

इस मीटिंग में मुख्यमंत्री मनोहर लाल, हरियाणा प्रभारी अनिल जैन, राज्यसभा सदस्य भूपेंद्र यादव कैबिनेट मंत्री कृष्ण लाल पंवार मौजूद थे.

अमित शाह की रैली की बात करें तो प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है लेकिन जाट समुदाय के नेता कई जिलों में जिस तरह की धमकियां दे रहें हैं उसे देखकर प्रशासन पहले से सतर्क है. इसीलिये आज उन्होंने यशपाल मलिक को बातचीत के लिए बुलाया है। इस बैठक के नतीजे जल्द आ सकते हैं।

RTI कार्यकर्ता ने गुरुग्राम पुलिस से बॉबी कटारिया केस पर पूछा सवाल तो उसे उठाने पहुँच गयी CIA

gurugram-police-cia-arrested-rti-activist-friend-for-asking-bobby-kataria-case

नई दिल्ली: गुरुग्राम पुलिस निर्दोषों को झूठे मामले में फंसाने के लिए बदनाम है, प्रद्युमन मर्डर केस में गुरुग्राम पुलिस ने रयान स्कूल के बस कंडक्टर अशोक को हत्यारा घोषित कर दिया था लेकिन बाद में CBI जांच हुई और उसे छोड़कर एक अन्य छात्र को गिरफ्तार किया गया. अब बॉबी कटारिया पर कई मामले दर्ज करके उन्हें जेल भेजा गया है और उनपर लगे मामलों की जांच चल रही है. गुरुग्राम पुलिस के बारे में एक अखबार ने शर्मनाक खबर छापी है.

एक RTI कार्यकर्ता आकाश मौर्य उर्फ़ रवि ने बॉबी कटारिया मामले की जानकारी के लिए गुरुग्राम पुलिस से RTI के जरिये कुछ जानकारी मांगी थी, उन्हें जवाब तो नहीं मिला, पुलिस उनके पीछे पड़ गयी और एक दिन उन्हें उठाने के लिए पहुँच गयी. उनकी किस्मत अच्छी थी कि वह कार से पहले ही उतर चुके थे, स्कॉर्पियो कार से पहुंचकर गुरुग्राम के CIA स्टाफ ने उसकी कार रुकवाई और उसके दोस्त अफजल को ही गिरफ्तार कर लिया और तीन दिन उसे टॉर्चर किया, बाद में उसे जमानत मिल गयी लेकिन टॉर्चर के दौरान उससे आकाश मौर्य की जानकारी मांगी जाती रही.

खबर के अनुसार आकाश मौर्य दिल्ली के मयूर बिहार के रहने वाले हैं, उन्होंने 13 जनवरी को RTI Act के जरिये फरीदाबाद नीमका जेल में बंद बॉबी कटारिया के बारे में गुरुग्राम पुलिस से कुछ जानकारियाँ मांगी थीं, गुरुग्राम पुलिस ने उसे कोई जानकारी तो नहीं दी, 6 फ़रवरी को CIA स्टाफ को उन्हें उठाने के लिए भेज दिया.

6 फ़रवरी को गुरुग्राम पुलिस ने आकाश को उठाने की पूरी तैयारी कर रखी थी, स्कॉर्पियो गाडी उसके पीछे लग गयी, किसी काम से आकाश मौर्य अपनी कार से मयूर बिहार फेज 1 थाने से आधा किलोमीटर पहले ही उतर गए, उनकी कार में अफजल रह गया था. 

उसके उतरते ही गुरुग्राम पुलिस CIA की बिना नंबर प्लेट स्कॉर्पियो कार वहां पर पहुंची और उसके साथी अफजल को गन-पॉइंट पर ले लिया. आकाश काम समाप्त करके कार के पास आया तो देखा कि उसके दोस्त को गन-पॉइंट पर लोग ले जा रहे थे, उसनें अपहरण की आशंका से 100 नंबर पर फोन किया, पुलिस वहां पर आयी तो गुरुग्राम CIA की कार को रोक लिया, उनसे जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम गुरुग्राम CIA सेक्टर - 17 से हैं, हिरासत में लिए गए युवक पर चोरी का आरोप है, उसके बाद अफजल पर झूठा मामला दर्ज करके उसे तीन दिनों तक टॉर्चर किया गया. उसके बाद उसे जेल भेज दिया गया. कल उसे जमानत मिल गयी.

gurugram-police-cia-news

बॉबी कटारिया के परिवार की धमकी से पीछे हटे हरमीत सिंह, अब छोड़ देंगे बॉबी कटारिया के लिए बोलना

harmeet-singh-mintu-afraid-from-bobby-kataria-family-for-legal-action

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया की गिरफ्तारी के बाद कई लोग उसके समर्थन में आये, सोशल मीडिया पर अपना समय बर्बाद करके बॉबी कटारिया के लिए आन्दोलन खड़ा किया, पूरे देश में बॉबी कटारिया पर हुए जुल्म की आवाज पहुंचाई, अजय चौधरी, बीरेंद्र सिंह और हरमीत सिंह मिंटू ने समय समय पर आकर बॉबी कटारिया के समर्थन में आन्दोलन को जिंदा रखा और इन लोगों की वजह से ही बॉबी कटारिया के समर्थक आज भी बॉबी से जुड़े हुए हैं लेकिन अब इन लोगों को ही कानूनी कार्यवाही की धमकी दी जा रही है. यह धमकी बॉबी कटारिया और बॉबी कटारिया के परिवार की तरफ से दी गयी है.

बॉबी कटारिया की रिहाई के लिए उनके समर्थक परेशान हैं, लेकिन उनके परिवार द्वारा कानूनी कार्यवाही की धमकी दिए जाने के बाद हरमीत सिंह मिंटू भी आन्दोलन से पीछे हट रहे हैं, इससे पहले अजय चौधरी और बीरेंद्र सिंह आन्दोलन से हट चुके हैं, उन लोगों ने भी बॉबी कटारिया का काफी समर्थन किया, कई कई दिन तक उसके लिए आवाज उठायी लेकिन परिवार से धमकी मिलने के बाद अचानक गायब हो गए.

अब हरमीत सिंह मिंटू भी बॉबी कटारिया के समर्थन में आन्दोलन से पीछे हट रहे हैं, वह कई दिनों से लुधियाना से अपना घर छोड़कर गुरुग्राम, दिल्ली और फरीदाबाद की ख़ाक छान रहे हैं, वकीलों से मिलकर उनकी रिहाई के लिए परेशान हैं, लेकिन अब बॉबी कटारिया के परिवार ने कानूनी कार्यवाही की धमकी दी है तो वह भी पीछे हट रहे हैं.

बॉबी कटारिया के भाई समय कटारिया ने फेसबुक पोस्ट में चेतावनी दी है कि उनके वकीलों के बजाय अगर किसी समर्थन ने उनकी जमानत के लिए खुद से बेल एप्लीकेशन लगाई या किसी अन्य कार्यवाही में दखल दी तो उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी.

परिवार से इस प्रकार की धमकी मिलने के बाद हरमीत सिंह ने कहा कि अगर बॉबी कटारिया का परिवार ही नहीं चाहता कि मुझे उसके लिए कुछ करना चाहिए, उन्हें मेरी मदद चाहिए ही नहीं तो मुझे भी अब पीछे हट जाना चाहिए, लेकिन अगर उसे कभी मेरी जरूरत पड़ी तो मैं फिर मदद के लिए आगे आऊंगा लेकिन फिलहाल तो मैं अपने घर लुधियाना वापस जा रहा हूँ.

उन्होंने यह भी बताया कि बॉबी कटारिया को दो केसों में जमानत मिल चुकी है जबकि दो में एंटी-सिपेटरी बेल मिली है, अभी उनपर तीन मामले और हैं.

बॉबी कटारिया के समर्थकों सावधान, अगर जेल से निकलवाने की कोशिश की तो परिवार लेगा लीगल एक्शन

bobby-kataria-family-will-take-legal-action-who-file-bail-application

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया के जेल जाने के बाद उसके लाखों समर्थक बहुत परेशान हैं और उसे जेल से बाहर देखना चाहते हैं, कुछ लोग अपने वकीलों के जरिये भी बॉबी कटारिया के लिए जमानत अर्जी डाल रहे हैं, खुद ही अपना पैसा खर्च करने को तैयार हैं लेकिन अब ऐसे लोगों को सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि अगर उन्होंने खुद से बॉबी कटारिया के लिए जमानत की अर्जी डाली तो बॉबी कटारिया का परिवार उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर सकता है.

बॉबी कटारिया के भाई समय कटारिया ने फेसबुक पोस्ट पर समर्थकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि बिना परिवार की सहमति लिए कोई भी जमानत की अर्जी ना लगाएं, अगर किसी ने बिना हमसे पूछे बॉबी कटारिया मामले में जमानत अर्जी दाखिल की तो हम उस व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्यवाही के लिए बाध्य होंगे.

samay-kataria-appeal

बॉबी कटारिया के भाई ने बॉबी कटारिया का एक पत्र भी पोस्ट किया है जिसमें उन्होंने लिखा है कि - मैं बॉबी कटारिया S/o नरेन्द्र कटारिया, अपने सभी परिवार वालों को कहना चाहता हूँ कि मेरी पैरवी इन वकीलों से कराएं और कोई बीच में ना आएं.

फरीदाबाद - पराशर जी, राव जी.
गुरुग्राम - एस एस चौहान जी
चंडीगढ़ - रवींद्र ढुल जी.

bobby-kataria-letter-for-his-supporter

छुट्टी पर घर आये BSF जवान ने कुल्हाड़ी से पत्नी की गर्दन काटकर खुद को लगा ली फांसी, पढ़ें

bsf-jawan-jai-prakash-killed-wife-and-hang-himself-in-revari-haryana

रेवाड़ी, 7 फरवरी: रेवाड़ी: हरियाणा के रेवाड़ी जिले से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आयी है. बीएसएफ के एक जवान ने कुल्हाड़ी से पहले अपनी पत्नी के गर्दन पर वार कर निर्मम हत्या कर दी और उसके बाद खुद को फांसी लगा ली। घर में मौजूद वृद्ध मां ने जब यह खूनी नजारा देखा तो उसने शोर मचाकर पड़ोसियों को बुलाया। तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी। 

जैसे ही यह खबर गांव में फैली तो पूरा गांव घर के बाहर जमा हो गया और इसकी सूचना जाटूसाना पुलिस को दे दी गई। पुलिस ने घटनास्थल से कुल्हाड़ी बरामद कर मामले की जांच शुरू कर दी। मौके से अभी तक ऐसा कोई पुर्जा व सुराग नहीं मिला, जिससे हत्या व आत्महत्या करने का राज खुल सके। 

जानकारी अनुसार जिला के गांव कुमरोधा निवासी 44 वर्षीय जयप्रकाश बीएसएफ में उप निरीक्षक के पद पर नोएडा दिल्ली में कार्यरत था। वह अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। पिता की मौत हो चुकी है और परिवार का गुजारा जयप्रकाश की आय से ही चल रहा था। उसके 13 व 16 साल के दो लडक़े हैं। 14 जनवरी को वह छुट्टी लेकर घर आया था। 

गांव के महिला सरपंच के पति धर्मपाल ने कहा कि इस दिल दहला देने वाली घटना से पूरा गांव स्तब्ध है। जयप्रकाश के जाने के बाबद वृद्धा मां की लाठी टूट गई है, वहीं बच्चे अनाथ हो गए हैं। बूढ़ी मां बार-बार बेटे का नाम लेकर आवाज लगाती है। उसके पास बच्चों को पालने के लिए कोई सहारा नहीं बचा है।

बताया जाता है कि उसका अपनी पत्नी सुमनलता के साथ पारिवारिक कलेश रहता था। मंगलवार दोपहर 2:30 बजे जयप्रकाश की अपनी पत्नी सुमनलता के साथ कहासुनी हो गई। जिसके चलते आवेश में आकर उसने कुल्हाड़ी से सुमन की गर्दन पर ताबड़तोड़ हमला कर मौत के घाट उतार दिया। कमरे में चारों ओर खून ही खून फैल गया। पत्नी का मौत के घाट उतारने के बाद वह घबरा गया और उसने स्वयं भी पंखे को नीचे उतारकर उसके हुक से फांसी लगाकर जान दे दी। 

जिस समय यह खूनी खेल हुआ उस समय जयप्रकाश की वृद्ध मां ही घर पर थी। उसके दोनों बच्चे स्कूल गए हुए थे। मां ने जब यह खूनी नजार देखा तो वह सहम गई और चिल्लाते हुए घर से बाहर निकलकर लोगों को इसकी सूचना दी। देखते ही देखते सैकड़ों लोगों की भीड़ मौके पर जमा हो गई। जाटूसाना थाना पुलिस को इसकी सूचना दे दी गई। पुलिस ने जब कमरे में प्रवेश किया, तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी। कमरे में पत्नी का लहुलुहान शव पड़ा था और पास ही जयप्रकाश फांसी पर लटका हुआ था। ग्रामीणों के अनुसार गनीमत यह रही कि जयप्रकाश के दोनों बच्चे उस समय स्कूल गए हुए थे। अन्यथा जयप्रकाश का क्रोध बच्चों को भी नुकसान पहुंचा सकता था। सूचना के बाद पहुंची जाटूसाना पुलिस ने जयप्रकाश का शव नीचे उतारा और पति-पत्नी के शव का पंचनामा कर ग्रामीणों व मां से पूछताछ शुरू कर दी। देर शाम तक पुलिस जांच में जुटी थी। 

जाटूसाना थाना प्रभारी हीरामणि ने कहा कि पति-पत्नी के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया है। बुधवार को इनका पोस्टमार्टम होगा। फिलहाल मृतक जयप्रकाश के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया जा रहा है। मामले की छानबीन में पता चला है कि पति-पत्नी में मनमुटाव रहता था। (रिपोर्टर: दिनेश चौहान).

फरीदाबाद-गुरुग्राम टोल प्लाज़ा पर बस ड्राईवर-कंडक्टर और टोल प्लाज़ा कर्मचारियों के बीच मारपीट

faridabad-gurugram-toll-plaza-bus-driver-conductor-toll-plaza-scuffle

फरीदाबाद: फरीदाबाद-गुरुग्राम हाईवे पर टोल प्लाज़ा पर आज एक बस के ड्राईवर-कंडक्टर और टोल प्लाज़ा कर्मचारियों के बीच जमकर मारपीट हुई. मारपीट का यह वीडियो CCTV कैमरे में रिकॉर्ड हो गया. कई लोगों को चोटें आयी हैं. 

पुलिस ने CCTV फुटेज को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है. पिछले कुछ समय से टोल प्लाज़ा पर झड़प आम बात हो गयी है. आज भी पर्ची को लेकर विवाद हो गया, जिसके बाद बस कंडक्टर बस से उतरकर टोल प्लाज़ा कर्मचारी को पीटने लगा, उसके बाद बस ड्राईवर भी आ गया और देखते ही देखते मारपीट शुरू हो गयी. 

ACP की बेटी की शादी में मिला 11 लाख का कन्यादान, 1 रुपये बेटी को दिया, बाकी गरीबों को किया दान

faridabad-acp-crime-rajesh-chechi-donate-10-lakh-to-poor-beti-marriage

फरीदाबाद: कुछ लोग पुलिस वालों को बुरा भला कहने में अपनी शान समझते हैं लेकिन पुलिस विभाग में ऐसे ऐसी अधकारी भी हैं जो महान कार्य करते रहते हैं, ऐसा ही बढ़िया काम फरीदाबाद के क्राइम ब्रांच विभाग के इंचार्ज ACP राजेश चेची ने किया है जिसे देखकर हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है.

कल राजेश चेची की बेटी की शादी थी, उन्होंने पहले ही अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को लिफाफा ना लाने की अपील की थी लेकिन कुछ लोग नहीं माने और अपने साथ लिफ़ाफ़े लेकर गए. 

उनकी बेटी के लिए कुल 10 लाख 75 हजार का कन्यादान मिला. राजेश चेची ने किसी दोस्त को इनकार करके उनका दिल दुखाना सही नहीं समझा क्योंकि वह पहले ही उन्हें लिफाफा ना लाने के लिए बोल चुके थे, उन्होंने दान में आये 10.75 लाख में से सिर्फ 1 रूपया अपनी बेटी को दिया जबकि बाकी 10 लाख 74999 रुपये गरीबों को दान दे दिया.

उन्होंने सारा पैसा ‘प्रयास वेलफेयर सोसाइटी’ को दिए गए हैं जो लगभग 7000 गरीब बच्चों को शिक्षा व 1200 बच्चों को Vocational Training देने का काम करती है तथा वहां हर माह 5 से 6 हजार under privileged लोगों की स्वास्थ्य जांच व इलाज करवाया जाता है।  

प्रयास को सारा पैदा दान करने के बाद राजेश चेची ने अपने दोस्तों को सन्देश दिया, आप देखना आपका ये पुण्य दान जल्द ही आपके जीवन में कुछ अच्छे के रूप में सामने आएगा।

एसीपी साहब की इस शुरुआत से आने वाले दिनों में फरीदाबाद के गरीबों का, अनाथों का भाग्य बदल जाएगा। शहर में एक से बढ़कर एक उद्योगपति हैं और बड़े कारोबारी हैं। आने वाले समय में वो भी ऐसी मदद कर सकते हैं।

CBI की गिरफ्त में बुरी तरह से फंसे भुपिंदर सिंह हुड्डा, एक और मामले में होगी चार्जशीट दायर

cbi-filed-chargesheet-in-another-case-against-bhupinder-singh-huda

नई दिल्ली: हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की मुसीबत और बढ़ गई है। हुड्डा पर सीबीआई लगातार शिकंजा कसती चली जा रही है। आने वाले 1-2 महीनें हुड्डा के लिए बहुत भारी पड़ सकते हैं। मानसेर जमीन प्रकरण की चार्जशीट दाखिल करने के बाद अब सी.बी.आई. टीम जल्द ही पंचकूला के औद्योगिक प्लाट आबंटन मामले की चार्जशीट भी दाखिल कर सकती है।

सूत्रों की मानें तो इस मामले में जांच प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। अगले कुछ दिनों में इस प्रकरण की चार्जशीट भी पंचकूला की सी.बी.आई. कोर्ट में दायर की जाएगी। माना जा रहा है कि अगला एक माह हुड्डा के लिए बेहद कठिन होगा। वैसे तो हुड्डा सरकार में हुई अनियमितताओं के करीब 100 मामलों की जांच विजीलैंस ब्यूरो द्वारा की जा रही है लेकिन 3 केस ऐसे हैं जिनमें हुड्डा अपने नाम या पद के अनुसार कथित आरोपी के रूप में लिप्त हैं। इससे अलग ढींगरा आयोग की रिपोर्ट भी सार्वजनिक होने के बाद हुड्डा के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती हैं।

पंचकूला के औद्योगिक प्लाट आबंटन मामले में सी.बी.आई. ने 21 मई 2016 को मुकद्दमा दर्ज करने के बाद देशभर में 16 स्थानों पर छापामारी की थी। इस दौरान सी.बी.आई. ने कई अहम दस्तावेज बरामद किए थे। खास बात यह थी कि इस मामले में सी.बी.आई. ने प्लाट लाभार्थियों के घरों पर भी छापामारी की थी और कई बार उन्हें पूछताछ के लिए भी मुख्यालय बुलाया था। सूत्रों की मानें तो इस प्रकरण की जांच प्रक्रिया पूरी हो चुकी है जहां अब सी.बी.आई. टीम की ओर से जल्द चार्जशीट दायर करने की तैयारी है।

पंचकूला औद्योगिक प्लाट आबंटन की जांच में सी.बी.आई. को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। सी.बी.आई. ने अपनी जांच में पाया है कि पूर्व की हुड्डा सरकार ने नियमों को ताक पर रखकर अपने चहेतों को प्लाट आबंटित किया। प्लाट आबंटन में न तो औद्योगिक घरानों का पैमाना देखा गया और न ही आबंटियों का बैकग्राऊंड। सी.बी.आई. जांच में साफ है कि अधिकांश प्लाट धारकों की मंशा उद्योग लगाने की नहीं, बल्कि महंगे दामों पर प्लाट बेचकर कमाई करने की रही है। हालांकि इससे पूर्व विजीलैंस जांच में ही यह बात साफ हो गई थी कि पूर्व हुड्डा सरकार ने अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए रात को नियम बनाए और सुबह उन्हें लागू कर दिया, दोपहर में चहेतों को नए नियमों के तहत लाभ पहुंचा दिया।

हरियाणा के छोरों ने निकाला कश्मीर में सैनिकों पर पत्थरबाजी का गुस्सा, कश्मीरी छात्र को पीटा

kashmiri-student-beaten-by-haryana-youth-at-haryana-central-university

महेंद्रगढ़: भारत में हरियाणा राज्य से सबसे अधिक युवा फ़ौज में जाते हैं क्योंकि ये युवक कद काठी से काफी मजबूत होते हैं, फ़ौज में इनकी ज्यादा संख्या होने की वजह से कश्मीर में इनकी ड्यूटी भी ज्यादा लगती है और पत्थर भी अधिक यही लोग खाते हैं क्योंकि वहां के एंटी-नेशनल युवक फौजियों को देखते ही उनपर पत्थरबाजी कर देते हैं. शायद इसी पत्थरबाजी गुस्सा हरियाणा के छोरों ने एक कश्मीर छात्र को पीटकर निकाला है हालाँकि यह कानूनन गलत है और हम इसका समर्थन नहीं करते हैं.

यह घटना हरियाणा सेंट्रल यूनिवर्सिटी महेंद्रगढ़ की है. MSc जियोग्राफी के छात्र आफताब ने बताया कि - यह वारदात शुक्रवार (2 फरवरी) को उस वक्त हुई जब वह कैम्पस के बाहर नमाज अदा करने के बाद वापस यूनिवर्सिटी लौट रहा था। उसी वक्त 15-20 लोगों के समूह ने उसका पीछा किया और उसे पकड़कर बुरी तरह से पीट दिया था.

अब इस मामले ने तूल पकड़ लिया है क्योंकि जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती, पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला सहित तमाम बड़े नेताओं ने हाय-तौबा मचा दी है और दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है. कश्मीरी छात्रा आफताब ने स्वयं ही बड़े नेताओं और अफजल गैंग मीडिया एवं पत्रकारों को ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है. आप खुद देखिये -  

इस मामले में हरियाणा पुलिस ने ना सिर्फ FIR दर्ज की है बल्कि 3 लोगों को गिरफ्तार भी किया है,  3 अन्य लोगों की पहचान की गयी है जिन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है.

भगवा देखकर गोली मारने वाले जिहादियों को बीजेपी नेताओं ने सूरजकुंड में भगवामय होकर दिया जवाब

yogi-adityanath-and-bjp-leader-wear-bhagwa-pagadi-in-surajkund-mela

फरीदाबाद: कासगंज में तिरंगा यात्रा निकालने वाले चन्दन गुप्ता को गोली मारने वाले जिहादियों के समर्थकों ने बहाना बनाया था कि चन्दन गुप्ता ने भगवा झंडा भी उठा रखा था जिसे देखकर गोली मारी गयी, कांग्रेस, सपा ने भी भगवा झंडा का बहाना बनाकर चन्दन गुप्ता और उसके साथियों को गुंडा बता दिया. अफजल गैंग ने भी भगवा झंडा का बहाना बनाकर गोली मारे जाने को सही ठहराने की कोशिश की, किसी ने चन्दन गुप्ता के लिए एक शब्द नहीं कहे लेकिन गोली मारने वालों के समर्थन में पूरी ताकत लगा दी.

आज बीजेपी नेताओं ने भगवामय होकर जिहादियों को जवाब दिया है, आज सूरजकुंड मेले के उद्घाटन अवसर पर सभी बड़े बीजेपी नेताओं ने अपने सर पर भगवा पगड़ी बाँधी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तो हमेशा भगवा वस्त्र में ही रहते हैं, आज हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, केंद्रीय मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर, बीजेपी के महामंत्री अनिल जैन, कैबिनेट मंत्री राम विलास शर्मा ने अपने सर पर पगड़ी बांधकर भगवा से नफरत करने वालों को जवाब दिया.

इसके अलावा सूरजकुंड के गेट पर भी भगवा झंडा लगा दिखा, पूरा मेला ही भगवा लग रहा था. मेले को भगवा रंग में रंगकर बीजेपी ने भगवा रंग से जलने वाली राजनीतिक पार्टियों और जिहादियों को जवाब दिया. इसके साथ ही सूरजकुंड मेले को साल में दो बार आयोजित करने की बात की गयी.

देश तोड़ने वालों के लिए बुरी खबर, योगी-खट्टर ने कर लिया जोड़ने के प्लान पर समझौता, पढ़ें

cm-yogi-cm-manohar-lal-khattar-signed-mou-reciprocal-transport-agreement

फरीदाबाद (सूरजकुंड), 2 फरवरी: देश तोड़ने वालों के लिए बुरी खबर है क्योंकि केंद्र की भाजपा सरकार और राज्य की भाजपा सरकारों ने अब जोड़ने का फार्मूला ढूंढ निकाला है, आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बीच पारस्परिक परिवहन समझौता किया गया जिसमें दोनों राज्य एक दूसरे एक राज्य में अपने अपने बसें चलाएंगे और एक दूसरे राज्य में स्थित तीर्थ स्थलों और पर्यटन स्थलों के दर्शन कराएंगे, इससे ना सिर्फ दोनों राज्यों का राजस्व बढेगा बल्कि दोनों राज्यों के लोग भी एक दूसरे से जुड़ेंगे.

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि भारत की संस्कृति एक है, हमारी संस्कृति हमें जोडती हैं लेकिन राजनीति पार्टियाँ राज्यों को अलग करती है, हर कोई अयोध्या में राम मंदिर,काशी में विश्वनाथ मंदिर और मथुरा में बांके बिहारी मंदिर के दर्शन करना चाहता है लेकिन पूर्व सरकारों ने नागरिकों की सुविधाओं का ध्यान नहीं रखा, एक दूसरे को जोड़ने की कोशिश नहीं की, यही देखते हुए हरियाणा सरकार के साथ यूपी सरकार ने एक MOU साइन किया है जिसमें दोनों राज्यों की बसें एक दूसरे के राज्यों में जाएंगी और एक दूसरे के पर्यटन स्थलों के दर्शन कराएंगी.

दोनों मुख्यमंत्रियों ने किया MoU पर साइन

हरियाणा और उत्तर प्रदेष के यात्रियों को सुविधाएं देने के मदेनजर आज हरियाणा सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार के मध्य हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में पारस्परिक परिवहन समझौता किया गया।

क्या होगा MoU का असर

आज के समझौते के आधार पर उत्तर प्रदेश के 256 मार्गों पर हरियाणा राज्य की 423 बसों द्वारा 66420 किलोमीटर का संचालन किया जाएगा तथा उत्तर प्रदेश की 522 बसों द्वारा हरियाणा राज्य के 256 मार्गों पर 50034 किलोमीटर का संचालन किया जाएगा। 

योगी के विधायक अवतार भड़ाना को सूरजकुंड मेले में नहीं मिली VIP सीट तो उनके घर पहुँच गए YOGI

cm-yogi-adityanath-visit-avtar-bhadana-home-in-anagpur-faridabad

फरीदाबाद: अवतार सिंह भडाना भले ही अब उत्तर प्रदेश के मीरपुर से विधायक हैं लेकिन वह 3 बार फरीदाबाद के सांसद रह चुके हैं, इतने बड़े नेता को आज राजनीतिक कारणों से सूरजकुंड मेले में VIP सीट नहीं दी गयी और उन्हें किसी और की कुर्सी पर उसकी गोद में बैठे देखा गया. योगी ने आज सूरजकुंड मेले का उद्घाटन किया था और मुख्य अतिथि थे लेकिन अवतार भडाना की तौहीन की खबर उनतक पहुँच गयी.

योगी ने इसके बाद वो किया जिसे देखकर लोग हैरान रह गए, योगी ने अनंगपुर में अवतार भडाना के घर जाकर उनका कद बढ़ा दिया और उनके अपमान का बदला भी ले लिया.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अवतार भड़ाना के घर अनंगपुर पहुंचे और बाकायदा चाय पानी पीकर उनका मान सम्मान बढाया। 

इस अवसर पर अवतार भडाना ने योगी से बताया कि योगी जी आप ही मेरे मुख्यमंत्री हो और प्रधानमंत्री हो, मैं तो आपको मोदीजी जैसा ही समझता हूँ, मेरे राजनीति जीवन में मुझपर आज तक एक भी लांछन नहीं लगा उसके बाद भी मेरे साथ आज ऐसा अपमानजनक व्यवहार किया गया लेकिन आपने मेरे घर पर आकर मेरा मान सम्मान बढाया है.

योगी की एक झलक पाने के लिए सूरजकुंड मेले में टूट पड़े लोग, छूट गए सुरक्षाबलों के पसीनें

up-cm-yogi-adityanath-in-surajkund-international-crafts-mela-news

फरीदाबाद, 2 फ़रवरी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज सूरजकुंड इंटरनेशनल क्राफ्ट्स मेला का उद्घाटन किया, उनके साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और अन्य कई मंत्री भी थे लेकिन हर कोई सिर्फ योगी की एक झलक देखना चाहता था, जैसे ही योगी आदित्यनाथ मेले के गेट से बाहर पहुंचे और फीता काटकर मेले का उद्घाटन किया, उनको कैमरे में कैद करने के लिए मीडिया का क्रेज देखते ही बनता था.

योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा के लिए कम से कम 1000 पुलिस के जवान और सैकड़ों NSG कमांडों मेले में मौजूद थे, इतने सुरक्षाकर्मी होने के बाद भी उन्हें योगी को सुरक्षा देने और आम जनों को उन तक पहुँचने से रोकने में पसीनें छूट गए, हालत यह हो गयी कि सजावट की चीजें, पौधे और गमले तक टूट गए, लोगों को जहाँ से भी जहाँ मिली वहां से चलने लगा. 

योगी और खट्टर मेले में कई स्टालों पर गए और वहां के कलाकारों से बात करके उनका हौसला बढाया, बाद में कार्यक्रम को संबोधित किया जिसमें भारत को एक करने के कई फ़ॉर्मूले बताये और भारत को तोड़ने की कोशिश करने वालों को कड़ा सन्देश दिया. योगी ने कहा कि हमारी संस्कृति हमें जोडती हैं लेकिन राजनीति हमें अलग करती है, हर कोई अयोध्या में राम मंदिर,काशी में विश्वनाथ मंदिर और मथुरा में बांके बिहारी मंदिर के दर्शन करना चाहता है लेकिन पूर्व सरकारों ने नागरिकों की सुविधाओं का ध्यान नहीं रखा, यही देखते हुए हरियाणा सरकार के साथ यूपी सरकार ने एक MOU साइन किया है जिसमें दोनों राज्यों की बसें एक दूसरे के राज्यों में जाएंगी और एक दूसरे के पर्यटन स्थलों के दर्शन कराएंगी.

परेशान हुए बॉबी कटारिया के लाखों समर्थक, उनका मेन पेज डिलीट, दूसरा पेज भी हुआ इनएक्टिव

support-bobby-kataria-page-deletetd-yuva-ekta-jindabad-inactive

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया के लाखों समर्थक परेशान हो गए हैं क्योंकि कल उनका मेंन पेज Support Bobby Kataria अचानक फेसबुक से गायब हो गया, इस पेज पर करीब 2.80 लाख लाइक थे जबकि 3 लाख से अधिक फॉलोवर थे.

इसके बाद जब अचानक दूसरा पेज Bobby Kataria - Yuva Ekta Foundation भी इनएक्टिव हो गया है, इसपर भी कोई सूचना नहीं आ रही है, इस पेज पर एक सिख युवक हरमीत सिंह वीडियो पोस्ट करते थे और हमेशा सूचनाएं देते रहते थे लेकिन अब वह भी गायब हो गए हैं.

इससे पहले दोनों पेजों पर अजय चौधरी और बीरेंद्र सिंह एक्टिव होते थे और बॉबी कटारिया के समर्थकों को सूचनाएं देते थे लेकिन वे लोगों भी गायब हो गए.

लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि बॉबी कटारिया की टीम के लोग अचानक कहाँ गायब हो रहे हैं, पहले ये लोग गायब हो गए और अब मेन पेज गायब हो गया. जबकि दूसरा पेज भी इनएक्टिव हो गया.

आपको बता दें कि इन दोनों पेजों पर ही बॉबी कटारिया दहाड़ते थे और लाइव वीडियो बनाकर भ्रष्टाचारियों और पुलिस प्रशासन की नींद उड़ाते थे.

डिलीट हुआ फेसबुक पेज जिसपर दहाड़ते थे बॉबी कटारिया, उसकी वर्षों की मेहनत पर फिरा पानी

bobby-kataria-page-support-bobby-kataria-delete-from-facebook

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया के समर्थकों के लिए बुरी खबर है क्योंकि जिस फेसबुक पेज पर बॉबी कटारिया दहाड़ते थे और लाइव वीडियो बनाकर भ्रष्टाचारियों और पुलिस प्रशासन की नींद उड़ाते थे, वह पेज किसी ने डिलीट कर दिया है. बॉबी कटारिया का पेज Support Bobby Kataria अब फेसबुक से गायब है, पेज का लिंक हट चुका है.

बॉबी कटारिया के करीब 3 लाख फॉलोवर हो चुके थे, जेल जाने के बाद पेज पर से ही आन्दोलन शुरू किया गया था, पुलिस के काले कारनामों के सभी वीडियो उसके पेज पर शेयर किये जाते थे, जिसकी वजह से पुलिस की भी नींद उड़ चुकी थी, इसलिए कोई ना कोई साजिश करके पेज को डिलीट कर दिया गया.

बॉबी का पेज दो लोग डिलीट कर सकते हैं, या तो खुद बॉबी या उसका कोई साथी. उसके पेज पर पिछले दिनों कई लोग एक्टिव थे, कई लोग एक्टिव होकर गायब हो चुके थे, कई लोग नए लोगों के आने से नाराज भी थे क्योंकि उनकी मेहनत को भुलाया जा रहा था. यह भी हो सकता है कि किसी ने खुंदक में पेज डिलीट कर दिया हो. यह भी हो सकता है कि पुलिस ने बॉबी कटारिया पर दबाव बनाकर जेल में से उसके पेज को डिलीट करवा दिया हो.

सूरजपाल अमू बोले, हमारे जाने से आपको कोई फर्क नहीं पड़ेगा, आपके बिना हमें भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा

surajpal-amu-said-i-leave-bjp-forever-resign-from-primary-membership

नई दिल्ली: बीजेपी में 20 साल काम करने के बाद आज सूरजपाल अमू ने बीजेपी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफ़ा देकर पूरी तरह से पार्टी से रिश्ता ख़त्म कर लिया, कल रात जेल से आजाद होने के बाद ही उन्होंने हमेशा के लिए बीजेपी से रिश्ता ख़त्म कर लिया था, इससे पहले उन्होंने हरियाणा बीजेपी मीडिया कोऑर्डिनेटर के अपने पद से इस्तीफ़ा दिया था.

पद्मावती फिल्म के विरोध में उपजी हिंसा भड़काने के आरोप में उन्हें गुरुग्राम पुलिस ने गिरफ्तार किया था, उन्हें 6 दिनों तक जेल में रखा गया और आज जमानत मिल गयी.

पार्टी से अलग होने के बाद उन्होने बीजेपी को सन्देश दिया, हमें पता है कि हमारे जाने से आपको कोई फर्क नहीं पड़ेगा, लेकिन आपको छोड़ने के बाद हमें भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि मेरी वजह से कुछ लोगों को बहुत परेशानी थी, अब उनकी परेशानी दूर हो जाएगी, कुछ लोग खुश होंगे, उनके घरों में लड्डू बंट रहे होंगे.

उन्होंने कहा कि मेरी कोई गलती नहीं थी जिसकी वजह से मुझे जबरदस्ती जेल में रखना पड़े उसके बाद भी ऐसा किया गया, इसके बाद भी मुझे किसी से शिकायत नहीं है.