Jan 12, 2018

देर से ही सही लेकिन जागने लगा माडिया, दैनिक भास्कर ने बताया बॉबी कटारिया की माँ का दर्द, पढ़ें


dainik-bhaskar-publish-news-on-bobby-kataria-gurugram-police-torture

गुरुग्राम: जिस दिन गुरुग्राम के समाजसेवक बॉबी कटारिया को गुरुग्राम पुलिस ने गिरफ्तार किया था और पर्स चोरी का केस लगाकर दूसरे दिन कोर्ट में पेश किया और 4 दिनों के रिमांड में लिया, उस वक्त बेस्ट हिंदी न्यूज़ और एक दो अन्य को छोड़कर देश के किसी भी मीडिया ने बॉबी कटारिया की खबर नहीं छापी, उसके बाद गुरुग्राम पुलिस ने दो दिन के लिए फिर से रिमांड में लिया, उसके बाद उन्हें फरीदाबाद पुलिस ने 2 दिन के रिमांड पर लिया, उसके बाद उन्हें नीमका जेल में बंद कर दिया गया. करीब 12-15 दिनों तक किसी भी बड़े मीडिया ने बॉबी कटारिया की खबर नहीं छापी. देखने पर ऐसा लगता था कि या तो मीडिया बिक गयी है या उन्होंने बॉबी कटारिया की कोई भी खबर ना छापने की कसम खा ली है.

लेकिन अब मीडिया की नींद खुलने लगी है. आज दैनिक भास्कर ने बॉबी कटारिया मामले की खबर छापकर उनकी माँ का दर्ज दिखाया है. उनकी माँ ने 10 दिनों पहले मोदी सरकार से रो रो कर बताया था कि गुरुग्राम पुलिस ने उनके बॉबी कटारिया को इतना मार दिया है कि वह खड़ा भी नहीं हो पा रहा है. यह खबर दैनिक भास्कर ने आज छापी है और देशवासियों को उनकी माँ का दर्द दिखाया है.

क्या छापा है दैनिक भास्स्कर ने पढ़ें 

"यू-ट्यूब और फेसबुक पर पुलिस पर सवाल खड़े कर वीडियो बनाने वाले बॉबी कटारिया पिछले कुछ दिनों से न्यायिक हिरासत में हैं। उनके पक्ष में सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाया जा रहा है, बॉबी के समर्थक पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहे हैं। इन सबके बीच बॉबी की मां ने रोते हुए दर्द बयान किया है। उनका कहना है कि उसके बेटे को पुलिस ने उठा लिया। उसे रिमांड के दौरान बेरहमी से पीटा गया है। उसे इतना पीटा गया था कि उससे खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था। उन्होंने पीएम से गुहार लगाई है कि उसके बेटे को इंसाफ दिलाया जाए। आरोप लग रहे हैं कि पुलिस ने बदले की भावना से कार्रवाई की है, क्योंकि बॉबी पुलिस के खिलाफ अकसर गालियों वाली वीडियो बनाता था और वायरल कर देता था।कैंडल मार्च निकालकर जताया विरोध...

- वहीं बॉबी कटारिया के पक्ष में सोशल मीडिया के साथ-साथ जमीनी स्तर पर कैंपेन चला रही संगिता दहिया ने कैंडल मार्च निकाला।
- इस कैंडल मार्च में बॉबी की मां, परिवार और समाज के लोग भी शामिल हुए। संगीता दहिया का कहना था कि पुलिस ने मार्च के दौरान उन्हें रोका, यह गलत है।
- संगीता ने कहा कि कैंडल मार्च सरकार और पुलिस पर दबाव बनाने के लिए था लेकिन अब सरकार नहीं मानती तो कोर्ट की लड़ाई लड़ी जाएगी।
- बता दें कि बॉबी कटारिया के पक्ष में जाट आरक्षण आंदोलन से जुड़े हुए संदीप भारती, साध्वी देवा ठाकुर और कई सामाजिक संस्थाएं आवाज उठा चुकी हैं।

हाईकोर्ट के वकील देख रहे अब इस मामले को
- बॉबी के परिवार ने अब पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के वकील रविंद्र सिंह ढुल से हाईकोर्ट में गुहार लगाने की मांग की है। वकील रविंद्र सिंह ढुल अब इस मामले को देख रहे हैं। वे अब बॉबी पर दर्ज मामलों व उसे बेल दिलवाने को लेकर आगे की कार्रवाई करेंगे। बता दें कि बॉबी पर 6 केस दर्ज हैं।

ये था मौजूदा मामला
- 12 दिसंबर को सेक्टर-16 में निकिता नाम की 16 वर्षीय छात्रा एक निजी स्कूल की बस के नीचे आ गई थी। इस हादसे में निकिता की टांग काटनी पड़ी थी। बॉबी कटारिया ने निकिता का पक्ष लेते हुए एक वीडियो यू-ट्यूब पर डाली थी। प्रिंसीपल ने शिकायत दी थी कि बॉबी कटारिया ने 19 दिसंबर को फेसबुक पर लाइव आकर उन्हें व उनके परिवार को धमकी दी थी। साथ ही यह वीडियो यू-ट्यूब पर भी डाल दी। प्रिंसीपल की शिकायत पर फेसबुक व यू-ट्यूब पर वीडियो डालकर रंगदारी मांगने, जान से मारने की धमकी देने सहित अन्य धाराओं के तहत बॉबी पर मुकदमा दर्ज किया गया। इस मुकदमे में पुलिस ने बॉबी को गिरफ्तार किया और 2 दिन के रिमांड पर लिया। रिमांड खत्म हो जाने के बाद कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

ऐसे सुर्खियों में आया बॉबी कटारिया
- बॉबी कटारिया गुड़गांव का रहने वाला है। वह एक प्रोफेशनल बॉडी बिल्डर हैं और प्रोफेशनल बॉडी बिल्डिंग एंड फिजिक फेडरेशन कनाडा का जनरल सेक्रेटरी हैं। वह पुलिस के खिलाफ गाली गलौज करते हुए वीडियो बनाकर सुर्खियों में आया था।
https://www.bhaskar.com/harayana/panipat/news/c-85-LCL-boby-katariya-mother-cried-and-tell-the-story-pa0345-NOR.html?ref=per-hp
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: