Nov 23, 2017

BCCI ने अपनी प्रतिष्ठा गँवा दी है, मुझे हटाकर बोर्ड का और नुकसान हुआ है: अनुराग ठाकुर


anurag-thakur-told-bcci-lost-its-reputation-and-earning-also

पिछले साल इस महीनें तक अनुराग ठाकुर BCCI के अध्यक्ष थे, सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था, भारतीय टीम सभी फोर्मेट में नंबर वन पर थी लेकिन अचानक सुप्रीम कोर्ट ने लोढ़ा कमेटी की सिफारिशें ना मानने का हवाला देकर अनुराग ठाकुर को BCCI अध्यक्ष पद से हटाकर BCCI को अपने कब्जे में ले लिया और BCCI पर शासन चलाने के लिए चार सदस्यों की एक कमेटी (कमेटी ऑफ़ एडमिनिस्ट्रेटर CoA) बना दी. अनुराग ठाकुर के अलावा BCCI सचिव अजय शिर्के को भी बर्खास्त कर दिया गया.

पिछले एक साल से BCCI सुप्रीम कोर्ट के कब्जे में है, अनुराग ठाकुर ने लोढ़ा कमेटी की 90 फ़ीसदी सिफारिशे मान ली थीं लेकिन बाद में जो कमेटी आयी उसनें बची हुई 10 फ़ीसदी शर्तें नहीं मानी जबकि इन्हीं शर्तों को ना मानने की वजह से अनुराग ठाकुर को बर्खास्त कर दिया गया था.

अनुराग ठाकुर ने कल सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी पर हमला बोलते हुए कहा कि इनके शासन में BCCI ने अपनी प्रतिष्ठा गँवा दी है, अब BCCI ना तो पैसे कमा पा रही है और ना ही इन्होने लोढ़ा कमेटी की शर्तें मानी हैं, जब इन्हें शर्तें नहीं माननी थीं तो हमें क्यों हटाया गया.

अनुराग ठाकुर ने कहा कि यह वह BCCI नहीं है जो एक साल पहले हुआ करती थी, अब बोर्ड ने अपनी प्रतिष्ठा गँवा दी है, अब हमें देखना चाहिए कि हम लोगों को हटाकर BCCI को क्या मिला है, उन्होंने कुछ सफलता पायी है या गंवाया है. हमने 1 अक्टूबर 2016 तक लोढ़ा कमेटी की 90 फ़ीसदी शर्तें मान ली थीं लेकिन 11 महीनों में इन्होने बची हुई 10 सिफारिशें क्यों नहीं मानीं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: