Apr 19, 2017

मैंने कोई साजिश नहीं की, जो किया खुलेआम किया, सीना तानकर किया, श्री राम के लिए किया: उमा भारती


uma-bharti-said-it-was-not-conspiracy-but-open-babri-demolition-case

नई दिल्ली, 19 अप्रैल: बाबरी बिध्वंस मामले में आपराधिक साजिश रचने के आरोप के बाद आज उमा भारती ने ने प्रेस कांफ्रेंस करके बताया कि उन्होंने साजिश नहीं की बल्कि जो किया खुलेआम किया, सीना तान कर किया और श्रीराम के लिए किया, यह देश गाय का है, श्री राम का है, तिरंगे का है, हमने जो कुछ किया राम मंदिर के लिए किया, हमने उस वक्त जो कुछ किया भव्य श्री राम मंदिर बनाने के लिए किया और इस बात पर मुझे गर्व है.

उन्होंने कहा कि श्रीराम, गंगा और तिरंगा के लिए कुछ भी करेंगी, अगर जेल जाना पड़ेगा तो जेल जाएंगी, अगर फांसी चढ़नी पड़ेगी तो फांसी चढ़ेंगी, वे कुर्सी से चिपकने वाली व्यक्ति नहीं हैं, श्री राम का मंदिर बनाने के लिए जो करना पड़ेगा वे करेंगी, अगर कुर्सी छोड़नी पड़ेगी तो छोड़ देंगी.

जब उनसे कांग्रेस द्वारा इस्तीफ़ा मांगने के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि सिख दंगे में 6000 हजार आदमी मर गए क्या सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी और राजीव गाँधी ने इस्तीफ़ा दिया था, जब कांग्रेस ने आपातकाल लगाया था तो लाखों लोगों की मौत हो गयी थी क्या उस समय इंदिरा गाँधी या राजीव गाँधी ने इस्तीफ़ा दिया था, जब उन्होंने इस्तीफ़ा नहीं दिया था तो वह क्यों इस्तीफ़ा दें, जब इस्तीफ़ा देने की बारी आएगी तो वह इस्तीफ़ा भी दे देंगी लेकिन कांग्रेस के मांगने पर कभी इस्तीफ़ा नहीं देंगी.

जानकारी के लिए बता दें कि आज सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर आन्दोलन की अगुवाई करने वाले बीजेपी के सभी बड़े नेताओं - लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह और विनय कटियार पर बाबरी विध्वंश मामले में आपराधिक साजिश रचने का मामला चलाने का आदेश दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने यह भी आदेश दिया कि यह केस रायबरेली और लखनऊ दोनों जगह चल रहा है इसलिए अब अलग अलग मामलों को जोड़ दिया जाए और रायबरेली में चल रहा मुकदमा भी लखनऊ में ही चलाया जाए. कोर्ट ने यह भी कहा कि इस मामले की सुनवाई 2 साल के अन्दर पूरी की जाएगी और दो साल के अन्दर ही फैसला भी सुना दिया जाएगा.

पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने क्या सुनाया है फैसला
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: