पढ़ें, सोशल मीडिया, फेसबुक पर क्यों ख़त्म होती जा रही है मोदी की ताकत, क्या है वजह

why-pm-narendra-modi-become-weak-on-social-media-facebook

2014 लोकसभा चुनाव में सोशल मीडिया और फेसबुक ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बीजेपी की सबसे बड़ी ताकत था, कांग्रेस और अन्य पार्टियों का कहीं नामो निशान नहीं था, फेसबुक पर बीजेपी के करोड़ों समर्थक थे, सैकड़ों ग्रुप थे जिसमें बीजेपी से सम्बंधित पोस्ट और ख़बरें डाली जाती थीं लेकिन पिछले एक साल में फेसबुक पर मोदी और बीजेपी की ताकत घटती जा रही है, कांग्रेस और अन्य पार्टियों के भी हजारों ग्रुप हो चुके हैं, बीजेपी के भी हजारों ग्रुप हैं लेकिन अब उनमें पहले जैसी बात नहीं रही क्योंकि अधिकतर पेड हो चुके हैं. जैसे –

WE SUPPORT NARENDRA MODI, WE SUPPORT PM MODI, PM Modi Fan Club, Mini Parliament, आदि.

पहले जो ग्रुप मोदी और बीजेपी के समर्थन के लिए बने थे अब वही ग्रुप ख़बरें अप्रूव करने के पैसे मांगते हैं वरना ख़बरें अप्रूव ही नहीं करते और उन्हें पेंडिंग में डाल देते हैं, भले ही मोदी और बीजेपी के काम की बहुत अच्छी पोस्ट हो, भले ही कांग्रेस को एक्सपोज करने वाली खबर हो, भले ही उस खबर से बीजेपी को कितना भी फायदा हो लेकिन बिना पैसा दिए इन ग्रुप्स पर वो ख़बरें नहीं अप्रूव की जातीं.

कई ग्रुप वाले तो मंथली चार्ज मांगने लगे हैं, जैसे 100 ख़बरें डालना है तो 5000 रुपये, रोजाना पांच-छः ख़बरें डालना है तो 3-4 हजार, महीनें में 100 से ज्यादा ख़बरें डालना है तो 10-20 हजार रुपये. मतलब जितना बड़ा ग्रुप है उतना ही अधिक पैसा मांगते हैं. मतलब अब ग्रुप को पैसे कमाने का धंधा बना लिया गया है.

मुझसे एक साल पहले ही बीजेपी-मोदी के सबसे बड़े समर्थक ग्रुप WE SUPPORT NARENDRA MODI के एडमिन ने पैसे की डिमांड की थी, जब मैंने पैसे देने से मना किया तो मुझे पोस्ट करने से रोक दिया गया. मोदी से सम्बंधित कोई पोस्ट भी वहां पर बिना पैसे लिए अप्रूव नहीं करते.

आपको बता दें कि 2014 चुनाव से पहले यही ग्रुप मोदी और बीजेपी की ताकत हुआ करते थे क्योंकि ग्रुप में ख़बरों के माध्यम से ही सटीक बातें लोगों तक पहुँच पाती हैं, फोटो और दो लाइन के विचार लिखने से क्या होता है, जब तक सरकार के कामों को बीजेपी समर्थकों तक नहीं पहुंचाया जाएगा तब तक कांग्रेस और अन्य पार्टियों से कैसे मुकाबला करेंगे लेकिन ये ग्रुप पोस्ट को अप्रूव ही नहीं करते इसलिए मोदी की ताकत भी कमजोर होती जा रही है.

हाल ही में मुझसे PM Modi Fan Club के एडमिन ने पैसे की डिमांड की, उन्होंने कहा कि आपको पैसे देने होंगे तभी आपकी पोस्ट अप्रूव होगी, मैने कहा कोई बात नहीं, मत अप्रूव करो. उन्होंने मुझसे इतने पैसे की डिमांड कर डाली जितनी कमाई भी नहीं होती.

इसी तरह से लगभग सभी बड़े ग्रुप पैसे मांग रहे हैं, जब एडमिन को पैसे दिए जाएंगे तभी मोदी बीजेपी से सम्बंधित ख़बरें अप्रूव होंगी वरना उन्हें पेंडिंग में रखा जाएगा. अगर ऐसे ही होता रहा तो कांग्रेस के ग्रुप मजबूत होते जाएंगे और बीजेपी के ग्रुप कमजोर होते जाएंगे क्योंकि BJP ग्रुप में अच्छे पोस्ट पहुँच ही नहीं पाएंगे.

आपको बता दें कि GST और नोटबंदी पर कांग्रेस के ग्रुपों में मोदी के खिलाफ जबरजस्त अभियान चल रहा है, लेकिन बीजेपी ग्रुप उन्हें जवाब नहीं दे पा रहे हैं, क्योंकि यहाँ पर मोदी समर्थक पोर्टल वालों से पैसे मांगे जाते हैं लेकिन उनकी उतनी कमाई नहीं होती कि वे ग्रुप वालों की डिमांड पूरी कर सकें. अगर एक ग्रुप से कमाई होती 50 रुपये तो मांगे जाते हैं 100 रुपये.

LEAVE A REPLY