Showing posts with label Religion. Show all posts
Showing posts with label Religion. Show all posts

Jan 16, 2018

मोदी सरकार का बोल्ड फैसला, बंद की हज पर दी जाने वाली सब्सिडी, हर साल बचेंगे 450 करोड़ रुपये

मोदी सरकार का बोल्ड फैसला, बंद की हज पर दी जाने वाली सब्सिडी, हर साल बचेंगे 450 करोड़ रुपये

modi-sarkar-closed-haj-sabsidy-to-save-rs-450-crore-yearly

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने आज बहुत बोल्ड फैसला लिया है. हज पर दी जाने वाली सब्सिडी पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. इस फैसले के बाद देश के 450 करोड़ रुपये हर साल बचेंगे. इस पैसों को मुस्लिमों को ही शिक्षा देने पर इस्तेमाल किया जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत से करीब 1.70 लाख लोग हर साल हज यात्रा पर जाते हैं. केंद्र सरकार प्रत्येक हज यात्री पर करीब डेढ़ लाख रुपये खुद खर्च करती है. अब ये पैसे बचेंगे और देश के काम आएँगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हज यात्रा पर जाने वाले प्रत्येक यात्री सिर्फ 45000 रुपये जमा करते हैं जबकि फ्लाइट का टिकट करीब Rs.1,85,000 से Rs.2,19,000 है. बाकी के पैसे केंद्र सरकार देती है.

तुष्टिकरण बंद सबका शशक्तिकरण शुरू

इस फैसले पर केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हज सब्सिडी बंद होने से जो भी पैसे बचेंगे वह गरीब मुसलमान बच्चों के शिक्षा पर खर्च किये जाएंगे, इस तरह से तुस्टीकरण बंद करके सबका शशक्तिकरण किया जाएगा.

Jan 10, 2018

केंद्रीय विद्यालयों में हिंदी में प्रार्थना क्यों, सिर्फ एक धर्म को बढ़ावा क्यों: सुप्रीम कोर्ट

केंद्रीय विद्यालयों में हिंदी में प्रार्थना क्यों, सिर्फ एक धर्म को बढ़ावा क्यों: सुप्रीम कोर्ट

supreme-court-questioned-why-hindi-pray-in-kendriya-vidyalaya

नई दिल्ली: देश में अंधेरगर्दी मची हुई है, सुप्रीम कोर्ट में एक के बाद एक हिन्दू-विरोधी याचिकाएं डाली जा रही हैं और सुप्रीम कोर्ट उन याचिकाओं पर हिन्दू धर्म के खिलाफ एक्शन ले रहा है. आजादी के बाद भारत हिन्दू देश था क्योंकि मुस्लिमों को अलग देश पाकिस्तान दे दिया गया था. हिन्दू देश होने की वजह से यहाँ पढ़ाई लिखाई, प्रार्थना, बोल चाल, सरकारी काम हिंदी भाषा में होते थे और अब तक वही चला आ रहा है. पिछले कुछ समय से भले ही अंग्रेजी भाषा को बढ़ावा दिया जा रहा है लेकिन अभी भी हमारे देश की अधिकतर लोगों की भाषा हिंदी ही है.

बता दें कि केंद्रीय विद्यालयों में भी हिंदी-संस्कृति भाषा में ही प्रार्थना होती आ रही है लेकिन अब कुछ लोगों ने इसको भी धर्म से जोड़ दिया है और सुप्रीम कोर्ट ने भी उनकी याचिका पर एक्शन लिया है.

याचिका की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और केंद्रीय विद्यालय संगठन को नोटिस जारी कर पूछा है कि रोजाना सुबह स्कूल में होने वाली इस हिंदी और संस्कृत की प्रार्थना से किसी धार्मिक मान्यता को बढ़ावा मिल रहा है? इसकी जगह कोई सर्वमान्य प्रार्थना क्यों नहीं कराई जा सकती? इन तमाम सवालों के जवाब कोर्ट ने 4 हफ्ते में तलब किये हैं.

सुप्रीम कोर्ट में विनायक शाह ने याचिका लगाई है, जिनके बच्चे केंद्रीय विद्यालय में पढ़े हैं. याचिका के मुताबिक देश भर में पिछले 50 सालों से 1125 केंद्रीय विद्यालयों की प्रार्थना में ये ऋचाएं शामिल हैं. इस प्रार्थना में और भी ऋचाएं शामिल हैं, जिनमें एकता और संगठित होने का संदेश है. 

कोर्ट इस याचिका पर अगली सुनवाई में केंद्र के जवाब पर विचार करेगा.

Jan 3, 2018

भारत के लिए बहुत खतरनाक है मुस्लिमों की बढती आबादी, इसपर अंकुश लगाए सरकार: विनय कटियार

भारत के लिए बहुत खतरनाक है मुस्लिमों की बढती आबादी, इसपर अंकुश लगाए सरकार: विनय कटियार

increasing-muslim-population-in-india-big-problem-says-vinay-katiyar

नई दिल्ली: भाजपा नेता एक से बढ़कर धमाकेदार बयान दे रहे है जिसको लेकर विपक्षी दलों में खलबली मची हुयी है. खासकर मुस्लिमों की बढती आबादी को लेकर अधिकतर बीजेपी नेता बोलते रहते हैं, अब इस फेहरिस्त में भाजपा के सांसद विनय कटियार का भी नाम जुड़ गया है। कटियार ने कहा है कि देश की बढ़ती आबादी पर अंकुश लगाया जाना चाहिए। टाइम्स नाऊ से बात करते हुए कटियार ने यह बात कही 

इससे पहले राजस्थान के अलवर से बीजेपी विधायक बनवारी लाल सिंघल ने एक पोस्ट में लिखा था कि मुसलमान देश पर राज करने के मकसद से ज्यादा बच्चे पैदा कर रहे हैं। वे हिंदुओं को उनके ही देश में किनारे करने के लिए आबादी बढ़ा रहे हैं। 

सिंघल के इस विवादित बयान का केंद्रीय मंत्री गिरिराज ने भी समर्थन किया। उन्होंने तो मुसलमानों की बढ़ती आबादी को देश के लिए खतरा बता डाला और कहा कि इसे रोकने के लिए जल्द से जल्द कानून बने।

Dec 28, 2017

3 तलाक बिल लागू होने के बाद बंद हो जाएगा महिलाओं का हलाला, इसलिए परेशान हो गए हैं लाखों मौलवी

3 तलाक बिल लागू होने के बाद बंद हो जाएगा महिलाओं का हलाला, इसलिए परेशान हो गए हैं लाखों मौलवी

three-talaq-bill-passed-no-halala-for-muslim-women-maulawi-jobless

नई दिल्ली: आज मुस्लिम महिलाओं के लिए खुशखबरी है क्योंकि मोदी सरकार ने आज ही तीन तलाक बिल लोकसभा में पेश किया और आज ही बिल बहुमत के साथ पास हो गया, AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बिल को रोकने की बहुत कोशिश की, बिल के खिलाफ लम्बा चौड़ा भाषण दिया और कई खामियां गिनाई लेकिन उनकी कोई भी चाल कामयाब नहीं हुई और अंततः बिल पास ही हो गया.

तीन तलाक बिल लागू होने के बाद कम से कम 10 लाख मौलवियों का धंधा बंद हो जाएगा, अब तक मौलवी तीन तलाक के बाद महिलाओं का हलाला करके खूब पैसे कमाते थे लेकिन अब वे ऐसा नहीं कर पाएंगे क्योंकि अब तीन तलाक बोलने के बाद भी सुलह का एक मौका मिलेगा, अगर शौहर अपनी गलती मान लेगा तो दोनों की शादी ख़त्म नहीं होगी और वह फिर से हंसी ख़ुशी रह सकेंगे लेकिन अगर शौहर ने जान बूझकर देगा और अपनी गलती नहीं मानेगा तो उसे तीन साल के लिए जेल भेज दिया जाएगा.

पहले जब कोई शौहर गलती से तीन तलाक़ दे देता था तो वह किसी मौलवी के पास जाता था, मौलवी उससे कहता था कि अगर बीवी से दोबारा शादी करना चाहता है तो हलाला कराना पड़ेगा, उसके बाद मौलवी कुछ पैसे लेकर महिला का हलाला करवाता था, दूसरे मर्द से महिला की शादी करवाकर उसे एक रात उसे सौंप देता था और दूसरे दिन उसके साथ फिर से पहले वाले पति से निकाह करवा देता था. कई बार खुद मौलवी ही पैसे लेकर शादी कर लेता था और महिला के साथ एक रात गुजार लेता था. लेकिन अब ऐसा नहीं हो सकेगा क्योंकि अब तीन तलाक के बाद मौलवी की जगह मजिस्ट्रेट के पास जाना पड़ेगा और अपनी गलती माननी पड़ेगी या तीन साल जेल जाना पड़ेगा.

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने भी बिल को सीधे पास होने से रोकने के लिए इसे स्टैंडिंग कमेटी के पास भेजने की अपील की ताकि बिल कुछ महीनें और रुक जाए लेकिन मोदी सरकार ने उसकी बात नहीं मानी और वोटिंग कराने का आग्रह किया, वोटिंग में बिल के समर्थन में 244 वोट पड़े जबकि ओवैसी के सुझाए संशोधन के समर्थन में सिर्फ 4 वोट पड़े. इस तरह से ओवैस की बात को खारिज करते हुए बिल को लोकसभा में पास कर दिया गया.

अब यह बिल राज्य सभा में जाएगा, वहां पर बिल अटक सकता है क्योंकि कांग्रेस पार्टी और उसके समर्थकों का वहां पर बहुमत है, अगर कांग्रेस ने समर्थन दे दिया तो यह बिल राज्य सभा से भी पास हो जाएगा और कानून अस्तित्व में आ जाएगा.

Dec 20, 2017

अयोध्या में बनेगा राम मंदिर तो बिहार के सीतामढ़ी में बनेगा सीता मंदिर: सुब्रमनियम स्वामी

अयोध्या में बनेगा राम मंदिर तो बिहार के सीतामढ़ी में बनेगा सीता मंदिर: सुब्रमनियम स्वामी

subramanian-swamy-promised-to-make-sita-mandir-after-ram-mandir

मोदी सरकार ने राम मंदिर के पक्ष में भारत में माहौल बना दिया है, बीजेपी नेता सुब्रमनियम स्वामी ने इस अभियान में बहुत मेहनत की है जिससे अब हिन्दुओं को लगने लगा है कि राम मंदिर जल्द ही बनेगा, अगर कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने टांग ना अड़ाई तो सुप्रीम कोर्ट राम मंदिर के हक में फैसला देगा और अगले साल से राम मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा.

आज बीजेपी सांसद सुब्रमनियम स्वामी ने हिन्दुओं को एक और खुशखबरी सुना दी, उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के बाद बिहार के सीतामढ़ी में सीता मंदिर बनाने के लिए कदम उठाएंगे.