Jan 9, 2018

कुछ लोग उमर खालिद और जिग्नेश जैसे लोगों की भाषा समझते हैं, हम जैसों की नहीं: सूरज पाल अमू


surajpal-amu-told-some-people-understand-umar-khalid-jignesh-language

गुरुग्राम: संजय लीला भंसाली ने अपनी फिल्म पद्मावती का नाम बदलकर अब पद्मावत कर दिया है और 25-26 जनवरी को रिलीज करने का ऐलान कर दिया है. अभी तक राजपूत समाज के लोगों की फिल्म को लेकर नाराजगी ख़त्म नहीं हुई है. इसी बात को लेकर आज राजपूत नेता सूरज पाल अमू ने फिर से प्रतिक्रिया दी और संजय लीला भंसाली के साथ साथ सरकार में बैठे लोगों को भी चेतावनी दी.

उन्होंने कहा कि कुछ लोग हमारी बातों को गंभीरता पूर्वक नहीं ले रहे हैं, मैंने सुना है कि संजय लीला भंसाली ने फिल्म की रिलीज फिक्स कर दी है, मुझे लगता है कि सरकार के कानों में जूँ नहीं रेंगी है.

उन्होंने कहा कि - मुझे लगता है कि कुछ लोग हमारे सब्र का इम्तिहान ले रहे हैं. हमने कई बार कहा है कि हमारे सब्र का इम्तिहान ना लें. फिल्म का नाम गलत रखा है, फिल्म को गलत रिलीज कर रहे हैं, सेंसर बोर्ड गलत काम कर रहा है, जब प्रवीण तोगड़िया कह रहे हैं, सूरज पाल अमू कह रहे हैं, अनेकों अनेक राजपूत नेता कह रहे हैं, सुखदेव सिंह गोगामेड़ी कह रहे हैं, देश विदेश से हिन्दू लोग कह रहे हैं तो हमारी बातें क्यों नहीं सुनी जा रही हैं.

उन्होंने कहा कि इन लोगों को हमारी भाषा समझ में नहीं आती, इन लोगों को उमर खालिद और जिग्नेश मेवाणी जैसे लोगों की भाषा समझ में आती है, लेकिन हम ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं करेंगे, ना ही हम वो काम करेंगे जो उन लोगों ने किया है और ना ही हमें लोकतंत्र में कानून को अपने हाथ में लेने का अधिकार है. हम अपना विरोध प्रकट करेंगे और विरोध प्रकट करने का हमारा हक है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: