Dec 3, 2017

प्रद्युमन का केस लड़ने वाले वकील टेकरीवाल पर दिल्ली पुलिस की वर्दी पहने लोगों ने किया हमला


sushil-kumar-tekriwal-attacked-by-people-bearing-delhi-police-wardi

गुरुग्राम: हरियाणा के गुरुग्राम स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में छात्र प्रद्युमन की हत्या का पहला आरोपी बस कंडक्टर अशोक जेल से बाहर आ चुका है। बस कंडक्टर के बाहर आने के बाद पुलिस के ऐसे कई अधिकारियों पर सवाल उठाये जा रहे हैं जिन्होंने कंडक्टर को दोषी बनाया था.

यह केस और खतरनाक होता जा रहा है क्योंकि कल दिल्ली पुलिस की वर्दी पहले कुछ लोगों ने प्रद्युमन हत्याकांड का केस लड़ने वाले वकील टेकरीवाल पर जानलेवा हमला कर दिया. टेकरीवाल को शक है कि है ये हमला उन्ही लोगों ने करवाया है जो वर्तमान में पकडे गए छात्र को बचाना चाहते हैं और कंडक्टर को असली आरोपी बनाकर पुलिस को भी बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

एक जानकारी के मुताबिक़ पीड़ित परिवार के अधिवक्ता सुशील कुमार टेकरीवाल पर शनिवार रात तीन लोगों ने जानलेवा हमला किया। हमले में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता टेकरीवाल, पत्नी ममता और पुत्र रूपेन घायल हुए हैं।

हमलावरों ने टेकरीवाल से काफी देर तक मारपीट की और करीब 300 मीटर तक घसीटा। हमलावरों में दो लोग दिल्ली पुलिस की वर्दी में थे। माना जा रहा है कि तीसरा हमलावर भी पुलिसकर्मी ही था। टेकरीवाल ने एक हिंदी अखबार दैनिक जागरण को फोन पर बताया कि रात सवा नौ बजे वह पत्नी ममता और पुत्र रूपेन के साथ होटल अशोका से डिनर करके बाहर निकल रहे थे।

टेकरीवाल के अनुसार हमला करने वाला दिल्ली पुलिस का इंस्पेक्टर है क्योंकि उसकी वर्दी पर तीन स्टार अंकित थे। दूसरे पुलिस वाले का नाम अजीम है। संभवतः वह कांस्टेबल था। तीसरा हमलावर सादे कपड़ों में था जिसकी वजह से वह उसे पहचान नहीं सके.

टेकरीवाल ने बताया कि संजीव कुमार यादव ने उन्हें सर्विस रिवाल्वर के बट से पीठ पर कई बार मारा। इतना ही नहीं, उसने उन्हें करीब 300 मीटर तक घसीटा। इस दौरान वह गालियां देते हुए कह रहा था कि तुमने प्रद्युम्न का केस अपने हाथ में क्यों लिया 

टेकरीवाल के अनुसार इन दोनों पुलिस वालों ने पत्नी ममता और बेटे को भी भद्दी-भद्दी गालियां दीं। दोनों पुलिस वालों ने टेकरीवाल से कहा कि तुम्हारी सारी वकालत झाड़ देंगे। अचानक हुए हमले के थोड़ी देर बाद टेकरीवाल जब थोड़ा संभले तो 100 नंबर पर फोन किया। थोड़ी देर बाद पुलिस होटल के पास पहुंची, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की। अपने ऊपर हुए इस अप्रत्याशित हमले से टेकरीवाल सदमे में हैं। फोन पर बात करते हुए उनकी आवाज कांप रही थी।
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: