Nov 29, 2017

खट्टर द्वारा राजपूतों का अपमान नहीं बर्दास्त कर पाए सूरजपाल अमू, दे दिया BJP से इस्तीफ़ा


suraj-pal-amu-resign-from-bjp-after-khattar-insult-rajpoot-leaders

पहले ऐसा लगता था कि पद्मावती का विरोध बीजेपी नेताओं द्वारा किया जा रहा है और बीजेपी इसका राजनीतिक फायदा लेना चाहती है लेकिन अब पद्मावती बीजेपी पर ही भारी पड़ रही है. कल हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राजस्थान से आये राजपूत नेताओं को समय देने के बावजूद भी मिलने से इनकार कर दिया था, राजपूतों ने इसे अपमान के तौर पर लिया था.

आज इसी अपमान से दुखी होकर 22 वर्षों तक बीजेपी की सेवा करने वाले राजपूत नेता सूरजपाल अमू ने पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया. सूरजपाल अमू हरियाणा में बीजेपी के चीफ मीडिया कोऑर्डिनेटर पद पर थे और पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता थे लेकिन हाल ही में उन्होंने पद्मावती विवाद में कूदकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी. उन्होंने पद्मावती फिल्म के कलाकारों के सिरों पर 10 करोड़ का ईनाम घोषित करके नियमों का उल्लंघन किया था जिसके बाद उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था हालाँकि इस नोटिस के बावजूद भी सूरजपाल अमू ने पार्टी में बने रहने की बात की थी.

अमू का संयम कल उस वक्त जवाब दे गया जब हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राजपूत नेताओं से मिलने से इनकार कर दिया, खट्टर के इस कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए सूरजपाल ने कहा - मुख्यमंत्री खट्टर हम लोगों से ऐसा बर्ताव नहीं कर सकते, मैं उनके व्यवहार की निंदा करता हूँ, मैं अब बीजेपी से जुड़ा नहीं रह सकता क्योंकि इन्होने एक तरह से हमारा अपमान किया है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: