Sep 10, 2017

सरकारी स्कूलों को बना रखा है नरक, प्राइवेट स्कूलों में लूट मर्डर, माँ-बाप कहाँ भेजें बच्चे


sarkar-ne-sarkari-school-ko-bana-rakha-hai-narak-for-private-schools

आप भी सोचते होंगे कि सरकार के पास इतना पैसा है फिर भी सरकारी स्कूलों को नरक क्यों बना रखा है. क्या कारण है कि प्राइवेट स्कूल दिन दूना रात चौगुना तरक्की करके हैं लेकिन सरकारी स्कूलों में कोई माँ-बाप अपने बच्चों को पढ़ाना ही नहीं चाहते. आप जानकार हैरान रह जाएंगे कि सरकारें जान बूझकर सरकारी स्कूलों को नरक बनाकर रखती हैं क्योंकि प्राइवेट स्कूलों ने उनकी पार्टियों को मोटा पैसा मिलता है. सरकारें चाहती हैं कि लोग प्राइवेट स्कूलों में पढ़ें ताकि प्राइवेट स्कूल जनता को लूट लें और हमारी पार्टी को चंदा दे दें.

हरियाणा में बीजेपी सरकार आये तीन साल हो गए और उससे पहले 10 साल तक कांग्रेस की सरकार थी लेकिन सरकारी स्कूलों में कोई सुधार नहीं हुआ, सरकारी स्कूल पहले भी नरक थे तो आज भी नरक हैं जबकि सभी शहरों में सैकड़ों प्राइवेट स्कूल हैं. सभी बेतहाशा लूट रहे हैं.

अब प्राइवेट स्कूलों से माँ-बाप बहुत डर गए हैं क्योंकि गुरुग्राम के रयान इंटरनेशनल स्कूल में में एक मासूम बच्चे की अकारण ही हत्या कर दी गयी. बच्चे की कोई गलती नहीं थी. उसकी गलती यही थी कि वह स्कूल पहुँचने के बाद टॉयलेट चला गया वहां पर उसका गला चाकू से रेत दिया गया.

अब माँ-बाप प्राइवेट स्कूलों से भी डर गए हैं, प्राइवेट स्कूल पहले से ही लूट मचाए हुए हैं, मनचाही फीस बढाकर माँ-बाप को लूट रहे हैं, फीस देने के बाद उनके बच्चों की हत्या भी हो रही है. दूसरी तरफ हैं सरकारी स्कूल जो नरक जैसे हैं. इन स्कूलों में कोई भी मध्यम परिवार अपने बच्चों को भेजना ही नहीं चाहता क्योंकि सरकार ने इन्हें नरक बना रखा है. अब माँ-बाप क्या करें. कहाँ पढाएं अपने बच्चों को.

रयान इंटरनेशनल स्कूल ग्रुप के देश भर में 304 स्कूल हैं. 18 राज्यों में उनके स्कूल हैं, भारत से बाहर भी 43 स्कूल हैं. यह एक इसाई स्कूल है फिर भी माँ-बाप अपने बच्चों को इसमें पढ़ाने को मजबूर हैं क्योंकि सरकार ने सरकारी स्कूलों को नरक बना रखा है. प्राइवेट स्कूलों से राजनीतिक पार्टियों और भ्रष्ट नेताओं को करोड़ों-अरबों रुपये का चन्दा मिलता है, इसी चंदे को पाने के लिए जान बूझकर सरकारी स्कूलों में कोई सुधार नहीं किया जा रहा है क्योंकि अगर सरकारी स्कूलों को मॉडर्न बना दिया जाएगा तो प्राइवेट स्कूलों में कौन पढने जाएगा, जब प्राइवेट स्कूलों में कोई पढने नहीं जाएगा तो राजनीतिक पार्टियों को मोटा चंदा कैसे मिलेगा.

ryan-international-school-news-in-hindi
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: