Aug 20, 2017

अपने आप नहीं हुआ बल्कि कराया गया था मुजफ्फरनगर ट्रेन एक्सीडेंट, पढ़ें, किसने कराया और क्यों?


who-planned-muzaffarnagar-train-accident-and-why-what-is-reason

मुजफ्फरनगर में ट्रेन पलटने का जो कारण सामने आ रहा है वह कसी को समझ में नहीं आ रहा है क्योंकि आज तक ऐसा एक्सीडेंट कभी नहीं हुआ. अब टेक्नोलॉजी का जमाना है, हर ट्रेन GPS के राडार पर रहती है, हर ट्रेन की लोकेशन नजर में रहती है इसके बावजूद भी ऐसा भयानक एक्सीडेंट हो जाना कई सवाल पैदा करता है. आपको बता दें कि अगर ड्राईवर ने इमरजेंसी ब्रेक ना लगाई होती तो पूरी ट्रेन पलट जाती और ट्रेन में बैठे 400-500 लोग मर जाते लेकिन ड्राईवर के ब्रेक लगाने की वजह से ट्रेन को कम नुकसान हुआ. 

हमारा कहने का मतलब ये है कि जिन लोगों ने यह साजिश रची थी उनका मकसद पूरी ट्रेन को पलटवाना था, उनक इरादा कम से कम 400-500 आदमियों की हत्या का था लेकिन ड्राईवर की वजह से इतने लोगों की जान बच गयी.

आपको बता दें कि मोदी सरकार में अब तक जितने भी ट्रेन हादसे हुए सब के सब मोदी सरकार को बदनाम करने के लिए हुए हैं, इससे पहले दो हादसों में पाकिस्तान की ISI का हाथ था, ये लोग ट्रेन हादसे करवाकर मोदी सरकार को कमजोर कर रहे हैं और विपक्षी पार्टी कांग्रेस को मोदी सरकार के खिलाफ मुद्दे दे रहे हैं क्योंकि ट्रेन हादसे के तुरंत बाद कांग्रेस का बयान आता है कि मोदी सरकार में ट्रेन हादसे बढ़ गए हैं.

अब आप कल का हादसा देखिये, टेक्नोलॉजी का ज़माना है, ड्राईवर और गार्ड को पहले से ही बताया जाता है कि पटरी पर मरम्मत का काम चल रहा था लेकिन ना तो ड्राईवर को और ना ही गार्ड को इस बात की जानकारी दी गयी, यही नहीं स्टेशन मास्टर को भी पटरी पर मरम्मत कार्य के बारे में कोई सूचना नहीं दी गयी थी. यह सब सबूत चीख चीख कर कह रहे हैं कि ट्रेन अपने आप नहीं पलटी बल्कि इसे पलटवाया गया था, यह लापरवाही नहीं थी बल्कि एक सोची समझी साजिश के तहत इसे अंजाम दिया गया है और इसका मकसद था मोदी सरकार को बदनाम करना. आप खुद देख लीजिये, इन लोगों ने पूरी पटरी उखाड़ रखी थी, अगर ड्राईवर इमरजेंसी ब्रेक ना लगाया तो आगे जाकर पूरी ट्रेन पलट जाती, हादसे के वक्त ट्रेन की स्पीड 105 किलोमीटर थी. इतनी स्पीड में अगर ट्रेन पलट जाती तो लगभग सभी लोगों की मौत हो जाती, उसके बाद देश में हाहाकार मच जाता, विरोधी लोग विपक्ष के लोग इसे मोदी सरकार के खिलाफ मुद्दा बना लेते और उसके बाद क्या होता आप इसका खुद अंदाजा लगा सकते हैं लेकिन ड्राईवर की वजह से लोगों की जान बच गयी यही नहीं मोदी सरकार पर भी एक बड़ा दाग लगने से बच गया.

ट्रेन को रोकने के लिए ड्राईवर ने तीन बार इमरजेंसी ब्रेक लगाई, मतलब उसनें यहाँ भी सूझ बूझ दिखाई, अगर एक बार ही तेजी से ब्रेक दबा दिया जाता तो ट्रेन तुरंत पलट जाती लेकिन ड्राईवर से चालाकी से पहले हलकी ब्रेक लगाई, उसके बाद दूसरी बार ब्रेक लगाई और तीसरी बार पूरा ही ब्रेक दबा दिया. ड्राईवर की चालाकी की वजह से ट्रेन को कम नुकसान हुआ.

अब यहाँ पर सवाल ये है कि वे कौन लोग थे जो स्टेशन मास्टर की बिना इजाजत लिए ही पटरी की मरम्मत का कार्य कर रहे थे, वे लोग अपने आप से मरम्मत कार्य क्यों कर रहे थे, क्या उन्हें किसी तीसरी पार्टी ने ऐसा करने को बोला था. हादसे के बाद वे लोग कहाँ भाग गए, उन लोगों ने कुछ दूर पहले ही लाल झंडा दिखाकर ट्रेन को क्यों नहीं रोका. ये सभी चीजें साबित करती हैं कि यह हादसा लापरवाही से नहीं बल्कि जान बूझकर कराया गया और इसका मकसद सिर्फ मोदी सरकार को बदनाम करना था. इसकी CBI जांच होनी चाहिए.

एक चीज और, इन घटनाओं के लिए चीन भी जिम्मेदार हो सकता है और पाकिस्तान भी क्योंकि डोकलाम विवाद पर चीन ने मोदी सरकार को अंजाम भुगतने की धमकी दी है, कांग्रेस के नेता चोरी छिपे मुलाकात कर रहे हैं और ऐसे हादसों की वजह से कांग्रेस और विपक्षी दलों को ही फायदा हो रहा है क्योंकि इन्हें मोदी सरकार के खिलाफ मुद्दा मिल रहा है, चीन इस वक्त भारत से युद्ध करने में डर रहा है इसलिए वह मोदी सरकार को हटाकर कांग्रेस को लाना चाहता है ताकि तिब्बत की तरह उसे अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और भूटान भी मिल जाए.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

8 comments:

  1. हरामखोर गद्दी पर तुम बैठे हो चीन एकंसीडेंट करा रहा है |तुम लोग १०० मारो एक न गिनो वाले सुत्र से ठीक होगे |

    ReplyDelete
  2. Ye v Kisi sp aur congresi ki Sajis h. Samaj nai aa raha ki rajniti me paise kamane k liye ye haramkhor kab tak aisi harkaten karenge.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. This accident indicates that there was lack of communication between the Station Master and railway gang ,which was carrying out this repair.The incharge of the gang is fully responsible for this accident .He must be caught hold so that the reality may come out.Railway must pay great attention towards the safety of trains.This is more important due to increasing terrorism.

    ReplyDelete
  5. अर्थत इस न्यूज के अनुसार मुज़फ़्फ़र नगर रेल दुर्घटना की ज़िम्मेदारी , सरकार को छोड कर चीन ,कांग्रेस,और अन्य देशों पर जाती है विपख्च पर जाती है ! गोरखपुर के बच्चों की मौत की ज़िम्मेदारी योगी और उनके सरकार पर न जाकर अखिलेश यादव पर जाती है ...क्या बात है जी ? बडी दूर की कौडी लाये हो !

    ReplyDelete
  6. Pehle ap yeh bataye ki ap bjp kaarye karta ho ki BJP ghoos khor. Kya baat h.kaha laakar connect Kiya. Kal China attack karega tab b bol Dena ki others political parties mil gyi China k sath.bina parmision k koi kaise kaam Kar Sakta vo b station k pas.with generator. Jan ki office ye except Kar raha h ki kaam ho Raha that.

    ReplyDelete
  7. I heard of IT cell of BJP. Now this is media cell. How foolish can you be in defending your misdeeds. Everyone knows it is nothing but the inefficiency of BJP government. Well I am not surprised. When you can pass blame of Yogi's non-governance or mis-governance in the death of children in a shameless manner, this is no different.

    ReplyDelete
  8. बिलकुल सही आंकलन है ! मैं तो पहले दिन से ही जब मीडिया प्रोएक्टिव हो गया था, कह रहा हूँ कि कि ये साधारण दुर्घटना नहीं है बल्कि बहुत बड़ी साजिस है ! और इस देश में सजिसों में माहिर कांग्रेस का कोई सनी नहीं है ! चीन और पाकिस्तान न तो ये कम कर सकते हैं और न ही उनकी औकात तब तक ऐसे कम करने कि है जब तक कोई अन्दर का देशद्रोही इसमें सामिल न हो ! कांग्रेस ने जिन्ना के कंधे पर बन्दूक रखकर आजादी के समय देश को तोड़ने कि साजिस की, नेहरू ने गोडसे के कंधे पर बन्दूक रखकर गांधीजी कि हत्या की जिससे दोष संघ पर लगा सके,इंद्रा ने अपने विरोधियों खासकर संघ का प्रचार प्रसार रोकने के लिए देश के चारों ओर आतंकियों का जमावड़ा किया, राजीव ने हजारों लोगों के हत्यारों से यारी निभाई तथा कांग्रेस ने तब से अब तक देश कि जनता खासकर दूरदराज के लोगों और मुस्लिम लोगों में से लालची और निकम्मे लोगों को अपने प्रभाव में लेकर यानि गुलाम बनाकर अन्य को अनपढ़ रखने कि साजिस की जिससे वे इनके बहकावे में आते रहें और वो सत्ता में बनी रहे !कांग्रेस ने सत्ता का दुरूपयोग करके देश में अपने गुलामों के मीडिया हाउसेस बनाकर खुद के हिसाब से पत्रकारिता करवाई और अपने चमचों को हर संसथान के पर्मुख पदों पर पहुंचाकर देश को लूटने का कार्य किया ! आज सारा मिडिया पाकिस्तान और चीन को हर घटना से जोड़ देता है और वो कोई इतिफाक या सच्चाई नहीं बल्कि सोची समझी साजिस कि तहत होता है जिससे देश कि जनता का ध्यान इनकी सजिसों कि तरफ न जाये और वे पाकिस्तान को कोसते रहें ! जबकि पाकिस्तान कि औकात ही नहीं है कि वो भारत कि और आँख उठाकर देख सके ! सच तो ये है कि पाकिस्तान कि सरकार और वहां कि सेना, ISI के प्रभाव में रहती है और कांग्रेस उसी ISI का इस्तेमाल कर देश के खिलाफ साजिस करती है जिससे हर घटना को पाकिस्तान कि और मोड़ा जा सके और ये लोग बचे रह सकें! आज देश में जीतनी भी आतंकी घटना या दुर्घटनाएं हो रही हैं वे कांग्रेस के ही इशारे पर हो रही हैं जिससे मोदी सरकार को बदनाम किया जा सके और जो सिकंजा देश कि खुपिया एजेंसियां इनको बेपर्दा करने को जी तोड़ लगी हैं उन्हें भटकाया जा सके ! देश की अधिकतर जनता तो कांग्रेसी षड्यंत्रों को समझ चुकी है लेकिन अभी भी कई गुलाम ऐसे है जो जानबूझकर अंजन बने हैं और जाने अनजाने कांग्रेसी साजिसों में सहयोगी बन रहे हैं !

    ReplyDelete