Aug 16, 2017

देश की आजादी के लिए मिटे थे सुभाष चंद्र बोस, लेकिन आजादी के दिन ममता के राज में मिला अपमान


west-bengal-me-subhash-chadnra-bose-ki-pratima-par-kalikh

सुभाष चन्द्र बोस को भारत के सबसे बड़े स्वतंत्रता सेनानियों में से एक माना जाता है. यहाँ तक कि उन्हें महात्मा गाँधी से भी बड़ा स्वतंत्रता सेनानी कहा जाता है और अगर उनकी असमय मौत ना होती तो आजादी के बाद उनकी भूमिका कुछ और होती. उन्होंने देश को आजादी दिलाने के लिए आजाद हिन्द फ़ौज बनाई, अग्रेजों से लोहा लिया और उनकी मिट्टी पलीद करके रख दी. उन्होने देश की आजादी के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया था लेकिन अब उनके ही राज्य में ममता बनर्जी की सरकार में उनका अपमान हो रहा है. 

कल आजादी के दिन उनका नमन किया जाना चाहिए था. उन्हें याद किया जाना चाहिए था. उनकी तारीफ की जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. तारीफ के बजाय उनका अपमान किया गया और वीरभूमि जिले में उनकी प्रतिमा पर कालिख पोत दी गयी. उन्होने सोचा भी नहीं होगा कि देश को आजादी दिलाने की उन्हें ये सजा मिलेगी.

सुभाष चन्द्र बोस के भतीजे और बीजेपी के बंगाल उपाध्यक्ष चन्द्र कुमार बोस ने इसका आरोप TMC के कार्यकर्ताओं पर लगाते हुए ममता बनर्जी को जमकर फटकार लगाई है. उन्होने कहा कि नेताजी का जान बूझकर अपमान किया गया है और यह सब TMC के कार्यकर्ताओं ने किया है.

चन्द्र बोस ने कहा कि यह बहुत अपमानजनक है. नेताजी को भारत के ही नहीं बल्कि एशिया के लोग भी अपना हीरो मानते हैं, उनके साथ यह घटना विशेष दिन पर हुई है. ममता बनर्जी को शर्म आनी चाहिए. हम उनसे इस घटना पर स्टेटमेंट की मांग करते हैं. उन्हें बताना चाहिए कि यह घटना क्यों और कैसे हुई, चन्द्र बोस ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए ममता बनर्जी को 24 घंटे का समय दिया है फिलहाल ममता बनर्जी की तरफ से इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: