Aug 30, 2017

कांग्रेस ने कर्नल पुरोहित को आतंकवादी बोलकर 9 साल जेल में रखा, मोदी ने फिर से पहना दी वर्दी


colonel-purohit-wear-army-officer-uniform-after-releasing-on-bail

कर्नल पुरोहित सेना में इंटेलिजेंस अफसर थे, वह आतंकियों की जासूसी करते थे, SIMI और उसके स्लीपर सेल को ख़त्म करने के मिशन पर निकले हुए थे. सेना को अपने हर कदम की जानकारी दे रहे थे. आतंकियों के कई राज का पर्दाफाश कर चुके थे, उनकी जासूसी से दुश्मन खौफ खाते थे, अगर कर्नल पुरोहित ना होते तो SIMI आज इस देश का सबसे बड़ा आतंकवादी संगठन बन चुका होता लेकिन कर्नल पुरोहित ने SIMI के कई स्लीपर सेल को ढूंढकर ख़त्म कर दिया था जिससे परेशान होकर पाकिस्तान और ISI ने कर्नल पुरोहित के खिलाफ बहुत बड़ी साजिश की और पूर्व सरकार की मदद से उन्हें जेल में पहुंचा दिया साथ ही हिन्दू आतंकवाद का राग छेड़ दिया गया.

पूर्व सरकार ने इतने बड़े जासूस और इतने बड़े अफसर को आतंकवादी बोलकर जेल में डाल दिया. उनके साथ ATS ने बहुत क्रूरता बरती. अगर उस वक्त उनके साथ सेना खड़ी होती तो पुलिस की हिम्मत भी नहीं थी कि कर्नल पुरोहित को गिरफ्तार कर सकती क्योंकि सेना के किसी भी अधिकारी को बिना सेना की अनुमति के गिरफ्तार किया ही नहीं जा सकता. हाँ सेना जरूर अपने अधिकारी का कोर्ट मार्शल कर सकती है. अगर कर्नल पुरोहित आतंकवादी होते तो सेना उनका कोर्ट मार्शल करती लेकिन सेना ने ऐसा कुछ नहीं किया जिससे साबित हो जाता है कि कर्नल पुरोहित ना तो आतंकवादी थे और ना ही कोई गलत काम कर रहे थे.

यही नहीं आज कर्नल पुरोहित ने फिर से सेना की वर्दी पहन ली. अब वे फिर से सेना के अफसर बन गए हैं. अगर वे आतंकवादी होते तो सेना उन्हें कभी वर्दी ना पहनाती उल्टा उनपर एक्शन लेती, उनका कोर्ट मार्शल कर देती लेकिन आज केंद्र में मोदी सरकार है तो सेना भी कर्नल पुरोहित के साथ है. मोदी सरकार की वजह से कर्नल पुरोहित को फिर से वर्दी मिल गयी है. अगर केंद्र में इस वक्त कांग्रेस की सरकार होती तो कर्नल पुरोहित को अभी भी आतंकवादी बताया जाता, उन्हें जेल में रखकर थर्ड डिग्री दी जा रही होती. उनकी जमानत कभी ना होती लेकिन मोदी सरकार ने उनके लिए सबसे बेहतरीन वकील हरीश साल्वे से कहकर जमानत दिलवाई और उन्हें फिर से वर्दी पहना दी.

अब आप खुद समझ लीजिये कौन अच्छी सरकार है और कौन बुरी सरकार है, कौन सी सरकार बहादुर आर्मी अफसरों को आतंकवादी बताकर उन्हें जेल में डाल देती है और कौन सी सरकार बहादुर आर्मी अफसरों के साथ न्याय करती है. आज कर्नल पुरोहित ने सेना की वर्दी पहनकर ड्यूटी ज्वाइन कर ली है. सभी देशभक्त उन्हें वर्दी में देखकर सलाम ठोंक रहे हैं. उनके साथ बहुत बड़ा इन्साफ हुआ है. वे बिना किसी गलती के 9 साल जेल में रहकर आए हैं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: