Jun 21, 2017

मोदी-बीजेपी के लिए खोदा गड्ढा लेकिन खुद उसी में गिर गए कुमार विश्वास, जमकर हो रही फजीहत


kumar-vishwas-latest-news-in-hindi
New Delhi, 21 June: कुमार विश्वास अपने आप को शायद बहुत बड़े कवि समझते हैं इसीलिए आजकल वह कविता के मध्यम से मोदी और बीजेपी पर हमले करते हैं लेकिन आज उनकी ही कविता उनपर भारी पड़ गयी, उन्होने जो वार मोदी और बीजेपी पर छोड़ा, वह उन्हीं पर आकर गिर गया और उनकी हेकड़ी निकल गयी, अब उनकी ट्विटर पर जमकर फजीहत हो रही है. एक कवि के रूप में भी उनकी फजीहत हो रही है और नौशिखिया राजनीतिज्ञ के रूप में भी उनकी फजीहत हो रही है.

बात दरअसल ये थी कि वे NDA के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को लेकर मोदी और बीजेपी पर व्यंगवाण चला रहे थे, कुमार विश्वास मोदी और बीजेपी को कविता के माध्यम से कायर बता रहे थे लेकिन ट्विटर उनके, और उनके गुरु केजरीवाल की ही पोल खुल गयी और ये लोग खुद कायर साबित हो गए.

कुमार विश्वास ने ट्विटर पर ये कविता पोस्ट की -
kuamr-vishwas-hindi-news

आपने देखा, इस कविता के टाइटल में कुमार विश्वास ने लिखा है - महामहिम चयन प्रसंग, मतलब प्रेसिडेंट के चयन के बारे में, कविता के अंत में लिखा है - जो जाति जाति का शोर मचाते केवल कायर, क्रूर. मतलब बीजेपी एक दलित नेता को राष्ट्रपति बना रही है इसलिए बीजेपी कायर और क्रूर है.

कुमार विश्वास शायद भूल गए कि पंजाब चुनाव में उनकी पार्टी ने भी दलित जाति का मुख्यमंत्री बनाने का दावा किया था, देखिये केजरीवाल का ट्वीट -
अब आप खुद देखिये, कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी के नेता हैं, केजरीवाल उनके बड़े भाई हैं और दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं, ये दलित नेता को पंजाब का उप-मुख्यमंत्री बनाने का वादा कर रहे हैं, उस वक्त कुमार विश्वास ने केजरीवाल का विरोध नहीं किया और ना ही उन्हें कायर बताया, इसका मतलब है कि केजरीवाल, कुमार विश्वास भी कायर और क्रूर हैं, मतलब अपनी घटिया राजनीति नहीं देख रहे हैं, दूसरों को बुरा भला बोल रहे हैं. देखिये ट्विटर पर कैसे हो रही कुमार विश्वास की खिंचाई -
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: