May 11, 2017

नसीमुद्दीन सिद्दीकी से बोलीं मायावती ‘मुसलमानों ने हमें वोट नहीं दिया, गद्दार हैं ये लोग'


nasimuddin-siddiqui-exposed-mayawati-told-muslim-traitor

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी से निकाले गए नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने मायावती पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि जब से मायावती उत्तर प्रदेश चुनाव हारी हैं तब से वे मुसलामानों को गद्दार और दाढ़ी वालों को कुत्ता बता रही हैं.

नसीमुद्दीन ने कुछ महीने पहले की बात बताते हुए कहा - नोटबंदी के बाद मायावती ने मुझे दिल्ली बुलाया और मुझसे 50 करोड़ रुपये कैश की मांग की,  मायावती ने कहा कि कोई प्रॉपर्टी बेच दो लेकिन मुझे 50 करोड़ कैश दो, मैंने कहा कि नोटबंदी के बाद इतना कैश मिलना मुश्किल है तो उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता, कहीं से भी लाओ, बेटे, पत्नी के नाम की प्रॉपर्टी बेच दो लेकिन कैश दो.

इसके बाद मैं अपने भाइयों के पास गया, दोस्त और रिश्तेदारों के पास गया और उनसे पैसे मांगे, मैंने पार्टी के भी लोगों से कहा कि मेरी प्रॉपर्टी बिकवा दो.

नसीमुद्दीन ने बताया कि उत्तर प्रदेश में हार के बाद मायावती ने एक दिन मुझे दिल्ली बुलाया, मेरे साथ मेरा बेटा अफजल भी था, उन्होंने मुझसे पूछा कि मुसलमानों ने हमें वोट क्यों नहीं दिया तो मैंने उनसे कहा कि हमें मुसलमानों के वोट मिले लेकिन सपा और कांग्रेस में गठबंधन के बाद अधिकतर मुसलमान उन्हें मजबूत देखकर उनके साथ चले गए, यह सुनकर मायावती गुस्से से लाल पीली हो गयीं और मुसलमानों को गद्दार बोलने लगीं.

मायावती ने कहा कि ये सही नहीं है, मुसलमान हमें पहले भी वोट नहीं देते थे और अब भी नहीं दे रहे हैं, ये लोग तो गद्दार हैं, जब मैंने विरोध किया तो उन्होंने एक्शन लेने की धमकी दी.

मायावती ने कहा कि हमने 1993 में सपा के साथ गठबंधन किया तो मुसलामानों का वोट नहीं मिला, हमने 1996 में कांग्रेस के साथ गठबंधन किया तो मुसलमानों का वोट नहीं मिला, इसलिए आप गलत बोल रहे हो और मुझे गुमराह करने की कोशिश कर रहे हो. इसके बाद मायावती ने मुझे उल्टा सीधा बोलना शुरू कर दिया.

नसीमुद्दीन ने कहा कि उनकी आदत है कि जब हारती हैं तो मुसलमानों को उल्टा सीधा बोलने लगती हैं, उन्होंने पहले भी ऐसा बोला था लेकिन जब मैनें समझाया तो उन्होंने कहा कि आगे से नहीं बोलूंगी, मैंने कहा ठीक है कोई बात नहीं, लेकिन इस बार भी उन्होंने मुसलमानों को उल्टा सीधा बोलना शुरू कर दिया और मुसलमानों को गद्दार बताया तो मुझे सहन नहीं हुआ, यहाँ तक कि उन्होंने दाढ़ी वालों को कहा कि - ये कुत्ते मेरे पास आते थे.

नसीमुद्दीन ने कहा कि बहन जी, डाढ़ी वालों को कुत्ता बोलना मेरे मजहब का अपमान है तो उन्होंने मेरे ऊपर एक्शन लेने की धमकी दी. मैंने कहा कि आप एक्शन ले लीजिये लेकिन मुसलमानों को गद्दार मत बोलिए.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: