ब्रिटिश सांसद ने किया धारा 370 हटने का समर्थन, भारतीय सेना ने कश्मीर को तालिबानीकरण होने से रोका

सात समुंदर पार वालों ने भी भारतीय सेना का लोहा माना है, ब्रिटेन के एक सांसद ने न सिर्फ जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने का समर्थन किया बल्कि भारतीय सेना के शौर्य की भी तारीफ की, यूके संसद को संबोधित करते हुए हैरो ईस्ट के सांसद, बॉब ब्लैकमैन ने जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त होने से पहले वहां के हालत के बारे में बात करते हुए कहा, ये कानून मानवधिकार के लिए वहां की महिलाओं और बच्चों के लिए निरस्त किया है, जिन्हें कट्टरपंथी इस्लामवादियों द्वारा सताया जा रहा था।

ब्रिटिश सांसद बॉब ब्लैकमैन ने जम्मू कश्मीर में हिंदुओं, बौद्धों और सिखों की अलग-अलग आबादी पर भी बात की। जो इस क्षेत्र के मूल निवासी थे और अनुच्छेद 370 के निरस्त होने से पहले उन्हें सताया जा रहा था। उन्होंने कहा, अनुच्छेद 35A के खत्म होते ही हिंदू कश्मीरी पंडित जिन्हें इस्लामी ताकतों द्वारा बंदूक के साथ निकाला गया था, अब उन्हें समान रूप से वापस लौटने की क्षमता प्राप्त है। उन्होंने कहा कश्मीर घाटी एक सुंदर क्षेत्र है। यह पर्यटन, संस्कृति, व्यापार और जलविद्युत शक्ति के लिए एक अवसर है, लेकिन यह कई आतंकवादी हमलों, हत्याओं, बाल विवाह और इस्लामी आतंकवादियों द्वारा जबरन धर्मांतरण का केंद्र बन गया था।

ब्लैकमैन ने कहा, हमें याद रखना चाहिए कि कश्मीर मुख्य रूप से मुस्लिम बाहुल इलाका है, जम्मू मुख्य रूप से हिंदू बाहुल क्षेत्र है और लद्दाख मुख्य रूप से बौद्ध है और अहम बात ये है कि ऐतिहासिक रूप से सताए गए धार्मिक अल्पसंख्यक हिंदू, सिख, ईसाई, महिलाएं और बच्चे हैं। हमने देखा है कि अफगानिस्तान में क्या हुआ है, अगर भारतीय सैनिक नहीं होते तो इस्लामी ताकतें लोकतंत्र को खत्म कर देंगी। केवल भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर को तालिबान का अफगानिस्तान बनने से रोका है।