अयोध्या में राममंदिर निर्माण के पहले चरण का काम पूरा, 2024 तक शुरू हो सकता है रामलला का दर्शन

अयोध्‍या में हो रहे भव्य राम मंदिर निर्माण का पहला चरण आज पूरा हो गया। श्रीराम भूमि तीर्थ-क्षेत्र न्‍यास के महासचिव चंपत राय ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि इस चरण में मंदिर की मजबूत आधारशिला बनाने का काम पूरा हुआ है। इसके लिए गर्भ-गृह के नीचे 14 मीटर और अन्‍य हिस्‍सों के लिए 12 मीटर की बुनियाद बनाई गई है। उन्‍होंने कहा कि मंदिर निर्माण का दूसरा चरण अगले दो महीने में पूरा हो जाएगा। इसके बाद तीसरा चरण भी तीन से चार महीने में बन कर तैयार हो जाएगा। चंपत राय ने यह भी कहा कि मंदिर निर्माण से जुडी ताजा जानकारी समय समय पर सार्वजनिक की जाएगी।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अधिकारियों ने कहा कि 2024 तक भक्तों के लिए मंदिर खुलनें की उम्मीद है, उल्लेखनीय है कि राम मंदिर का निर्माण पिछले साल 5 अगस्त को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रखी गई आधारशिला के साथ शुरू हुआ था, दिसंबर 2023 के अंत तक मंदिर तैयार होने की उम्मीद है। मंदिर में किसी भी स्टील या ईंट का उपयोग नहीं किया जा रहा है, मंदिर तीन मंजिला होगी।

  • मंदिर की लंबाई 360 फीट, चौड़ाई 235 फीट और प्रत्येक मंजिल की ऊंचाई 20 फीट होगी।
  • जमीन पर 160 स्तम्भ, प्रथम तल पर 132 तथा द्वितीय तल पर 74 स्तम्भ होंगे।
  • गर्भगृह या “शिखर” की ऊंचाई भूतल से 161 फीट होगी।
  • मंदिर का निर्माण राजस्थान के पत्थर और संगमरमर से किया जाएगा।
  • मंदिर निर्माण में करीब चार लाख क्यूबिक फीट पत्थर का इस्तेमाल किया जाएगा।
  • मंदिर परिसर में एक तीर्थ सुविधा केंद्र, संग्रहालय, अभिलेखागार, अनुसंधान केंद्र, सभागार, अनुष्ठान के लिए एक
  • जगह, एक प्रशासनिक भवन और पुजारियों के लिए कमरे शामिल होंगे।