कृषि कानून को रद्द करने के लिए राकेश टिकैत ने लगाई अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से गुहार

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीन नए कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से गुहार लगाई है, आज अमेरिका में पीएम मोदी और राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच द्विपक्षीय वार्ता होगी, मीटिंग से पहले टिकैत ने ट्वीट कर बाइडेन से अपील की है कि हमारी चिंता पर ध्यान दें.

राकेश टिकैत ने अमेरिकी राष्ट्रपति को टैग करते हुए अपने ट्वीट में लिखा, डियर जो बाइडेन हम भारतीय किसान पीएम मोदी सरकार द्वारा लाए गए 3 कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। पिछले 11 महीनों में विरोध प्रदर्शन में 700 किसानों की मौत हो चुकी है। हमें बचाने के लिए इन काले कानूनों को निरस्त किया जाना चाहिए। कृपया पीएम मोदी से मिलते समय हमारी चिंता पर ध्यान दें।

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ तथाकथित किसान पिछले लगभग 11 महीनों से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर सड़क जाम करके विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिससे आम लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, इन प्रदर्शनकारी किसानों का कहना है कि कृषि कानून काला कानून है, इसे फौरन रद्द किया जाना चाहिए। वहीं भारत सरकार का कहना है कि कृषि कानून में काला क्या है, किसान बताएं उसे संसोधित कर दिया जाएगा। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर कई बार स्पष्ट कर चुके हैं कि नया कृषि कानून रद्द नहीं होगा, यह किसानों के लिए लाभकारी कानून है.

आंदोलन कर रहे किसान संगठनों और भारत सरकार के बीच अबतक 11 दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है, आंदोलनकारी किसान कृषि कानून को काला बताकर रद्द करने की मांग पर अड़े हैं, कानून में काला क्या है उसे नहीं बता रहे हैं. आपको बता दें कि जितने किसान संगठन कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं उससे कहीं ज्यादा किसान संगठन केंद्रीय कृषि मंत्री से मिलकर नए कानूनों के प्रति अपना समर्थन जता चुके हैं.