संयुक्त राष्ट्र में बोले पीएम मोदी, दुनिया के सामने मंडरा रहा है आतंकवाद का ख़तरा

अमेरिका के न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76 वें सत्र को संबोधित कर रहे हैं, पीएम मोदी ने कहा, प्रतिगामी सोच के साथ, जो देश आतंकवाद का राजनीतिक उपकरण के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें ये समझना होगा कि आतंकवाद, उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है. पीएम मोदी ने कहा, संयुक्त राष्ट्र संघ में पीएम मोदी ने कहा कि अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए नहीं होना चाहिए। आतंकवाद को हर हाल में रोकना ही होगा। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को इसके लिए एक सुर में आवाज उठानी होगी। हमें इस बात के लिए भी सतर्क रहना होगा वहां कि नाजुक स्थितियों का इस्तेमाल कोई देश अपने स्वार्थ के लिए एक टूल की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश न करे.

पीएम मोदी ने कहा, मैं उस देश का प्रतिनिधित्व कर रहा हूं जिसे मदर ऑफ डेमोक्रेसी का गौरव हासिल है, लोकतंत्र की हमारी हज़ारों वर्षों की महान परंपरा रही है। इस 15 अगस्त को भारत ने अपनी आज़ादी के 75 वें साल में प्रवेश किया। हमारी विविधता, हमारे सशक्त लोकतंत्र की पहचान है। एक ऐसा देश जिसमें दर्जनों भाषाएं हैं, सैकड़ों बोलियां हैं, अलग-अलग रहन सहन, खान-पान है। ये वाइब्रेंट डेमोक्रेसी का उदाहरण है.

संयुक्त राष्ट्र में प्रधानमंत्री ने कहा, ये भारत के लोकतंत्र की ताकत है कि एक छोटा बच्चा जो कभी एक रेलवे स्टेशन की टी स्टॉल पर अपने पिता की मदद करता था वो आज चौथी बार भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर UNGA को संबोधित कर रहा है..