सामनें आया महंत नरेंद्र गिरी का सुसाइड नोट, चेले आनंद गिरी पर लगाया आरोप, गलत तस्वीर का जिक्र

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और प्रयागराज के बड़े हनुमान मंदिर के महंत नरेंद्र गिरि ने सोमवार को आत्महत्या कर ली थी, प्रयागराज स्थित बाघंबरी गद्दी मठ में फांसी के फंदे पर लटकता हुआ उनका शव मिला था, अब महंत नरेंद्र गिरी का सुसाइड नॉट नोट भी सामने आ गया है, जिसमें उन्होंने अपने चेले आनंद गिरी पर गंभीर आरोप लगाए हैं, आनंद गिरी फिलहाल पुलिस की हिरासत में है.

सुसाइड नोट में लिखा गया है कि ‘मैं महंत नरेंद्र गिरि वैसे तो मैं 13 सितंबर 2021 को आत्महत्या करने जा रहा था, लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया. आज जब हरिद्वार से सूचना मिली कि एक या 2 दिन में आनंद गिरि कंप्यूटर के माध्यम से मोबाइल में किसी लड़की या महिला के साथ गलत काम करते हुए मेरी फोटो लगाकर उस फोटो को वायरल कर देगा, तब मैंने सोचा कि अब कहां-कहां सफाई दूंगा. मैंने सोचा एक बार बदनाम हो जाऊंगा तो क्या होगा? मैं जिस पद पर हूं, वह पद गरिमा वाला पद है.

सच्चाई तो लोगों को बाद में पता चल पाएगा लेकिन मैं तो बदनाम हो जाऊंगा. इसलिए मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं. जिसकी जिम्मेदारी आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी एवं उनका लड़का संदीप तिवारी होगा।

उन्होंने लिखा, आज मेरा मन आनंद गिरी के कारण विचलित हो गया. हरिद्वार से ऐसी सूचना मिली कि आनंद गिरि कंप्यूटर के माध्यम से एक लड़की के साथ मेरी फोटो जोड़कर गलत काम करते हुए बदनाम करेगा. आनंद गिरि का कहना है कि महाराज यानी मैं कहां तक सफाई देते रहूंगा. मैं जिस सम्मान से जी रहा हूं, अगर मेरी बदनामी हो गई तो मैं समाज में कैसे रहूंगा, इससे अच्छा मर जाना ही ठीक है.