जावेद अख्तर ने तालिबान से की बजरंग दल और RSS की तुलना, जमकर खरी-खोटी सुना रहे लोग

फिल्म लेखक और गीतकार जावेद अख्तर ने अफगानिस्तान के इस्लामिक आतंकी गुट तालिबान की तुलना भारत के आरएसएस और बजरंग दल से की है, इस बयान के बाद जावेद अख्तर का जमकर विरोध हो रहा है, सोशल मीडिया पर लोग उन्हें जमकर खरी-खोटी सुना रहे हैं, एनडीटीवी से बात करते हुए जावेद अख्तर ने कहा था कि ‘तालिबान बर्बर हैं, उनकी हरकतें निंदनीय हैं, लेकिन आरएसएस, विहिप और बजरंग दल का समर्थन करने वाले सभी एक जैसे हैं. जावेद अख्तर के इस बयान के बाद भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने उनके जुहू स्थित घर के पास विरोध प्रदर्शन किया।

जावेद अख्तर ने कहा, “बेशक, तालिबान बर्बर है, और उनकी हरकतें निंदनीय हैं, लेकिन आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वाले सभी एक जैसे हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है और लोग, आबादी काफी हद तक धर्मनिरपेक्ष है, लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जो आरएसएस और विहिप जैसे संगठनों और गोलवलकर आदि लोगों का समर्थन करते हैं, जिनकी विचारधारा 1930 के दशक के नाजियों के समान है। तालिबान हथियारों से अधिक सशक्त हो सकता है, लेकिन दृष्टिकोण, दृष्टिकोण और विचारधारा एक दूसरे को प्रतिबिंबित कर रहे हैं।

जावेद अख्तर के घर के बाहर विरोध प्रदर्शन करने वाले लोगों का कहना है कि ‘आरएसएस जरूरत के समय सभी की मदद करता है और जावेद अख्तर को तालिबान से उनकी तुलना करने के लिए तुरंत माफी मांगनी चाहिए।

महाराष्ट्र के भाजपा विधायक अतुल भाटखलकर ने जावेद अख्तर के बयान को निंदनीय करार देते हुए कहा कि यह पूरे हिन्दू समुदाय का अपमान है, अगर अख्तर ने माफ़ी न मांगी तो उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया जाएगा।