पुराना संदिग्ध आर्थिक अपराधी है सोनू सूद, 2012 में भी पड़ चुका है इनकम टैक्स का छापा

sonu-sood-epic-reply-to-the-user-asking-for-an-iphone

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद के कई ठिकानों पर कल आयकर विभाग ने छापेमारी की, इस छापेमारी के बाद कुछ लोगों का कहना है कि सोनू सूद को सरकार द्वारा जानबूझकर निशाना बनाया जा रहा है. ऐसा कहनें वालों में बहुत से कांग्रेसी भी शामिल हैं, लेकिन कांग्रेस वाले शायद भूल गए हैं कि सोनू सूद पर आईटी विभाग की कार्यवाही पहली बार नहीं हुई है, इससे पहले 2012 में भी सोनू सूद के ठिकानों पर छापा पड़ा था, तब देश में कांग्रेस की सरकार थी. यानि इससे स्पष्ट होता है कि सोनू सूद पुराने संदिग्ध आर्थिक अपराधी हैं, तभी इनकम टैक्स बार-बार छापेमारी कर रहा है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, आयकर विभाग ने कल सोनू सूद के मुंबई स्थित ठिकानों पर छापेमारी की, एनडीटीवी के मुताबिक़, आयकर विभाग के सूत्रों ने दावा किया, “सोनू सूद की कंपनी और लखनऊ की एक रियल एस्टेट फर्म के बीच हालिया सौदा जांच के दायरे में है। इस सौदे पर टैक्स चोरी के आरोपों पर सर्वेक्षण अभियान शुरू किया गया है।”

यह पहली बार नहीं है जब सोनू सूद पर छापा मारा गया है। वह उन बॉलीवुड हस्तियों में शामिल थे, जिन पर 2012 में टैक्स चोरी को लेकर छापा मारा गया था। बता दें कि कोरोना काल में सोनू सूद ने बहुत से लोगों की मदद भी की थी…लेकिन इसमें भी इनका फ्रॉड सामने आया था.

इसी साल मई महीनें में सोनू सूद ने ट्वीट कर जानकारी दी कि उन्होंने ओड़िशा के ब्रह्मपुर में एक पेशेंट को बेड अरेंज कराया गया है, सोनू सूद के इस ट्वीट के बाद जिले के डीएम ने कहा, वह जिस पेशेंट को बेड दिलाने की बात कह रहे हैं वह होम आइसोलेशन में है और स्थिर है. कोई बेड इशू नहीं हुई है. ऐसे और भी कई मामलें सामनें आये थे. सोनू सूद से मदद मांगनें वाले ज्यादातर ट्विटर अकाउंट भी डिलीट हो चुके हैं.