बाइडेन ने अशरफ गनी को बताया कायर, कहा- अफ़ग़ान सेना लड़ने को तैयार नहीं तो अमेरिकी वहां जान नहीं गवाएंगे

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने आज एक सम्बोधन में कहा कि ‘अमेरिकी सेना लगातार अफगानिस्तान में लड़ने का ख़तरा नहीं उठा सकती, इसके अलावा बाइडेन ने अफगानिस्तान की हालत के लिए भगोड़े राष्ट्रपति अशरफ गनी को जिम्मेदार ठहराया है, बाइडेन ने कहा, हमारी सेना लगातार अफगानिस्तान में लड़ने का ख़तरा नहीं उठा सकती. 20 सालों के कठिन वक़्त से हमने सीखा कि अमेरिकी सेना को वहां से वापस लेने का अच्छा समय तो कभी नहीं था. हम जोखिम के बारे में स्पष्ट हैं पर ये हमारी अपेक्षा से कहीं अधिक तेजी से सामने आया.

अफगानिस्तान के भगोड़े राष्ट्रपति अशरफ गनी को जिम्मेदार ठहराते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, गनी से पूछा जाना चाहिए कि वह देश के को इस तरह अकेला छोड़कर क्यों भाग गए, आखिर क्यों तालिबान के सामने इतनी जल्दी घुटने टेक दिए. बाइडेन ने कहा, अपने लोगों की भलाई के लिए साथ आने में अफ़ग़ानी नेता नाकाम रहे। जब सबसे ज़्यादा ज़रुरत थी तब वे अपने भविष्य के लिए खड़े नहीं हो पाए।

राष्ट्रपति बाइडेन ने अपने सम्बोधन में कहा, अगर अफ़ग़ान सेना लड़ने को तैयार नहीं तो अमेरिकियों को वहां अपनी जान गंवाने की ज़रुरत नहीं, मुझे पता है इस फ़ैसले के लिए मेरी आलोचना होगी लेकिन मुझे हर आलोचना मंज़ूर है। मैं इसे अगले किसी राष्ट्रपति के लिए नहीं छोड़ सकता था. इसके अलावा बाइडेन ने यह भी कहा कि ‘अगर तालिबान ने हम पर हमला किया तो हम पूरी ताक़त से जवाब देंगे’.

उल्लेखनीय है कि सम्पूर्ण अफगानिस्तान पर तालिबान ने कब्जा कर लिया, अफगानिस्तानी सेना ने बिना लड़े ही सरेंडर कर दिया, जान बचाने के लिए राष्ट्रपति, रक्षामंत्री समेत बड़े नेता और अधिकारी देश छोड़कर भाग चुके हैं, अब बची है आम जनता, वो भी जैसे-जैसे अफगानिस्तान से निकलने की जुगत में है, काबुल एयरपोर्ट पर भयंकर भीड़ है, प्लेन में चढ़ने के लिए मारामारी है.