जम्मू कश्मीर के पत्थरबाजों पर सख्त हुई सरकार, न मिलेगी सरकारी नौकरी, न होगा पासपोर्ट क्लियरेंस

भारतीय सेना के जवानों पर पत्थरबाजी करने वाले जम्मू कश्मीर के पत्थरबाजों के खिलाफ सरकार ने कड़ा रुख अख्तियार किया है, जम्मू-कश्मीर पुलिस की सीआईडी ने कहा है कि पत्थरबाजी और अन्य विध्वंसक गतिविधियों में शामिल सभी लोगों को पासपोर्ट और अन्य सरकारी सेवाओं के लिए आवेदन करते समय आवश्यक सत्यापन के लिए सुरक्षा मंजूरी नहीं दी जाएगी। हाल ही में कश्मीर सीआईडी की ओर से एक सर्कुलर जारी किया गया है। जिसमें पत्थरबाजी जैसी गतिविधियों में शामिल रहने वालों और राज्य की सुरक्षा को खतरे में डालने वालों की को सुरक्षा मंजूरी देने से इनकार करने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए सभी डिजिटल साक्ष्यों और पुलिस रिकॉर्ड्स को ध्यान में रखा जाएगा।

सर्कुलर में साफ तौर पर कहा गया है कि यदि किसी व्यक्ति की पासपोर्ट बनवाने, सरकारी नौकरी या फिर किसी सरकारी योजना से जुड़े मामले में सिक्योरिटी क्लियरेंस की रिपोर्ट को तैयार किया जाए तो उसमें यह भी देखा जाना चाहिए कि वह व्यक्ति पत्थरबाजी, कानून व्यवस्था भंग करने या फिर किसी अन्य अपराध में तो शामिल नहीं रहा है। यदि व्यक्ति इनमें लिप्त पाया जाए तो उसे सिक्योरिटी क्लियरेंस नहीं दिया जाना चाहिए।

इस सर्कुलर को सीआईडी कश्मीर के एसएसपी की ओर से जारी किया गया है। इसमें यह भी कहा गया है कि ऐसे व्यक्तियों की पहचान के लिए पुलिस स्टेशन से भी रिपोर्ट ली जानी चाहिए।