करनाल की घटना पर बोले हरियाणा के ADGP ( लॉ एन्ड ऑर्डर ), उग्र हुए थे किसान, 10 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं

हरियाणा के करनाल में पुलिस ने आज किसानों पर लाठीचार्ज कर दिया। शनिवार को करनाल के घरौंडा में बस्तारा टोल प्लाजा पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के एक कार्यक्रम के विरोध में किसानों ने प्रदर्शन किया. इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया। कई किसान इस लाठीचार्ज में घायल हो गए, करनाल की घटना को लेकर अब हरियाणा के ADGP ( लॉ एन्ड ऑर्डर ) नवदीप विर्क का बयान आया है, उन्होंने कहा, किसान उग्र हो गए थे, 10 पुलिसकर्मीं घायल हुए हैं.

करनाल की घटना को लेकर हरियाणा के एडीजीपी ( लॉ एन्ड ऑर्डर ) नवदीप विर्क ने कहा, बस्तारा टोल प्लाजा पर मौजूद किसान प्रदर्शनकारियों ने सुबह तकरीबन 12 बजे जबरदस्ती नेशनल हाइवे को जाम किया। जबरदस्ती करनाल शहर की तरफ जाने की कोशिश की, जब वहां पर मौजूद कर्मचारियों, अधिकारियों ने समझाया कि आप वहां नहीं जा सकते, तो उसके बाद किसान प्रदर्शनकारियों ने उग्र रूप धारण कर लिया।

एडीजीपी ने कहा, कुछ प्रदर्शनकारियों ने पुलिसबल पर पत्थर फेंके, कुछ लोगों ने कसी से भी अटैक करने की कोशिश की, उसके बाद पुलिस बल ने नियमानुसार एक हल्का बल प्रयोग किया, और उनको वहां से हटाया। एडीजीपी ने कहा, अभी तक जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक़, 4 किसान भाइयों को चोट आई है और 10 पुलिसकर्मियों को चोट आई है..

एडीजीपी ने महत्वपूर्ण जानकारी देते हुए बताया कि 7 जून 2021 को टोहाना में ‘संयुक्त किसान मोर्चा’ के कुछ नेताओं के साथ हमारी बातचीत हुई थी, उन्होंने हमें लिखित आस्वाशन दिया था कि आगे से कभी भी हम उग्र रूप नहीं धारण करेंगे। शांतिप्रिय ढंग से प्रदर्शन करेंगे। लेकिन उसके बाद काफी घटनाएं ऐसी हुई हैं जिसमें उन्होंने ( किसानों ने ) वायलेंस का सहारा लिया। एडीजीपी ने कहा, जब कोई भी प्रदर्शन वायलेंट यानि हिंसा पर उतर आता है तो पुलिस की ड्यूटी बनती है कि वहां पर लॉ एन्ड आर्डर को मेनटेन किया जाय..