अमित जानी को मिली जान से मारने की धमकी, धमकीबाज बोला- 1 करोड़ में हुई है तुम्हारी ह्त्या की डील

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) , युवजन सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी ( Amit Jani ) को किसी अज्ञात व्यक्ति ने जान से मारने की धमकी दी है, सोशल मीडिया के माध्यम से जानी ने इसकी जानकारी दी है, अमित जानी ( Amit Jani ) को धमकी देने के लिए अज्ञात ने व्हाट्सएप्प का सहारा लिया, धमकीबाज ने कहा, 1 करोड़ में तुम्हारी ह्त्या की डील हुई है, अमित जानें के पूछने के बाद उसने यह भी बताया कि उसको किसने मारने की सुपारी दी है..

अमित जानी ( Amit Jani ) ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, एक व्यक्ति धमकी दे रहा है कि 10 दिन में गोली मार देगा। हालांकि वो बाद में ऐसा करने से मना भी कर रहा है और कह रहा है कि उसको इस काम के पैसे मिले है 1 करोड़ में तुम्हारी हत्या की डील हुई है। मैं नही जानता ये मजाक है या सच लेकिन इस ट्वीट को इतना रीट्वीट कर दो, इतना कमेंट कर दो ट्विटर पे कि सरकार नींद से जाग जाए।


अमित जानी ने उक्त धमकीबाज के व्हाट्सएप्प चैट भी संलग्न किये हैं, जिसमें वो जानी को 10 दिन के अंदर गोली मारने की बात कर रहा है, धमकीबाज यह भी कह रहा है कि मेरा मारने का इरादा नहीं है, लेकिन मैं मजबूर हूँ क्योंकि मुझे पैसों की जरूरत है..

अमित जानी और धमकीबाज के बीच हुई व्हाट्सएप्प चैट.

धमकीबाज10 दिन के अंदर तुझे गोली मार दूंगा, वार्निंग है तेरे लिए.

अमित जानी – कौन है भैया बन्दूकबाज, क्यों गोली मार रहा है, मैं तो तुझे जानता भी नहीं।

धमकीबाजजाना जाओगे मिस्टर अमित जानी।

अमित जानी – चलो ठीक है देखेंगे, मृत्यु तो परम सत्य है, जिंदगी-मौत महादेव के हाथ में है, कोई सड़क चलता दो कौड़ी का आदमी किसी को नहीं मार सकता।

धमकीबाजमजबूर हूँ, मेरा कोई इरादा नहीं है, लेकिन तुम्हें मारने के मुझे पैसे मिले और पैसों की मुझे जरूरत है..

अमित जानी – कितने पैसे मिले हैं, क्या मालूम जितने पैसे तुम्हें मिले हों उतनी मेरी औकात ही न हो…या जितने किसी ने दिए हैं, मैं उससे अधिक दे दूँ तुम्हें बिना मारे ही..

धमकीबाजअच्छा मजाक करते हो बड़े भाई, बड़े भाई आप बहुत नेक इंसान हो, आपकी वीडियो देखि है एम्बुलेंस वाली।

अमित जानी – कितने पैसों की जरूरत है तुमको।

धमकीबाजआप भगवान हो जनता के लिए, फिर इतने दुश्मन क्यों बड़े भैया।

अमित जानी – दुश्मन तो अच्छे लोगों के ही होते हैं.

धमकीबाजबड़े भाई मुझे आपसे पैसे नहीं चाहिए। आप बहुत अच्छे इंसान हैं, और आपको मैं कुछ नहीं कर सकता। क्योंकि आप जनता की दुआ लेकर सबकुछ कर रहे हो..मेरी जरूरत पूछने को, मैं पैसे आपसे नहीं लूंगा, धन्यवाद,,,,और न ही मुझे आपको नुकसान पहुंचाने के पैसे चाहिए।

अमित जानी – बताओ कोई समस्या हो तो मैं मदद कर दूंगा।

धमकीबाजआपके जैसा कोई नहीं है भैया, आप जनता की सेवा करते रहिये, महादेव का आशीर्वाद बना रहे, लव यु बड़े भाई,…..सॉरी बड़े भाई आपसे हमने अभद्रता से बात की, माफ़ कर दीजिये हमें।

अमित जानी – लेकिन ये तो मालूम चले तुम हो कौन, और कौन मुझे मरवाना चाहता है, क्योंकि तुम तो बदल गए, मन में अलग भाव आ गया, लेकिन मरवाने वाला तो किसी और को सुपारी देगा। तो उसका नाम तो मालूम होना चाहिए।

धमकीबाजमुझे 10 लाख की अर्जेन्ट जरूरत है, मेरा एक दोस्त अनिल सोनी लखनऊ का, उसने कहा कि एक काम है, मैनें बोला- हो जाएगा। एक करोड़ में डील है उसकी किसी से, वो पार्टी भी लखनऊ की है, उसने मुझे 60 लाख देने को बोला था..लेकिन अब मुझे 60 लाख नहीं चाहिए। जिसके साथ गरीब की दुआ हो 60 लाख क्या, 60 करोड़ में भी कुछ नहीं कर सकता।

आपको बता दें कि अमित जानी आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मेरठ की सिवालखास विधानसभा सीट से शिवपाल यादव की पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं, जानी शिवपाल के करीबी माने जाते हैं और उनका टिकट लगभग पक्का माना जा रहा है और वो काफी पहले से तैयारी भी शुरू कर चुके हैं.