सदन में हुड़दंग करने वाले नदिमुल हक़ समेत TMC के 6 राज्यसभा सांसद निलंबित किये गए

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने 4 अगस्त को तृणमूल कांग्रेस के कुछ सांसदों को एक दिन के लिए निलंबित कर दिया क्योंकि उन्होंने अन्य विपक्षी नेताओं के साथ सदन की कार्यवाही को बाधित किया। पेगासस परियोजना रिपोर्ट पर विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच निलंबन की घोषणा करने के तुरंत बाद नायडू ने सदन को दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया।

सभापति नायडू ने कहा कि राज्यसभा में तख्तियां लिए सदन के वेल में पहुंचे विपक्षी सांसद दिनभर के लिए निलंबित रहेंगे। प्रदर्शनकारी सांसद पेगासस प्रोजेक्ट रिपोर्ट पर तत्काल चर्चा की मांग कर रहे थे। नायडू ने कहा, “जो कोई भी वेल में है और तख्तियां लिए हुए है, उससे सदन से निकलने का अनुरोध किया जाता है।”

सभापति ने ने पहले विरोध करने वाले सांसदों से अपनी सीटों पर लौटने का अनुरोध किया और वेल में तख्तियां रखने वालों के खिलाफ रूल 255 लागू करने की बात कही, इसके बावजूद टीएमसी सांसदों द्वारा हंगामा रहा, उसके बाद सभापति ने टीएमसी सांसद डोला सेन, नदिमुल हक़, अबीर विश्वास, शांता छेत्री, अर्पिता घोष, मौसम नूर को एक दिन के लिए सदन से ससपेंड कर दिया।

संसद के मानसून सत्र के तीसरे सप्ताह में सदन में विरोध प्रदर्शन जारी रहने के कारण लोकसभा को भी दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।जब से 19 जुलाई को मानसून सत्र शुरू हुआ है, पेगासस स्पाईवेयर, कृषि सुधार कानून, COVID-19 सहित कई मुद्दों पर विपक्ष द्वारा लगातार हंगामे के कारण संसद के दोनों सदनों का कामकाज काफी हद तक बाधित हुआ है..