उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने दिया इस्तीफा, जानें क्यों?

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इस्तीफा दे दिया है, रावत ने अपना इस्तीफा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को भेज दिया है, यह खबर एबीपी न्यूज़ के पत्रकार विकास भदौरिया ने ब्रेक की है, अब उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं, उधर तीरथ रावत ने राज्यपाल से मिलने का समय माँगा है, जानकारी के अनुसार, संवैधानिक संकट का हवाला देकर इस्तीफा दिया है तीरथ सिंह रावत ने..सूत्रों ने के मुताबिक़, उत्तराखंड के विधायक दल की बैठक अगले 24 से 36 घंटों में होने की संभावना है..( Uttarakhand CM Tirath resigns ) तीरथ रावत ने अपने इस्तीफे में लिखा है कि जनप्रतिनिधि क़ानून की धारा 151 A के तहत अब उपचुनाव संभव नहीं है इसलिए मै मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देता हूँ.

पौड़ी के भाजपा सांसद तीरथ सिंह रावत ने इस साल 10 मार्च को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में पदभार संभाला था और उनके लिए विधायक के रूप में चुने जाने की छह महीने की समय सीमा सितंबर में समाप्त हो रही है। राजनीतिक पर्यवेक्षकों का मानना है कि राज्य में अगले विधानसभा चुनाव में एक साल से भी कम समय बचा है और ऐसी परिस्थितियों में आम तौर पर उपचुनाव नहीं होते हैं. शायद इसीलिए तीरथ सिंह रावत ने इस्तीफा दिया है. हाल ही में तीरथ सिंह रावत ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ात की थी.( Uttarakhand CM Tirath resigns )


सूत्रों के मुताबिक़, भाजपा अब ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाएगी तो विधायक हो, उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा इस्तीफा दिए जानें के बाद तीरथ सिंह रावत उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री बनें थे, लेकिन उनका कार्यकाल ज्यादा लंबा नहीं चल सका. ( Uttarakhand CM Tirath resigns )

तीरथ सिंह रावत भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं, 9 फरवरी 2013 से 31 दिसंबर 2015 यानि तीन साल तक भारतीय जनता पार्टी उत्तराखंड के पार्टी प्रमुख थे और 2012 से 2017 तक चौबट्टाखाल से विधायक थे, उसके बाद 2019 में पौड़ी गढ़वाल से सांसद बने. इसके अलावा तीरथ सिंह रावत 2000 में उत्तराखण्ड के प्रथम शिक्षा मंत्री चुने गए थे। इसके बाद 2007 में उत्तराखण्ड के प्रदेश महामंत्री चुने गए थे।