UP जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव: घर में पिटने के बाद बौखलाए राकेश टिकैत, प्रसाशन पर फोड़ा ठीकरा

उत्तर प्रदेश जिला पंचायत चुनाव में भाजपा ने प्रचंड जीत हासिल की है, 75 में से 65 सीटों पर भाजपा ने जीत का परचम लहराया है, 2 सीटों पर भाजपा सहयोगी पार्टी चुनाव जीती है, किसान नेता राकेश टिकैत के गृहनगर मुजफ्फरनगर में भी भाजपा ने जीत का परचम लहरा दिया है, भारतीय किसान यूनियन ने भाजपा को हराने के लिए तमाम तिकड़म अपनाया लेकिन सब फेल हो गया, मुजफ्फरनगर में जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए राकेश टिकैत के भाई नरेश टिकैत ने भारतीय किसान यूनियन की ओर से सतेंद्र बालियान को मैदान में उतारा था, किसान यूनियन को विपक्षी दलों का भी समर्थन प्राप्त था, लेकिन फिर भी जीत नसीब नहीं हुई…rakesh tikait zila panchayat

मुजफ्फरनगर सीट किसानों खासकर राकेश टिकैत की साख का सवाल बन गई थी, फिर भी उनके हाथ असफलता लगी, एक तरह से कहें तो घर में ही टिकैत को करारा झटका लगा. मुजफ्फरनगर में भाकियू प्रत्याशी की करारी हार के बाद राकेश टिकैत ने प्रशासन पर हार का ठीकरा फोड़ा है. एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए टिकैत ने कहा, गनपॉइंट पर वोट डलवाया गया है. उन्होंने कहा, बीजेपी ने विपक्षी उम्मीदवारों को डराया और प्रसाशन ने भी बखूबी भाजपा का साथ निभाया। rakesh tikait zila panchayat

आपको बता दें कि मुजफ्फरनगर जिले में 43 जिला पंचायत सदस्य थे, जीत के लिए 22 वोटों की जरूरत थी, भाजपा प्रत्याशी डॉक्टर वीरपाल निर्वाल को 30 वोट मिले जबकि भारतीय किसान यूनियन के प्रत्याशी सतेंद्र बालियान को महज 3 वोट मिले, इस तरह से भाजपा ने बम्पर जीत दर्ज की और किसान यूनियन की शर्मनाक हर हुई…जिला पंचायत की कुर्सी के लिए नरेश टिकैत ने जाट और मुस्लिम के बीच ढाई-ढाई साल फॉर्मूला भी तय कर दिया था, लेकिन फिर भी जीत दर्ज करने में नाकामयाब रहे…मुजफ्फरनगर में भाकियू प्रत्याशी के हारने से यह भी स्पष्ट हो गया कि मुजफ्फरनगर में टिकैत बंधुओं का कोई ख़ास प्रभाव नहीं है.rakesh tikait zila panchayat