गिड़गिड़ाया मुख़्तार अंसारी, कहा- पूरे UP की जेल में TV है, जज साहब मेरे बैरक में भी TV लगवा दीजिये

माफिया मुख़्तार अंसारी को यूपी पुलिस पंजाब की रोपड़ जेल से उत्तर प्रदेश की बांदा जेल लाकर शिफ्ट कर चुकी है, हालाँकि पंजाब और बांदा की जेल में जमीन आसमान का फर्क है, पंजाब की जेल में मुख़्तार अंसारी को सभी वीवीआईपी सुविधाएं दी जा रही थी, लेकिन बांदा जेल में मुख़्तार को कोई वीआईपी सुविधा नहीं दी जा रही है, जैसे आम कैदी रखे गए हैं, वैसे ही मुख़्तार अंसारी भी रखा गया है. Mukhtar Ansari demands TV

मुख़्तार अंसारी को बांदा जेल की बैरक नंबर-16 में रखा गया है, बैरक में वो अकेले है, उसके बैरक को सीसीटीवी कैमरों से लैश कर दिया गया है, मुख्तार अंसारी की बांदा जेल से सीजेएम कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए तीसरी पेशी हुई. कोर्ट में पेश होते ही सबसे पहले मुख्तार अंसारी ने जज से कहा कि साहब मेरे बैरक में टीवी लगवाने का आदेश जारी कर दीजिए. वर्ल्ड कप चल रहा है. स्पोर्ट्स प्लेयर रह चुका हूं. मैं हमेशा आपका ऋणी रहूंगा। Mukhtar Ansari demands TV

जज साहब के सामने गिड़गिड़ाते हुए मुख़्तार अंसारी ने कहा, ‘पूरे यूपी में जेल के बैरकों में टेलीविजन सुविधा है. लेकिन मेरे बैरक से ये सुविधा छीन ली गई है. अगर आप मुझे टीवी की सुविधा उपलब्ध करवा दें तो हम जिंदगी भर आपके ऋणी रहेंगे। Mukhtar Ansari demands TV

कहा जाता है कि पहले जब मुख़्तार अंसारी उत्तर प्रदेश की जेल में बंद होता था तो उसे वीवीआईपी सुविधाएं दी जाती थी, लेकिन योगीराज में कोई वीवीआईपी सुविधा नहीं दी जा रही है, अब मुख़्तार अंसारी को समझ आ रहा होगा जेल में रहने का असली मतलब। मुख़्तार अंसारी रात में उठ-उठकर बैरक में टहलता रहता है, दीवारों को निहारता रहता है, क्योंकि उसके आसपास उससे बातचीत करने वाला कोई नहीं है, सुविधा के नाम पर छत का पंखा लगा है लेकिन जिस हिसाब से गर्मीं पड़नी शुरू हुई है, ये भी बेअसर हो हो गया होगा।