2 बच्चों को डॉक्टर-इंजीनियर बना सकते हैं, 8 बच्चे होंगे तो पंचर की दुकान ही लगाएंगे: मोहसिन रजा

गोली की रफ़्तार से बढ़ रही जनसख्या को नियंत्रित करने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने ‘जनसंख्या नियंत्रण विधेयक’ का ड्रॉफ्ट तैयार कर दिया है और राज्य विधि आयोग ने अपनी वेबसाइट पर ड्राफ्ट को अपलोड कर दिया है, 19 जुलाई तक जनता से राय मांगी गई है, इस ड्राफ्टमें दो से अधिक बच्चों वालों की सुविधाओं में कटौती का प्रस्ताव दिया गया है. जनसंख्या नियंत्रण के इस मसौदे पर अब यूपी सरकार में मंत्री Mohsin Raza का बयान सामने आया है.

जनसंख्या नीति पर यूपी सरकार के मंत्री Mohsin Raza ने कहा, दो बच्चों को हम डॉक्टर और इंजीनियर बना सकते हैं, पर 8 बच्चे होंगे तो पंचर की दुकान ही लगाएंगे। और फावड़ा मजदूरी ही करेंगे! मंत्री ने आगे कहा है कि हम धर्म को टारगेट नहीं कर रहे हैं बल्कि देश को आगे ले ले जाना चाहते हैं!


Mohsin Raza ने कहा है कि हम अपने लोगों को टोपी से टाई की तरफ ले जाना चाहते हैं! साथ ही मोहसिन रजा ने यह भी कहा कि समाजवादी पार्टी हो या फिर कांग्रेस पार्टी वैसे ही इनका जनाधार नहीं है यह लोग सिर्फ धर्म और जाति की राजनीति करते हैं! उनका कहना है कि कानून को हमने जनता के बीच में रखा है और उनसे राय मांगी है.

आपको बता दें कि यूपी सरकार ने जो मसौदा तैयार किया है, उसके मुताबिक़, दो से अधिक बच्चे वालों को किसी भी सरकारी सब्सिडी, सरकारी योजना का लाभ नहीं मिलेगा। सरकारी नौकरी में आवदेन भी नहीं कर सकता। यही नहीं स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने पर भी रोक लगाई जाएगी। पूरा मसौदा तैयार हो चुका है. यूपी राज्य विधि आयोग ने ‘यूपी जनसंख्या (नियंत्रण, स्थिरीकरण और कल्याण) विधेयक, 2021’ के मसौदे पर 19 जुलाई तक जनता की राय मांगी है.

अगर कानून लागू होने के बाद कोई भी दो बच्चे के मानदंड का उल्लंघन करता है, उसे सरकार द्वारा प्रायोजित सभी कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से वंचित कर दिया जाएगा, स्थानीय निकायों के लिए चुनाव नहीं लड़ सकता है, उसका राशन कार्ड चार सदस्यों तक सीमित होगा, और वह किसी भी प्रकार की सरकारी सब्सिडी प्राप्त करने के लिए अपात्र होगा।