आतंकियों की गिरफ़्तारी पर अखिलेश ने उठाया सवाल तो भड़के पूर्व DGP, कहा- इसी ने आतंकियों का केस वापस लिया था

दो दिन पहले लखनऊ के काकोरी में गिरफ्तार किये गए अलकायदा के आतंकियों की गिरफ़्तारी पर सवाल उठाने वाले सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए यूपी के पूर्व डीजीपी ( Ex DGP Brijlal ) ने कहा, जेहादियों की हिमायती पार्टी की व्यथा समझी जा सकती है। ये वही अखिलेश यादव हैं जिन्होनें आतंकियों का केस वापस लिया था. बता दें कि यूपी एटीएस ने लखनऊ के काकोरी से अलकायदा के दो आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया। स्वतंत्रता दिवस से पहले दोनों आतंकी फिदायीन बनकर यूपी को दहलाना चाहते थे, लेकिन एटीएस ने इनके नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया।

आतंकियों की गिरफ़्तारी के बाद एक तरफ जहाँ एटीएस की तारीफ हो रही है तो वहीँ यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने सवाल उठाते हुए कहा, मुझे यूपी पुलिस पर भरोसा ही नहीं है, ऐसा बयान देकर अखिलेश यादव ने न सिर्फ सुरक्षा एजेंसियों का अपमान किया बल्कि अप्रत्यक्ष रूप से आतंकियों का समर्थन भी किया।


दरअसल अखिलेश यादव से जब पत्रकारों ने सवाल किया कि ‘ अखिलेश जी दुबग्गा में एटीएस का एक ऑपरेशन चल रहा है, जिसमें आतंकी छुपे हुए हैं, इसका जवाब देते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा, मैं उत्तर प्रदेश पुलिस पर और खासकर भाजपा की सरकार पर भरोसा नहीं करता।

अखिलेश यादव के इस बयान के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) बृजलाल ( Ex DGP Brijlal )  ने कहा, मैं अखिलेश यादव की व्यथा समझ सकता हूँ, उनकी पार्टी खुलेआम आतंकवादियों को संरक्षण देती थी, पूर्व डीजीपी ने कहा, इन्हीं अखिलेश यादव ने आतंकवादियों का केस वापस लिया था बाराबंकी में जिन्होनें 14-15 वकीलों को मारा था कचहरी ब्लास्ट करके।

पूर्व डीजीपी ( Ex DGP Brijlal ) ने अखिलेश यादव पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, एक आतंकवादी खालिद मुजाहिद जब फैजाबाद से आ रहा था बाराबंकी में 18 मई को लू से मर गया तो इन्होनें मेरे खिलाफ और उस समय के डीजीपी विक्रम सिंह समेत ४२ अधिकारियों के खिलाफ मर्डर का मुकदमा कायम किया था.