राजस्थान: दलित युवक की कुरैशी और उसके साथियों ने पीट-पीटकर की हत्या, भीम आर्मी खामोश क्यों?

राजस्थान के झालावाड़ में एक युवक को कुछ गुंडों ने बीच सड़क पर इस कदर बेरहमी से पीटा कि उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई, मृतक युवक की पहचान दलित युवक कृष्णा वाल्मिकी के रूप में हुई, जबकि गुंडे मुस्लिम समुदाय के बताये जा रहे हैं, दलित युवक की बेरहमी से हुई पिटाई पर दलितों की कथित मसीहा Bhim Army खामोश है, Bhim Army की चुप्पी पर सवालिया निशान भी लग रहे हैं, अगर यह घटना किसी भाजपा शासित प्रदेश में हुई होती, पीटने वाले मुस्लिम न होते तो अबतक Bhim Army सड़कों पर उतरकर आंदोलन करने की धमकी दे रही होती।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, दो पक्षों के बीच हुए विवाद में 1 जुलाई 2021 को हल्दीघाटी रोड पर कृष्णा पर जानलेवा हमला हुआ था। मंगलवार (6 जुलाई 2021) को उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें मानवता के दुश्मन दलित युवक को लाठी-डंडों से बेरहमी से पीटते हुए नजर आ रहे हैं. वीडियो में देख सकते हैं कि कृष्णा जमीन पर गिरा हुआ है। वहीं बाकी सारे आरोपित उस पर लाठी चला रहे हैं। राजस्थान में इतनी बड़ी घटना हो जाने के बावजूद तथाकथित दलित चिंतक मौन साधे हैं.

पुलिस ने इस संबंध में अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान सागर कुरैशी, रईस, इमरान, सोहेल, शाहिद कुरैशी और अख्तर अली के तौर पर हुई है। मामला दो समुदायों से जुड़ा होने के कारण इलाके में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है।

कृष्णा वाल्मिकी मोची मोहल्ला का निवासी था। उसकी सूरजपोल दरवाजा क्षेत्र में रहने वाले सागर कुरैशी से लड़ाई थी। इसी का बदला लेने के लिए सागर अपने एक दर्जन साथियों के साथ हल्दीघाटी रोड पर आया और कृष्णा को बुरी तरह पीटकर फरार हो गया। ईलाज के दौरान दलित युवक की मौत हो गई. इस घटना पर सेकुलर गैंग ने चुप्पी साध रखी है. चुप्पी की वजह, आरोपियों का मुस्लिम होना।