पाकिस्तान में 60 हिन्दुओं को जबरन कबूल करवाया गया इस्लाम, ज्यादातर थे SC, लेकिन दलित चिंतक खामोश

पाकिस्तान में धर्म परिवर्तन का घिनौना खेल लगातार जारी है, सिंध प्रान्त में एक बार फिर एक साथ 60 हिन्दुओं का जबरन धर्म परिवर्तन ( Conversion 60 Hindu in Pakistan ) करा उन्हें इस्लाम कबूल करवा दिया गया, इस्लाम में परिवर्तित किये गए, सभी दलित हिन्दू थे, इसके बादवजूद भारत के दलित चिंतक खामोश हैं, जबकि यही दलित चिंतक CAA का विरोध करने में पीछे नहीं हटते, सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत पटेल ने ट्वीट कर कहा, पाकिस्तान में 60 हिन्दुओं को इस्लाम कबूल ( Conversion 60 Hindu in Pakistan ) करवा दिया गया। वे जिस जमींदार के खेत में काम करते थे उसनें जबरन धर्मान्तरित कर दिया। वे सभी SC थे। मैं भारत के कथित लिबरल मुसलमानों और दलित चिंतकों से पूंछता हूं कि क्या इसके विरोध में कुछ कहेंगे या पाक का आंतरिक मामला बोलकर छोड़ देंगे?

मिली जानकारी के मुताबिक, इस्लामिक मुल्क पाकिस्तान में सिंध प्रांत के मीरपुर और मीठी इलाके में 60 हिंदुओं को एक साथ जबरन इस्लाम कबूल ( Conversion 60 Hindu in Pakistan ) करवाया गया है जिसका वीडियो भी सामने आया है. वीडियो 7 जुलाई 2021 का बताया जा रहा है जिसमें हिंदुओं को बैठाकर मौलवी कलमा (इस्लाम की शपथ) पढ़ा रहा है. यह वीडियोे पाकिस्तान के सिंध के मतली नगर समिति के अध्यक्ष अब्दुल रऊफ निजामनी ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर शेयर किया है जिसको पोस्ट करते हुए कैप्शन में लिखा कि- अल्हम्दुलिल्लाह आज मेरी निगरानी में 60 लोग मुसलमान हुए हैं, इनके लिए दुआ करें.


बड़े पैमाने पर हुए इस धर्म परिवर्तन के पीछे सिंध के कुख्यात मौलवी मियां मिट्ठू और अब्दुल रऊफ निजामनी का हाथ बताया जा रहा है. मिया मिट्ठू पाकिस्तान में गरीब हिंदू लड़कियों के अपहरण और जबरन धर्मांतरण के लिए कुख्यात है.

पाकिस्तान में हिन्दुओं की आबादी लगभग 40-45 लाख है जोकि इस मुल्क का महज 2 फीसदी है, अधिकाँश हिन्दू पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में ही रहते हैं, पाकिस्तान में धर्म परिवर्तन रोकने के लिए कोई मजबूत कानून नहीं है, अगर ऐसे ही हिन्दुओं को जबरन इस्लाम कबूल करवाया जाता रहा तो जल्द ही वो दिन दूर नहीं जब पाकिस्तान में हिन्दुओं का नामोनिशान मिट जाएगा।