चाचा पशुपति पारस के केंद्रीय मंत्री बनने से गुस्साए चिराग पासवान, खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा

कल नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ, लोजपा नेता और चिराग पासवान के चाचा भी केंद्रीय मंत्री बन गए, चाचा के मंत्री बनने से चिराग बहुत दुःखी हैं और अब उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, लोक जनशक्ति पार्टी के चिराग पासवान के नेतृत्व वाले धड़े ने लोकसभा अध्यक्ष के अपने चाचा पशुपति कुमार पारस को पार्टी के नेता के रूप में मान्यता देने के फैसले के खिलाफ बुधवार को दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया। बुधवार को पारस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री के रूप में शामिल किया गया। Chirag Paswan Pashupati Paras

बता दें कि पिछले महीनें लोजपा के छह लोकसभा सांसदों में से पांच ने चिराग पासवान के खिलाफ बगावत कर दी और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से कहा कि उन्होंने पारस को संसद में पार्टी के नेता के रूप में चुना है। यह कदम प्रभावी रूप से पासवान के खिलाफ तख्तापलट था, जो छठे लोजपा सांसद हैं। बिड़ला ने पारस को लोकसभा में लोजपा के लीडर के रूप में स्वीकार किया था। Chirag Paswan Pashupati Paras

पासवान का दावा है कि लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के 75 सदस्यों में से 66 सदस्य उनका समर्थन करते हैं और इसलिए पारस का राष्ट्रीय अध्यक्ष होने का दावा चुनाव आयोग या अदालत में नहीं टिकेगा टिकेगा। Chirag Paswan Pashupati Paras


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चिराग पासवान ने कहा, “लोक जनशक्ति पार्टी ने आज लोकसभा के माननीय अध्यक्ष के उस फैसले के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की है, जिसमें निष्कासित सांसद पशुपति पारसजी को सदन में लोजपा का नेता माना गया था।

चिराग पासवान ने कल ट्वीट कर था कि ‘पार्टी विरोधी और शीर्ष नेतृत्व को धोखा देने के कारण लोक जनशक्ति पार्टी से पशुपति कुमार पारस जी को पहले ही पार्टी से निष्काषित किया जा चुका है और अब उन्हें केंद्रीय मंत्री मंडल में शामिल करने पर पार्टी कड़ा ऐतराज दर्ज कराती है। प्रधानमंत्री जी के इस अधिकार का पूर्ण सम्मान है कि वे अपनी टीम में किसे शामिल करते हैं और किसे नहीं।लेकिन जहां तक LJP का सवाल है श्री पारस जी हमारे दल के सदस्य नहीं हैं।पार्टी को तोड़ने जैसे कार्यों को देखते हुए उन्हें मंत्री, उनके गुट से बनाया जाए तो LJP का कोई लेना देना नहीं है.