केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत की मंत्रिपद से हुई छुट्टी, 8 राज्यों में बदले गए राज्यपाल

मोदी सरकार 2.0 के पहले मंत्रिमंडल विस्तार से पहले केंद्रीय मंत्री थावरचन्द गहलोत की मंत्रिपद से छुट्टी कर दी गई है, कर्नाटक का राज्यपाल के रूप में उन्हें अब नई जिम्मेदारी दी गई है, इसके अलावा 7 और राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति हुई है, थावरचंद गहलोत, जो भाजपा के राज्यसभा सांसद थे, कर्नाटक के राज्यपाल के रूप में कार्यभार संभालेंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल, हरि बाबू कमभमपति को मिजोरम का राज्यपाल, मंगूभाई छगनभाई पटेल को मध्य प्रदेश का राज्यपाल और राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया। Changed governors in 8 states

मिजोरम के राज्यपाल पीएस श्रीधरन पिल्लई को गोवा का राज्यपाल, हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा का राज्यपाल, त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस को झारखंड का राज्यपाल और हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय को हरियाणा का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। Changed governors in 8 states

इसी महीनें मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है, सूत्रों के मुताबिक़, 17 से 22 मंत्रियों को मोदी कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है, एनडीए की सहयोगी जेडीयू, एलजेपी और अपना दल को मोदी कैबिनेट में जगह मिलने की अटकलें लगाई जा रही हैं, जानकारी के मुताबिक़, मोदी कैबिनेट में अभी 28 मंत्रियों की जगह खाली है, वर्तमान में मोदी कैबिनेट में 53 मंत्री हैं, किस राज्य से कितने नए मंत्री बनेंगे यह भी फॉर्मूला लगभग तय हो चुका है. Changed governors in 8 states

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, भाजपा के सभी लोकसभा और राज्यसभा सांसदों को दिल्ली बुलाया गया है, कल से सभी को दिल्ली में रहने के लिए कहा गया है, बताया जा रहा है कि मंत्रिमंडल में करीब 22 नए चेहरे शामिल हो सकते हैं, ज्योतिरादित्य सिंधिया और वरुण गांधी भी मंत्री बनाये जा सकते हैं..यूपी से 3 से ज्यादा मंत्री आ सकते हैं, बिहार कोटे से 3, लद्दाख से एक मंत्री शपथ ले सकता है, जम्मू कश्मीर से एक और बंगाल से 2 मंत्री बनाये जा सकते हैं, आगामी उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए भाजपा अपना दल प्रमुख अनुप्रिया पटेल को भी मंत्री बना सकती है. महाराष्ट्र से भी 1-2 मंत्री बनाये जा सकते हैं. 8 जुलाई तक मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार तय माना जा रहा है..