मोदी ने मंत्रिपद से हटाया तो बाबुल सुप्रियो ने सांसद पद भी छोड़ा, TMC को देते थे कड़ी टक्कर

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से हटाया तो कुछ दिनों बाद बाबुल सुप्रियो ( Babul Supriyo Resign ) ने राजनीति से संन्यास लेने का ऐलान कर दिया। उन्होंने कहा कि वह सांसद पद से भी इस्तीफा देंगे, बाबुल इस समय बंगाल के आसनसोल से भाजपा के सांसद हैं, बाबुल सुप्रियो ( Babul Supriyo Resign ) ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, “अलविदा। मैं किसी राजनीतिक दल में नहीं जा रहा हूं। टीएमसी, कांग्रेस, सीपीआई (एम) ने मुझे किसी ने नहीं बुलाया है, मैं कहीं नहीं जा रहा हूं … सामाजिक कार्य करने के लिए राजनीति में होने की आवश्यकता नहीं है..

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में पहले वामपंथियों, अब टीएमसी वालों का सिक्का चलता hai, भाजपा वालों को बहुत रिस्क रहता था, इसके बावजूद इन सबकी परवाह न करते हुए बाबुल सुप्रियो भाजपा के लिए टीएमसी से लोहा लेते रहे, मंत्रिपद से हटाए जानें के बाद बाबुल सुप्रियो निराश हो गए और अंत में उन्होंने राजनीति से संन्यास लेने का फैसला लिया।

बाबुल सुप्रियो ( Babul Supriyo Resign ) पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में टॉलीगंज से चुनाव लड़े थे, वहां से उन्हें हार का सामना करना पड़ा, कुछ दिनों बाद भाजपा ने बाबुल सुप्रियो को केंद्रीय मंत्रिपद से भी हटा दिया था, कुछ महीनों के अंदर बाबुल सुप्रियो को डबल झटका लगा, शायद इस झटके को वह झेल नहीं पाए और राजनीति से सन्यास का ऐलान कर दिया।


दो बार के सांसद बाबुल सुप्रियो उन 12 मंत्रियों में शामिल थे, जिन्हें 7 जुलाई को एक फेरबदल के तहत प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल से हटा दिया गया था। फेसबुक पर बंगाली में पोस्ट लिखकर बाबुल सुप्रियो ने कहा, राजनीति में रहना और सामाजिक कार्य करना संभव नहीं है। मुझे अपने आप को व्यवस्थित करना है..पिछले कुछ दिनों में, मैं अमित शाह और जेपी नड्डा जी के पास गया हूं, मैंने उन्हें वही बताया है जो मुझे लगता है।”

“मैं उनके प्यार को कभी नहीं भूलूंगा और इसलिए मैं उनके पास नहीं जा सकता, मेरे पास उनके पास जाने और यह कहने की हिम्मत नहीं है। मैंने तय कर लिया है कि मैं क्या करूंगा; मैंने बहुत पहले ही फैसला कर लिया था कि अगर मैं अभी जाऊं तो वे महसूस कर सकते हैं कि मैं सौदेबाजी कर रहा हूं और जब यह सही नहीं है तो मैं नहीं चाहता कि उनके पास गलत विचार हो। मैं प्रार्थना करता हूं कि वे मुझे गलत न समझें।