एक्शन में असम पुलिस, मर्डर के आरोपी अब्दुल खालिक को किया ढ़ेर, हथियार छीनकर भागने की कोशिश कर रहा था

image credit - Indian Lekhak
image credit - Indian Lekhak

जब से हिमंता बिस्व सरमा ने असम के मुख्यमंत्री पद की कुर्सी संभाली है तबसे Assam police फुलफॉर्म में है, असम पुलिस ने चिरांग जिले में हत्या के दो मामलों में वांछित कॉन्ट्रैक्ट किलर को मार गिराया। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, पुलिस ने कहा कि गोलीबारी तब हुई जब आरोपी ने एक पुलिस अधिकारी से बंदूक छीनने और भागने की कोशिश की। एक हफ्ते में किसी आरोपी पर पुलिस फायरिंग की यह दूसरी घटना है। इससे कुछ घंटों पहले डिब्रूगढ़ में एक मवेशी चोर के पैर में गोली मार दी गई।

20 वर्षीय अब्दुल खालिक को होमगार्ड के कर्मचारी इयाद अली की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया था, पुलिस अधिकारी एसपी गौरव उपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा, “हमारी जांच में, हमने पाया कि सफीउर रहमान ने निजी दुश्मनी के कारण होमगार्ड के खिलाफ 1.5 लाख रुपये के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे और दो हत्यारों अयूब और अब्दुल ने उसे मार डाला था। “घटना की रात, अब्दुल, ने अयूब के साथ भंडारा के पास इयाद पर हमला किया।

पुलिस ने जब अब्दुल को गिरफ्तार कर लिया तो ले जाते समय उसने पुलिस की बंदूक छीनकर फायरिंग की, इसके बाद जवाबी कार्यवाही में मारा गया, गोली लगने से घायल अब्दुल को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया।

पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, 1 जून से Assam police की गोलीबारी में 15 लोग घायल हो गए और तीन की मौत हो गई, जबकि पांच कथित पशु चोर पुलिस फायरिंग में घायल हो गए, जबकि सात अन्य – बलात्कार, नशीले पदार्थों की तस्करी के दो आरोपितों को गिरफ्तार किया गया।

Assam police ने पिछले 2 महीनें के अंदर 12 खूंखार अपराधियों को एनकाउंटर में ढ़ेर कर दिया। ये सब वो अपराधी थे जिनपर पुलिस कभी सख्ती से एक्शन नहीं लेती थी, 10 मई को नई सरकार के सत्ता में आने के बाद अपराधियों की ताबड़तोड़ ठुन्काइ से विपक्ष भी बहुत आहत है, विपक्ष पर आरोप लगाया है कि हिमंत सरमा के नेतृत्व वाले शासन के तहत असम पुलिस “ट्रिगर हैप्पी” हो गई है। हालांकि, असम पुलिस ने विपक्ष के आरोप का खंडन करते हुए निराधार बताया है.