नेपाल ने ठोंका योग पर दावा, चीनी चमचे PM केपी ओली बोले- योग की उत्पत्ति नेपाल में हुई

देश-दुनिया में आज सातवाँ ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ मनाया जा रहा है, इस अवसर पर नेपाल के प्रधान मंत्री व् चीन के चमचे केपी शर्मा ओली ने यह दावा करके एक और विवाद खड़ा कर दिया है कि योग की उत्पत्ति भारत में नहीं बल्कि उनके देश ( Yoga Originated in Nepal ) में हुई थी। नेपाल के पीएम केपी ओली ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर अपने संबोधन में कहा, “एक राष्ट्र के रूप में भारत के अस्तित्व से बहुत पहले, नेपाल में योग का अभ्यास किया जाता था और किया जाता रहा है। योग की उत्पत्ति भारत में नहीं हुई। जब योग की खोज हुई थी तब भारत का गठन नहीं हुआ था। भारत जैसा कोई देश नहीं था क्योंकि नेपाल में योग के प्रचलन में आने के समय कई सीमांत राज्य थे। इसलिए, योग की उत्पत्ति नेपाल या उत्तराखंड में हुई…( Yoga Originated in Nepal )

चीनी चमचे ओळी ने कहा, हमने योग की खोज करने वाले अपने संतों को कभी श्रेय नहीं दिया…हम हमेशा इस या उस प्रोफेसरों और उनके योगदान के बारे में बात करते थे। हम अपना दावा ठीक से नहीं रख सके। हम इसे दुनिया भर में नहीं ले जा सके। भारतीय प्रधान मंत्री (नरेंद्र) मोदी ने उत्तरी गोलार्ध में वर्ष के सबसे लंबे दिन पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का प्रस्ताव देकर इसे प्रसिद्ध किया। तब इसे अंतर्राष्ट्रीय पहचान मिली। नेपाल के पीएम ने कहा कि हिमालयी देश प्रसिद्ध संतों और महर्षियों जैसे पतंजलि, कपिलमुनि और चरक की भूमि है। ( Yoga Originated in Nepal )

इस मौके पर नेपाल के पीएम ने अपने विवादास्पद दावे को भी दोहराया कि भगवान राम का जन्म उनके देश में हुआ था। ओली ने पहले यह कहकर एक और विवाद छेड़ दिया था कि भगवान राम का जन्म नेपाल के चितवन जिले के मादी क्षेत्र या अयोध्यापुरी में हुआ था, न कि भारत के अयोध्या में। उन्होंने वहां भगवान राम, सीता, लक्ष्मण और अन्य के विशाल मंदिरों के निर्माण का भी आदेश दिया था।