RSS के लिए युवावस्था में छोड़ा परिवार, अब हैं BJP के महासचिव ( संगठन ), जानिए कौन हैं BL संतोष

BL संतोष, image credit - thehindubusinessline

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव ( संगठन ) BL संतोष इस समय चर्चा में हैं, चर्चा में रहने की वजह यह है कि भाजपा आलाकमान ने बीएल संतोष को उत्तर प्रदेश भाजपा में चल रहे गतिरोध को ख़त्म करने की जिम्मेदारी दी गई है, बीएल संतोष यूपी का दौरा करके दिल्ली वापस लौट आये हैं, अब अपनी रिपोर्ट आलाकमान को सौंपेंगे। बीएल संतोष जब इतने चर्चा में ही हैं तो आइये जान लेते हैं ये हैं कौन.

बीएल संतोष का पूरा नाम है, बोम्माराबेट्टु लक्ष्मीजनार्दन ( Bommarabettu Laxmijanardhana Santhosh ), ये मूल रूप से कर्नाटक के Hiriadka, Udupi जिले के रहने वाले हैं, BL संतोष संघ के बड़े नेता और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बेहद करीबी हैं, अमित शाह ने ही इन्हें भाजपा का महासचिव ( संगठन ) पद पर शुभोभित किया था, भाजपा में राष्ट्रीय महासचिव कोई भी बन सकता है, लेकिन महासचिव ( संगठन ) का पद सिर्फ एक होता है.

भाजपा में कोई कितना भी कड़ा कद्दावर नेता क्यों न हो, लेकिन सर्वोच्च फैसले लेने का अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पास होता है, फैसले को अमलीजामा पहनाने का काम करते हैं महासचिव ( संगठन ), बीजेपी में राष्ट्रीय अध्यक्ष के बाद महासचिव ( संगठन ) दूसरा शक्तिशाली व्यक्ति होता है, यानि BL संतोष जेपी नड्डा के बाद पार्टी के दूसरे शक्तिशाली व्यक्ति हैं.

एक और जानने लायक बात यह है कि भाजपा का महासचिव ( संगठन ) पद की जिम्मेदारी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ( आरएसएस ) के पूर्णकालिक प्रचारक को ही दी जाती है, इससे पहले रामलाल 13 सालों तक भाजपा के महासचिव ( संगठन ) थे, रामलाल के स्थान पर ही अमित शाह ने अध्यक्ष रहते हुए बीएल संतोष को यह जिम्मेदारी दी, बीएल के कामकाज को देखते हुए नड्डा ने उनका कार्यकाल बढ़ा दिया है.

बीएल संतोष हमेशा हाफ शर्ट, धोती और माथे पर तिलक लगाए हुए नजर आते हैं, बीएल संतोष पेशे से केमिकल इंजीनियर रहे हैं. लेकिन आरएसएस की विचारधारा से इस कदर प्रभावित हुए कि उन्होंने अपना घर परिवार सब छोड़ दिया आरएसएस के लिए और फिर आरएसएस के पूर्णकालिक प्रचारक बन गए.

अपने कौशल, कुशल निर्णय लेने और नवीन विचारों के लिए जाने बीएल संतोष जानें जाते हैं, लो प्रोफ़ाइल रहने वाले संतोष पर्दे के पीछे जबरदस्त रणनीति बनानें में माहिर हैं, बीएल संतोष को कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा के उत्तराधिकारी के रूप में भी देखा जाता है,

50 वर्षीय बीएल संतोष दक्षिण के कई राज्यों में आरएसएस प्रचारक की भूमिका निभाए चुके हैं, पहली बार पूर्णकालिक प्रचारक के रूप में बीएल संतोष की नियुक्ति मैसूरु में की गई थी, उसके बाद 1997-1998 में शिवमोग्गा और फिर 2000 की शुरुआत में दो से तीन वर्षों के लिए बैंगलोर में स्थानांतरित किया गया था। उसके बाद दक्षिण के अन्य राज्यों में, 2008 तक बीएल संतोष सक्रिय राजनीति से दूर रहे.

संघ की पोशाक में BL संतोष
संघ की पोशाक में BL संतोष

हालाँकि उसके बाद बीएल संतोष की किस्मत राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा की तरह चमकी, जैसे दो सीटों से भाजपा केंद्र की सत्ता में पहुँच गई, उसी प्रकार बीएल संतोष सीधे भाजपा के महासचिव ( संगठन ) के पद पर पहुंचे, राजनीतिक गलियारों में कुछ लोगों का मानना है कि संतोष के पास सीएम येदियुरप्पा से ज्यादा ताकत है।

आरएसएस में होने के नाते, बीएल संतोष ने कभी विधायक, एमएलसी या सांसद बनने की इच्छा जाहिर नहीं की, वे केवल संगठन के विस्तार में लगे रहते थे, संगठन के प्रति बीएल संतोष के समर्पण को देखते हुए भाजपा ने पार्टी में दूसरे नंबर की जिम्मेदारी दी.