फ्री बिजली-पानी के नाम पर AAP को वोट देकर फंस गए दिल्लीवाले, गर्मीं में पानी की किल्लत से बेहाल हैं अब

कोरोना काल में दिल्ली वालों को दोहरी मार झेलनी पड़ी है, एक तो कोरोना वायरस कहर बरपा रहा है, ऊपर से पानी की किल्ल्त ( water scarcity in delhi ) ने दिल्ली वालों का जीना मुहाल कर दिया है, चिलचिलाती गर्मीं में दिल्ली वालों को पानी के लिए लम्बी लाइन लगानी पड़ रही है, जैसे ही टैंकर आता है, लोग अपनी जान की परवाह न करते हुए टूट पड़ते हैं, जो जिस हालत में रहता है, उसी हालत में टैंकर की ओर दौड़ पड़ता है, इसका ताजा दृश्य दिल्ली के चाणक्यपुरी से सामने आया है, तस्वीरों से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि दिल्ली में पानी की कितनी समस्या है.

दिल्ली के चाणक्यपुरी में संजय कैंप धौला कुआं में पानी की भारी किल्लत है, लोग 6 से 8 घंटे तक चिलचिलाती गर्मी में बैठकर पानी के टैंकर के आने का इंतजार करते हैं। टैंकर आता है तो सब टूट पड़ते है, 7-8 घंटे बैठकर इंतजार करने के बावजूद भी कुछ लोगों को बिना पानी के ही लौटना पड़ता है. ( water scarcity in delhi )

गौरतलब है की साल 2020 में दिल्ली का विधानसभा चुनाव संपन्न हुआ। आम आदमी पार्टी की सरकार बनी और अरविन्द केजरीवाल लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बनें। इस चुनाव को केजरीवाल ने टोटल फ्री बिजली-पानी के मुद्दों पर लड़ा था। जिसमें सफलता भी मिली।


फ्री बिजली-पानी के लालच में आकर दिल्लीवालों ने प्रचंड बहुमत से केजरीवाल को एक बार फिर से दिल्ली की कमान सौंप दी। हालाँकि लोगों को अब पानी के लिए रोना पड़ रहा है। गर्मीं में लम्बी-लम्बी लाइनें लगानी पड़ रही हैं। पॉवर कट भी खूब हो रहा है। कोरोना काल में बिजली-पानी की किल्ल्त से दिल्लीवाले काफी ज्यादा परेशान हैं। क्योंकि गर्मीं दिन-प्रतिदिन दिन अपना विकराल रूप दिखाना शुरू कर चुकी है।

कड़कड़ाती धूप में पानी के लिए ( water scarcity in delhi ) लाइन में खड़े लोगों का कहना है की, इससे अच्छा था की हम पैसे देकर ही पानी ले लेते। इस गर्मीं में लाइन तो न लगानी पड़ती। ऐसे फ्री पानी का क्या फायदा। एक तरह से यह कहा जाय तो दिल्लीवाले अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।