Twitter इण्डिया के मैनेजिंग डायरेक्टर को UP पुलिस ने भेजा नोटिस, 72 घंटे के अंदर पेश होने का आदेश

माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के बाद अब यूपी पुलिस ने ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर महेश माहेश्वरी को नोटिस भेजकर 24 जून को लोनी (गाजियाबाद) सीमा पुलिस स्टेशन में पेश होने को कहा है, ऐसा न करने पर सख्त कार्रवाई की जा सकती है. दरअसल गाज़ियाबाद के फर्जी वीडियो को Manipulated media न दिखाने पर UP पुलिस ने ट्विटर पर FIR दर्ज की है, गौरतलब है कि गाजियाबाद के एक मुस्लिम अब्दुल समद का वीडियो वायरल हुआ था, वीडियो म्यूट था, दावा किया जा रहा था कि मुस्लिम होने के नाते उनके साथ मारपीट की गई और जबरन उनकी दाढ़ी काट दी गई, पुलिस जांच में सामने आया कि न तो मौलवी से जय श्री राम बोलने के लिए कहा गया और न ही उसके साथ मुस्लिम होने की वजह से मारपीट की गई. मामला नकली ताबीज बनाकर ठगी से उपजे विवाद का था, जिसे सांप्रदायिक रंग दिया गया. इतना ही नहीं आरोपी और पीड़ित पक्ष एक ही धर्म के हैं. यानि उसके बिरादर वालों ने ही पीटा। इसके बावजूद ट्विटर ने Manipulated media का टैग नहीं चिपकाया। UP Police Notice Twitter

लोनी बॉर्डर के इंचार्ज इंस्पेक्टर ने ट्विटर इंडिया के एमडी मनीष माहेश्वरी को लिखे पत्र में कहा, “मुझे आपका 18 जून का ईमेल मिला, जो स्पष्ट करता है कि आप महत्वपूर्ण जांच में सहयोग करने से बचने की कोशिश कर रहे हैं। आपके द्वारा किया गया स्पष्टीकरण किसी भी तरह से उचित नहीं है. आप भारत में ट्विटर के प्रतिनिधि हैं, इसलिए आप भारतीय कानूनों से इस जांच में सहयोग करने के लिए बाध्य हैं। UP Police Notice Twitter

गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में ट्विटर इंडिया और समाचार वेबसाइट द वायर को नोटिस जारी किया है, जिसमें कुछ पत्रकारों और कांग्रेस के नेताओं पर भी सांप्रदायिक अशांति फैलाने के इरादे से वीडियो साझा करने का आरोप लगाया गया है। UP Police Notice Twitter

गाजियाबाद का वीडियो कई दिनों से गलत दावों के साथ ट्विटर पर प्रसारित हो रहा था, लेकिन ट्विटर ने Manipulated media का टैग नहीं लगाया। जबकि कुछ दिन पहले भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कांग्रेस का एक कथित टूलकिट शेयर किया था, इस ट्वीट पर ट्विटर ने Manipulated media का टैग चिपका दिया था, किस आधार पर ट्विटर ने ऐसा किया, इसकी जानकारी आजतक नहीं दी.