1000 ग़ैर-मुस्लिमों का धर्मांतरण कर बनाया गया मुस्लिम, UP ATS ने जहांगीर और मोहम्मद उमर को गिरफ्तार किया

यूपी पुलिस ने बड़े पैमाने पर धर्मांतरण का रैकेट चलाने वालों का ख़ुलासा करने का दावा किया, ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने 2 लोगों की गिरफ्तारी के बाद सोची समझी साज़िश के तहत 1000 ग़ैर मुस्लिमों को मुस्लिम बनाए जाने की जानकारी मिलने की बात कही है. उत्तर प्रदेश एंटी टेरर स्क्वाड ( ATS ) ने दिल्ली से काजी जहांगीर आलम और मोहम्मद उमर गौतम को गिरफ्तार किया है, पुलिस ने दावा किया है कि ‘धर्मांतरण के लिए इन्हें ISI और विदेशी फंडिंग होती थी’।

प्रेस-कॉन्फ्रेंस करते हुए उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एन्ड आर्डर प्रशांत कुमार ने कहा, ISI ( पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ) से फंडिंग होती थी, लगभग 1 हजार से ज्यादा लोगो को लालच देकर धर्मान्तरण करवाया गया है, उन्होंने कहा, मथुरा, वाराणसी समेत यूपी में कई धर्मांतरण करवाए गए हैं, मूक और बधिर बच्चों और कुछ महिलाओं को टार्गेट किया गया.

गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी पुत्र ताहिर अख्तर निवासी ग्राम जोगाबाई, जामिया नगर, नई दिल्ली व मोहम्मद उमर गौतम पुत्र धनराज सिंह गौतम निवासी बाटला हाउस, जामिया नगर, नई दिल्ली के रूप में हुई है। उमर ने पूछताछ में बताया कि उसने अभी तक एक हजार गैर मुस्लिम लोगों को मुस्लिम धर्म में परिवर्तित कराया है और बड़ी संख्या में उनकी मुस्लिमों से शादी कराई है।

एडीजी लॉ एन्ड आर्डर ने बताया कि ‘यूपी एटीएस को विगत कुछ समय से यह सूचना प्राप्त हो रही थी कि कुछ देश विरोधी व असामाजिक तत्व, धार्मिक संगठन या सिंडिकेट आईएसआई व विदेशी संस्थाओं के निर्देश व उनसे प्राप्त फंडिंग के आधार पर लोगों का धर्म परिवर्तन कर रहे हैं। ये लोग उनके मूल धर्म के प्रति नफरत फैलाकर उन्हें संगठित अपराध के लिए उकसा रहे थे। इस सूचना पर यूपीएटीएस ने कार्रवाई करते हुए मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी व मोहम्मद उमर को गिरफ्तार किया है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। पकड़ा गया उमर गौतम स्वयं हिन्दू से मुस्लिम में परिवर्तित होकर धर्मांतरण का अभियान चला रहा था.