यूपी ATS को बड़ी कामयाबी, 4 रोहिंग्याओं को किया गिरफ्तार, करते थे मानव तस्करी

उत्तर प्रदेश एंटी टेरर स्क्वॉड ( ATS ) ने शुक्रवार को मेरठ से चार रोहिंग्या पुरुषों को गिरफ्तार किया, जो अवैध रूप से भारत में रह रहे थे। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए व्यक्ति मानव तस्करी सिंडिकेट चला रहे थे और जाली सरकारी दस्तावेज तैयार करने में शामिल थे। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार ( up ats arrested rohingya )
किये गए रोहिंग्याओं की पहचान हाफिज शफीक उर्फ शमीउल्लाह, अजीजुल रहमान उर्फ अजीज, मुफिजुर रहमान उर्फ मुफीज और मोहम्मद इस्माइल के रूप में हुई है जो सभी म्यांमार के निवासी हैं और मेरठ में रह रहे थे।

पुलिस ने उनके पास से शरणार्थी कार्ड के लिए संयुक्त राष्ट्र के तीन उच्चायुक्त, तीन सेलफोन, एक जाली आधार कार्ड, पासपोर्ट की दो प्रतियां, लैपटॉप, पेनड्राइव और अन्य दस्तावेज बरामद करने का दावा किया है। ( up ats arrested rohingya )

पुलिस के अनुसार, पिछले कुछ दिनों से शिकायत मिल रही थी कि यूपी में एक मानव तस्करी सिंडिकेट चलाया जा रहा है और इसके सदस्य ने म्यांमार से लड़कियों सहित अन्य रोहिंग्याओं को अवैध रूप से भारत में प्रवेश करने में मदद की। पुलिस ने कहा कि सिंडिकेट के सदस्य रोहिंग्या समुदाय से थे और आधार और वोटर कार्ड और पासपोर्ट जैसे फर्जी दस्तावेज तैयार करने में शामिल थे। ( up ats arrested rohingya )

पुलिस ने कहा कि समूह विभिन्न व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में रोहिंग्याओं के लिए नौकरी की व्यवस्था भी करता था और उनके वेतन पर एक कमीशन लेता था।

इससे पहले यूपी एटीएस ने गाजियाबाद से दो रोहिंग्या मुसलामानों को गिरफ्तार किया था, गिरफ्तार किये गए दोनों रोहिंग्याओं की पहचान नूर आलम और आमिर हुसैन के रूप में हुई है, गिरफ्तार नूर आलम रोहिंग्या को अवैध तरीके से भारत में दाखिल करवाता था और उनके फ़र्ज़ी दस्तावेज भी बनवाता था। इससे पहले भी वो कई रोहिंग्या को बांग्लादेश से अवैध तरीके से भारत में दाखिल करा चुका है। फर्जी दस्तावेज बनवाने में नूर आलम का साथ कौन देता था यह भी बड़ा सवाल है.