प्रशांत भूषण के ट्वीट से मचा बवाल, ट्विटर ने भी कर दिया सेंसर

कोरोना के खिलाफ जंग में सबसे हथियार जो है वो है इंजेक्शन, देशभर में तेजी से लोगों को कोविड इंजेक्शन लगाया जा रहा है तो वहीँ सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने ट्वीट कर कहा है कि न तो मैनें कोविड इंजेक्शन लिया है, न आगे लेने का इरादा है, यही नहीं भूषण ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘स्वस्थ युवाओं में कोविड के कारण गंभीर प्रभाव या मृत्यु की संभावना बहुत कम होती है। इंजेक्शन के कारण उनके मरने की संभावना अधिक होती है। कोरोना से रिकवर होने वालों की नैचुरल इम्युनिटी, इंजेक्शन की तुलना में कहीं बेहतर होती है। इंजेक्शन उनकी नैचुरल इम्युनिटी से समझौता भी कर सकते हैं।’

माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर ने प्रशांत भूषण के इस ट्वीट को भ्रामक मानते हुए सेंसर कर दिया है, ट्विटर ने प्रशांत भूषण के ट्वीट के नीच लिख दिया, ‘यह ट्वीट भ्रामक है। पता करें कि स्वास्थ्य अधिकारी अधिकांश लोगों के लिए COVID-19 इंजेक्शन को सुरक्षित क्यों मानते हैं।


प्रशांत भूषण का कहना है कि मैं इंजेक्शन विरोधी नहीं हूं लेकिन मेरा मानना है कि प्रायोगिक और परीक्षण न किए गए इंजेक्शन को बढ़ावा देना गैर-जिम्मेदाराना है, खासकर युवा और कोविड से ठीक हुए लोगों के लिए।