गहलोत के लिए बजी खतरे की घंटी, सचिन पायलट के समर्थन में उतरे लोग, ट्रेंड हुआ, ‘#जहां_पायलट_वहां_हम

राजस्थान में एक बार फिर सियासी उठापटक शुरू हो गई है, सचिन पायलट ने दिल्ली दरबार यानि सोनिया गांधी-राहुल गांधी के के दरबार में अर्जी दी है लेकिन अभी तक पायलट की सुध लेने वाला कोई आगे नहीं आया है, हालाँकि सोशल मीडिया पर सचिन पायलट को जमकर समर्थन मिल रहा है, जी सीएम अशोक गहलोत के लिए खतरे की घंटी हो सकता है, ट्विटर पर इस समय #जहां_पायलट_वहां_हम टॉप ट्रेंड हो रहा है, अगर पायलट को मिल रहा यह समर्थन गांधी परिवार को दिख गया तो राजस्थान में उनका कद बढ़ सकता है और गहलोत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. ( Sachin Pilot Ashok Gehlot)

अशोक गहलोत से बगावत करने के बाद सचिन पायलट एक साल से भी कम समय में दूसरी बार गाँधी परिवार का दरवाजा खटखटाने दिल्ली आये हैं, पायलट शुक्रवार को जयपुर से दिल्ली के लिए रवाना हुए थे, खबर है कि आज उनसे प्रियंका गांधी वाड्रा मुलाक़ात कर सकती हैं, लेकिन अभी इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. ( Sachin Pilot Ashok Gehlot)

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा, “अब 10 महीने हो गए हैं। मुझे आश्वाशन दिया गया था कि समिति द्वारा त्वरित कार्रवाई की जाएगी, लेकिन अब आधा कार्यकाल पूरा हो चुका है, और उन मुद्दों का समाधान नहीं किया गया है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमें जनादेश दिलाने के लिए काम करने वाले और अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले पार्टी के कई कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं हो रही है। ( Sachin Pilot Ashok Gehlot)

कहा जा रहा है कि पायलट अपने गुट के कम से कम 6 विधायकों को मंत्री बनाना चाहते हैं, इसी मसले को लेकर गांधी परिवार से मुलाक़ात करने दिल्ली आये हैं, पायलट ने हिन्दुस्तान टाइम्स को बताया कि कांग्रेस आलाकमान उन वादों को पूरा करने में विफल रहा है जो उनसे किए गए थे जब वह 18 विधायकों के साथ एक महीने के लंबे ड्रामे के बाद पार्टी में लौटे थे।

पायलट के करीब ने ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पूर्व उपमुख्यमंत्री प्रियंका गांधी के संपर्क में हैं और उन्होंने उन्हें मुद्दों को हल करने का आश्वासन दिया है और उन्हें धैर्य रखने को कहा है।