राहुल गांधी ने मोदी के विकास मॉडल को बताया दर्दनाक विकास मॉडल, जानिए क्यों?

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार के विकास मॉडल को दर्दनाक विकास मॉडल करार दिया है, उन्होंने ट्वीट कर लिखा, 135 करोड़ की आबादी में से 80 करोड़ को ‘ग़रीब कल्याण’ के तहत मुफ़्त राशन की ज़रूरत है। मोदी सरकार के ‘विकास’ का एक और दर्दनाक उदाहरण। राहुल गांधी के कहने का मतलब यह है कि जब 135 में से 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है तो मोदी किस बात के लिए विकास का ढिंढोरा पीटते हैं, अगर वाकई में विकास हुआ होता तो इतनी ज्यादा गरीबी न होती। 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन न देना पड़ता। 80 crore free ration

बता दें कि 30 जून 2021 को राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मुफ्त में राशन देने का ऐलान किया। पीएम मोदी ने कहा की त्योहारों का ये समय, जरूरतें भी बढ़ाता है, खर्चे भी बढ़ाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए। इस योजना का लाभ 80 करोड़ लोग ले पायेंगें। 80 crore free ration


इसके आलावा पीएम मोदी ने जानकारी देते हुए बताया की बीते तीन महीनों में 20 करोड़ गरीब परिवारों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपए जमा करवाए गए हैं। इस दौरान 9 करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं। पीएम मोदी ने कहा कि एक और बड़ी बात है जिसने दुनिया को भी हैरान किया है, आश्चर्य में डुबो दिया है। वो ये कि कोरोना से लड़ते हुए भारत में, 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, यानि परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया गया। 80 crore free ration