पति निखिल जैन का चौकाने वाला खुलासा, बार-बार शादी रजिस्टर कराने से इनकार करती रही नुसरत जहाँ?

टीएमसी सांसद व् बंगाली अभिनेत्री नुसरत जहाँ ने पति निखिल जैन से नाता तोड़ लिया है, तुर्की में हुई शादी को ही नकार दिया, दुनिया की नज़रों के सामने हुई शादी को ही नुसरत जहाँ ने Invalid बता दिया। अब नुसरत के पति निखिल जैन ( nusrat husband nikhil statement) ने मुंह खोला है और चौंकाने वाला खुलासा किया है, एक बयान जारी कर निखिल ने कहा, नुसरत बार-बार शादी रजिस्टर कराने से इनकार करती रही है, इसके अलावा उन्होंने कहा, पहले नुसरत ने ही निराधार तथ्य सबके सामने रखे, उसके बाद मुझे सचाई बताने के लिए मजबूर होना पड़ा.

नुसरत जहां द्वारा भारत में अपनी शादी को अमान्य बताए जाने के बाद निखिल जैन ने एक बयान ( nusrat husband nikhil statement)  जारी कर उल्लेख किया कि उन्होंने नुसरत से कई बार शादी का पंजीकरण कराने का अनुरोध किया था लेकिन टाल दिया। निखिल ने नुसरत के आरोपों सिलसिलेवार तरीके से जवाब दिया है.

अपने बयान में नुसरत जहाँ के पति निखिल जैन ने लिखा, प्यार से, मैंने नुसरत जहाँ को शादी करने करने के लिए प्रपोज किया, जिसे उसने सहर्ष स्वीकार कर लिया और हम जून 2019 में बोडरम, तुर्की में डेस्टिनेशन मैरिज के लिए गए और उसके बाद कोलकाता में एक रिसेप्शन हुआ। हम पति-पत्नी के रूप में एक साथ रहते थे और समाज में एक विवाहित जोड़े के रूप में अपना परिचय देते थे। मैंने अपना सारा समय और संसाधन एक वफादार और जिम्मेदार पति के रूप में समर्पित किया। दोस्तों, परिवार और हमारे करीबी लोग सब कुछ जानते हैं कि मैंने उसके लिए क्या किया हालाँकि, बहुत ही कम समय में उसने मेरे साथ विवाहित जीवन के प्रति अपना दृष्टिकोण बदल दिया।

nusrat-jahan-nikhil-marriage-break-news-in-hindi
nusrat jahan nikhil

निखिल जैन ( nusrat husband nikhil statement) ने कहा, अगस्त 2020 में एक फिल्म की शूटिंग के बाद मेरी पत्नी नुसरत जहाँ का व्यवहार मेरे प्रति बदलना शुरू हो गया. साथ रहते मैनें कई बार नुसरत से शादी रजिस्टर कराने का अनुरोध किया लेकिन उन्होंन नकार दिया। 5 नवंबर, 2020 को उसने अपने निजी कीमती सामान, कागजात और दस्तावेजों के साथ बैग और सामान के साथ मेरे फ्लैट को छोड़ दिया और अपने बल्लीगंज फ्लैट में शिफ्ट हो गई और उसके बाद हम कभी भी पति-पत्नी के रूप में साथ नहीं रहे। नुसरत के जाने के बाद उनके निजी दतावेज़ों को भी उनके पास तुरंत भेज दिए गए.