अब्बा मैं अब कमल को वोट दूंगी, क्योंकि जब से योगी CM बनें हैं तबसे मैं निडर होकर कॉलेज जाती हूँ

प्रतीकात्मक तस्वीर, साभार - in.pinterest.com

यूँ तो कट्टरंपथी मुस्लिम योगी आदित्यनाथ को हेमशा से मुस्लिम विरोधी बताते आये हैं, लेकिन अब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के कामकाज को देखते हुए मुस्लिम भी उनके मुरीद होने लगे हैं, जी हाँ! एक ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के बिजनौर से सामने आया है, जहाँ एक छात्रा ने अपने अब्बा से कहा, अब मैं वोट काम को ही दूँगी, कारण जानकर अब्बा भी बेटी का समर्थन करने से खुद को रोक नहीं पाए. विधान केसरी अख़बार में छपी अख़बार के मुताबिक, अब्बा ‘अगली बार मैं कमल को वोट डालूंगी, जब यह बातें एक छात्रा के मुंह से उसके अब्बा ने सुनी तो कुछ देर तक वह न सिर्फ उसका मुंह देखता रहा बल्कि गुस्से से लाल-पीला होकर उससे कारण भी पूछने लगा. बेटी ने जो कारण बताया और कारण सुनकर यह बाप अपनी बेटी का समर्थन करने से खुद को रोक नहीं पाया’।

कमल को वोट देने की बात कहने वाली मुस्लिम छात्रा बिजनौर के एक कॉलेज से ग्रेजुएशन कर रही है, बताया जाता है कि यह दो दिन पहले अपने घर पहुंची और अब्बा से बोली कि अब्बा जब अगली बार कोई चुनाव होगा तो मैं तो अपना वोट ‘कमल के फूल’ को दूँगी, बेटी के मुंह से यह सब सुनकर पहले तो अब्बा के चेहरे की हवाइयां उड़ गई, गुस्से से लाल-पीले होकर ये क्या बक रही है तू, और क्यों योगी को वोट देगी।

अब्बा को जवाब देते हुए छात्रा ने कहा, अब्बाजान सुनो, जबसे यह साधू ( योगी आदित्यनाथ ) उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बना है, तबसे आवारा लड़के, कॉलेज के बाहर तो क्या रस्ते में भी नहीं दिखाई पड़ते। अब मैं प्रतिदिन निडर होकर कॉलेज आती-जाती हूँ, छेड़छाड़ का कोई खतरा नहीं, बेटी के मुंह से यह सुनकर अब्बाजान आवाक रह गए, उनके पास कोई जवाब नहीं था. जब खुद की बेटी पहले असुरक्षित और अब सुरक्षित महसूस करती है तो किसी पिता के पास समर्थन करने के अलावा क्या जवाब होगा।

आपको बता दें कि 2017 में योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद एंटी रोमियो स्क्वॉड शुरू किया, इनका मकसद राज्य में महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करना था.

साभार – विधान केसरी.